Home फीचर अय्यर के घर मीटिंग: कांग्रेस घिरी, पूर्व सेनाध्यक्ष ने की पुष्टि

अय्यर के घर मीटिंग: कांग्रेस घिरी, पूर्व सेनाध्यक्ष ने की पुष्टि

0 123 views
Rate this post

नई दिल्ली

मणिशंकर अय्यर के घर पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री और उच्चायुक्त के साथ मीटिंग के पीएम के आरोप को कांग्रेस खारिज किया था। कांग्रेस ने पीएम की ओर से मीटिंग की बात को बेबुनियाद करार दिया था, लेकिन अब वह खुद ही इस मामले में घिरती दिख रही है। पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर ने भी खुद के इस बैठक में मौजूद रहने की पुष्टि की है। एक अखबार से बातचीत में कपूर ने कहा, ‘हां, मैं इस बैठक का हिस्सा था। इस मीटिंग में भारत-पाकिस्तान संबंधों के अलावा अन्य किसी मुद्दे पर चर्चा नहीं हुई।’

कपूर के इस बयान से साफ है कि अय्यर के घर मीटिंग हुई थी, जबकि कांग्रेस के सीनियर लीडर आनंद शर्मा ने ऐसी किसी भी बैठक से इनकार किया था। 23वें सेनाध्यक्ष के तौर पर दीपक कपूर मार्च, 2010 में अपने पद से रिटायर हुए थे। सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री खुर्शीद महमूद कसूरी के भारत दौरे के वक्त मणिशंकर अय्यर ने डिनर मीटिंग का आयोजन किया था। कसूरी ‘भारत-पाक मौजूदा संबंध’ विषय पर आयोजित एक गोष्ठी में भी हिस्सा लेने आए थे।

सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह, पूर्व सेनाध्यक्ष दीपक कपूर, पूर्व राजनयिक सलमान हैदर, टीसीए राघवन, शरत सभरवाल और के. शंकर बाजपेयी मौजूद थे। बाजपेयी, राघवन और सभरवाल पाकिस्तान में भारतीय उच्चायुक्त भी रह चुके हैं।

मोदी बोले, पटेल को सीएम बनाने की पहल पाक से क्यों?
रविवार को पीएम मोदी ने गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान इस मुद्दे को उठाया था। पीएम मोदी ने रैली में कांग्रेस से निलंबित नेता मणिशंकर अय्यर पर निशाना साधते हुए कहा था कि आखिर पाकिस्तानी उच्चायुक्त के साथ गुप्त बैठकें क्यों की गई थीं। आखिर क्यों इसके बाद पाकिस्तान के उच्च पदों पर बैठे लोग गुजरात में पटेल को सीएम बनाने के लिए सहयोग की पहल कर रहे हैं।

कांग्रेस बोली, ‘मोदी जी चिंतित, हताश और गुस्से में हैं’
इस पर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा था कि देश के सर्वोच्च पद पर बैठकर मोदी जी बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं। मोदी जी चिंतित, हताश और गुस्से में हैं। ऐसे बयान में कोई सच्चाई या तथ्य नहीं है और यह झूठ पर आधारित है। ऐसा व्यवहार प्रधानमंत्री को शोभा नहीं देता।’

दोस्तों के साथ शेयर करे.....