Home राज्य उन्नाव : लखनऊ में हाई वोल्टेज ड्रामा, बिना सरेंडर लौटे MLA सेंगर

उन्नाव : लखनऊ में हाई वोल्टेज ड्रामा, बिना सरेंडर लौटे MLA सेंगर

0 40 views
Rate this post

लखनऊ

उन्नाव जिले की बांगरमऊ सीट से बीजेपी विधायक और रेप मामले में आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर बुधवार देर रात एसएसपी आवास पहुंचे, लेकिन बिना सरेंडर किए वापस लौट गए। उन्होंने मीडिया के समक्ष अपनी बात रखी और एसएसपी के वहां मौजूद नहीं रहने की बात कहकर चले गए।

रेप के आरोपी विधायक ने एसआईटी रिपोर्ट और चौतरफा बढ़ते दबाव के बाद एसएसपी लखनऊ के पास खुद आत्मसमर्पण के लिए पहुंचे। अपने काफिले के साथ पहुंचे सेंगर ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘मैं रेप का आरोपी नहीं हूं और मैंने ऐसा कोई काम नहीं किया है लेकिन मेरे खिलाफ दुष्प्रचार किया जा रहा है। जो लोग मेरे खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं उनका इतिहास नहीं देखा गया। मैं न्यायपालिका का सम्मान करता हूं। हमारी पार्टी और शासन का जो निर्देश होगा मैं उसके आधार पर काम करूंगा।’

कुलदीप सिंह ने कहा, ‘मेरे लिए यह कहा जा रहा है कि मैं फरार हूं या कहीं चला गया हूं, लेकिन मैं सबके बीच हूं आज यहां ये ही बताने आया हूं। कुलदीप ने कहा कि अगर मेरे खिलाफ कोई अरेस्ट वॉरंट है तो मेरी गिरफ्तारी होनी चाहिए। लेकिन फिलहाल मैं सरेंडर नहीं कर रहा हूं। मुझे एसआईटी की रिपोर्ट के बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन जो कुछ सुना है वह सब मीडिया से ही सुना है।’ उन्होंने कहा कि मैं यहां मीडिया के साथियों के साथियो से मिलने आया हूं। सेंगर के साथ मे एमएलसी अक्षय प्रताप गोपाल और विधायक बसपा अनिल सिंह भी एसएसपी आवास पहुंचे

बता दें कि आरोपी विधायक पर शिकंजा कसता जा रहा था। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशों के बाद बुधवार को एडीजी राजीव कृष्णा के साथ स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) पीड़िता को लेकर उनके गांव माखी पहुंची। इसके बाद एसआईटी टीम ने मामले से जुड़े हर एक पहलू की जांच की। यही नहीं, एसआईटी की पहली रिपोर्ट तैयार हो चुकी है, जिसे सौंपने के लिए राजीव कृष्णा यूपी के डीजीपी ओपी सिंह के पास पहुंचे।

सूत्रों के मुताबिक, एसआईटी रिपोर्ट में पीड़िता के पिता से मारपीट के मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के भाई अतुल सिंह सेंगर को दोषी बताया है। इसके अलावा दोनों परिवारों के बीच लंबे समय से रंजिश के चलते आरोप-प्रत्यारोप की बात भी कही गई है। रिपोर्ट में दोनों परिवारों के बीच लंबे समय से रंजिश के चलते एक दूसरे पर आरोप मढ़ने का जिक्र किया गया है।

‘मुख्यमंत्री योगी ने दिए निर्देश’
एसआईटी की पहली रिपोर्ट में पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में पुलिस द्वारा लापरवाही की बात स्वीकार की गई है। इस बीच सूत्रों के मुताबिक, अब कुलदीप सिंह सेंगर पर आपराधिक मुकदमा जल्द दर्ज हो सकता है। सूत्रों के अनुसार, एसआईटी ने बीजेपी विधायक और रेप मामले में आरोपी कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ एफआईआर की सिफारिश की है। पूरे मामले में मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दे दिए हैं।

