Home अंतरराष्ट्रीय अमेरिकी मीडिया पर बरसे ट्रंप, कहा- किम के साथ डील कम कर...

अमेरिकी मीडिया पर बरसे ट्रंप, कहा- किम के साथ डील कम कर दिखाने में लगे

0 41 views
Rate this post

वॉशिंगटन

उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन के साथ ऐतिहासिक मुलाकात से उत्साहित अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने स्वदेश लौटने के बाद इस बैठक को सकारात्मक बताते हुए कई ट्वीट किए। वहीं उत्तर कोरिया को सबसे बड़ा खतरा बताने को लेकर पूर्ववर्ती बराक ओबामा की खिंचाई करने के बाद उन्होंने अगला हमला मीडिया पर बोला और कहा कि देश का सबसे बड़ा दुश्मन फेक न्यूज है।

उन्होंने अमेरिकी न्यूज चैनलों एनबीसी और सीएनएन पर उत्तर कोरिया से हुई डील को लेकर फेक न्यूज चलाने का आरोप लगाया। ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘फेक न्यूज देखना मजेदार है, विशेषकर एनबीसी और सीएनएन पर। ये उत्तर कोरिया के साथ हुई डील को कम कर दिखाने की होड़ में लगे हैं। 500 दिन पहले वे इस डील के लिए ‘भीख’ मांगते दिख रहे थे- जैसे कि युद्ध होने वाला हो। हमारे देश का सबसे बड़ा दुश्मन फेक न्यूज है जो मूर्खों द्वारा आसानी से प्रचारित हो जाता है।’

बता दें कि बुधवार को सिंगापुर से लौटने के बाद ट्रंप ने किम जोंग के साथ अपनी मुलाकात को रोचक बताया और साथ ही दावा किया कि अब अमेरिका को उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों से कोई खतरा नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हम वॉर गेम्स न खेलकर सौभाग्य को बचाते हैं, जब तक हम अच्छे विश्वास के साथ समझौता करते हैं- जो कि दोनों पक्ष कर रहे हैं।’

उन्होंने आगे ओबामा पर हमला करते हुए कहा, ‘मेरे पद ग्रहण करने से पहले लोग मानते थे कि हम उत्तर कोरिया के साथ युद्ध करने जा रहे हैं। राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा था कि उत्तर कोरिया सबसे बड़ी और खतरनाक समस्या है। अब नहीं- रात में अच्छी नींद लीजिए।’

उल्लेखनीय है कि कुछ महीने पहले ही दोनों नेता जहां एक-दूसरे के लिए सनकी, पागल, बूढ़ा, रॉकेटमैन जैसे आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल करने से जरा भी परहेज नहीं रखते थे और परमाणु हमले की धमकी दिया करते थे, वहीं इस मुलाकात के बाद ट्रंप और किम शांति की बात कर रहे हैं। अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच संबंधों को सामान्य बनाने तथा कोरिया प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण के लिए ट्रंप और किम के बीच ऐतिहासिक वार्ता हुई है। मीटिंग के बाद नॉर्थ कोरिया के शासक किम ने नाभिकीय हथियारों के पूर्ण निरस्त्रीकरण का वादा किया है। इसके बदले अमेरिका ने भी नॉर्थ कोरिया की सुरक्षा की गारंटी ली।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....