Home फीचर अंडरग्राउंड हो गए थे कुलदीप सेंगर, पुलिस को गनर ने बताई लोकेशन

अंडरग्राउंड हो गए थे कुलदीप सेंगर, पुलिस को गनर ने बताई लोकेशन

0 34 views
Rate this post

लखनऊ

उन्नाव गैंगरेप केस में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को आखिरकार गिरफ्तार कर लिया गया। शुक्रवार सुबह करीब 4.30 बजे विधायक को लखनऊ के इंदिरा नगर इलाके से हिरासत में लेने के बाद सीबीआई ने दिन भर की पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया। हालांकि हिरासत में लिए जाने से पहले विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने सीबीआई से बचने की कोशिश जरूर की, लेकिन इसमे कामयाब नहीं हो सके।

दरअसल, विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को गुरुवार रात जैसे ही पता चला कि सीबीआई केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू करने वाली है, वह अंडरग्राउंड हो गए। सीबीआई की टीम ने इंस्पेक्टर हजरतगंज और पुलिस फोर्स के साथ उनकी तलाश में छापेमारी शुरू की। सीबीआई गुरुवार रात करीब एक बजे सबसे पहले बहुखंडीय स्थित विधायक आवास पहुंची। बहुखंडीय में ही टीम उनके रिश्तेदार विधायक के यहां भी गई।

इसके बाद गोमतीनगर में उनके एक करीबी नेता के घर पर भी छापेमारी की गई। इसके बाद सबसे अंत में टीम ने लखनऊ पुलिस की मदद से उनके गनर से संपर्क किया। गनर ने जानकारी दी कि विधायक इंदिरानगर सी ब्लॉक स्थित अपने घर में हैं। इसके बाद पुलिस फोर्स के साथ सीबीआई टीम तड़के सवा चार बजे वहां पहुंची और विधायक को हिरासत में ले लिया।

पूछताछ के दौरान गुमराह करते रहे सेंगर
सुबह पांच बजे शुरू हुई पूछताछ के बाद विधायक सीबीआई टीम के सवालों के गोलमोल जवाब देते रहे। सीबीआई ने उनसे पीड़िता के परिवार से दुश्मनी, घटना वाले दिन उनकी लोकेशन, पीड़िता के पिता के साथ हुई मारपीट में उनकी भूमिका, तीन अप्रैल की रात हुई घटना के बाद किस पुलिस अधिकारी और कर्मचारी से बात की, इस संबंध में पूछा। सीबीआई ने पीड़िता द्वारा 11 जून को दर्ज करवाए गए गैंगरेप के मुकदमे के बारे में भी पूछताछ की।

‘राजनीतिक प्रतिद्वंदियों ने फर्जी मुकदमे में फंसाया’
विधायक ने बताया कि उनके राजनीतिक प्रतिद्वंदियों ने उन्हें फर्जी मुकदमे में फंसाया है। विधायक ने प्रधानी चुनाव की रंजिश की भी बात बताई। सीबीआई ने पीड़िता के चाचा और विधायक के बीच हुई कथित बातचीत के वायरल ऑडियो के बारे में भी पूछा। सीबीआई ने उनसे यह भी पूछा कि क्या उन्होंने पीड़िता के पिता का इलाज न होने देने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया और पीड़िता के पिता की पिटाई कराई?

उन्नाव के डीएम से भी होगी पूछताछ
सूत्रों का कहना है कि इस मामले की जांच कर रही सीबीआई टीम जल्द ही उन्नाव की तत्कालीन एसपी नेहा पांडेय और एसआईटी अफसरों से भी पूछताछ कर सकती है। इसके अलावा डीएम उन्नाव का भी पूरे मामले पर बयान दर्ज कर सकती है। इसके अलावा सीबीआई की एक टीम को उन्नाव की जिला जेल में भेजा जा सकता है, जहां जांच अधिकारी पीड़िता के पिता के साथ जेल में बंद रहे कैदियों से भी गहन पूछताछ कर सकते हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....