अमित शाह ने भी कसा पेंच
2019 चुनावों की तैयारी और सांगठनिक बैठक के लिए लखनऊ आए बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी इस मामले को लेकर प्रदेश के शीर्ष नेतृत्व का ‘पेंच कसा’। उत्तर प्रदेश बीजेपी में प्रवक्ता डॉक्टर दीप्ति भारद्वाज ने योगी आदित्यनाथ की सरकार पर बीजेपी विधायक पर लगे रेप के आरोप में फैसले लेने में बरती जा रही हीलाहवाली पर नाराजगी जाहिर की और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह से इस बात की शिकायत भी की।

विधायक कुलदीप सेंगर को BJP कर सकती है बाहर: सूत्र
उन्नाव रेप केस मामले में आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को पार्टी से निकाला जा सकता है. रेप की इस घटना के बाद बीजेपी विधायक और उनके भाई अतुल का नाम आने के बाद राज्य सरकार की किरकिरी हो रही थी. सूत्रों के मुताबिक, पार्टी आलाकमान इस पूरे मामले को लेकर काफी नाराज है. सूत्रों ने बताया कि रेप आरोपी सेंगर को पार्टी से निकाला जा सकता है.इस घटना के सुर्खियों में आने के बाद राज्य सरकार ने एसआईटी का गठन किया था, जिसमें जांच के बाद कुछ गंभीर तथ्य सामने आए.

कांग्रेस करेगी मुख्यमंत्री आवास का घेराव
इधर कांग्रेस इस मामले को लेकर कल यानि गुरुवार को मुख्यमंत्री के घर का घेराव करने की तैयारी कर ली है. महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव के साथ प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर और अन्य नेता भी इस प्रदर्शन में शामिल होंगे.

आरोपी विधायक की पत्नी हुई बेहोश
शाम को आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर की पत्नी संगीता की तबीयत बिगड़ गई. उन्हें फौरन बेहोशी की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है. सुबह ही उन्होंने यूपी के DGP ओपी सिंह से मिलकर कहा था कि उनके पति निर्दोष हैं. उनको रेप केस में जानबूझकर फंसाया जा रहा है. पीड़िता और आरोपी का नार्को टेस्ट होना चाहिए.

सुबह की गई थी पूछताछ
केस की जांच के लिए गठित एसआईटी और एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण ने बुधवार सुबह पीड़िता के गांव पहुंचकर बयान दर्ज किए. बताया जा रहा कि पीड़िता और उसके परिवार को किसी की गुप्त जगह ले जाकर पूछताछ की गई है. उन्नाव गैंगरेप केस के बारे में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने स्वयं संज्ञान लिया है. गुरुवार को चीफ जस्टिस इस मामले में सुनवाई करेंगे. कोर्ट ने यूपी सरकार को पूरी रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है.

पीड़िता ने योगी से मांगा इंसाफ
पीड़िता ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इंसाफ की मांग की है. उसका कहना है कि जिलाधिकारी ने उसको और उसके परिवार को होटल में रखा हुआ है. वहां उनको पानी तक नहीं पूछा जा रहा है. उसकी जिंदगी को नर्क बनाने वाले बीजेपी विधायक को जल्द से जल्द गिरफ्तार करना चाहिए. दोषियों को फांसी की सजा मिलनी चाहिए.

मानवाधिकार आयोग ने तलब की रिपोर्ट
इस मामले में मीडिया रिपोर्ट पर स्वत: संज्ञान लेते हुए मानवाधिकार आयोग ने प्रदेश के मुख्य सचिव और उत्तर प्रदेश के डीजीपी से विस्तृत रिपोर्ट तलब कर ली है. इसके साथ ही रिपोर्ट में ये भी जानकारी देने को कहा है कि उन पुलिस कर्मियों के खिलाफ क्या कार्रवाई हुई, जिन्होंने एफआईआर दर्ज करने से इंकार किया था.

आयोग ने कहा है कि डीजीपी बताएं कि न्यायिक हिरासत में हुई मौत की रिपोर्ट आयोग को 24 घंटे के अंदर क्यों नहीं दी गई? इस मामले में मृतक की हेल्थ रिपोर्ट भी मांगी गई है, जब वह जेल में निरुद्ध किया गया था. इसके साथ ही पूछा गया कि जेल प्रशासन की तरफ से उसका क्या उपचार किया गया. ये रिपोर्ट चार सप्ताह के अंदर आयोग को भेजनी होगी.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....