Home फीचर उन्‍नाव गैंगरेप केस: कांग्रेस के पोस्‍टर योगी दुर्योधन और मोदी धृतराष्‍ट्र

उन्‍नाव गैंगरेप केस: कांग्रेस के पोस्‍टर योगी दुर्योधन और मोदी धृतराष्‍ट्र

0 22 views
Rate this post

लखनऊ

उन्‍नाव गैंगरेप मामले में सवालों के घेरे में आई उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार पर कांग्रेस पार्टी ने तीखा हमला बोला है। इसके लिए उसने महाभारत में द्रौपदी के चीर हरण प्रकरण का सहारा लिया है। अखिल भारतीय महिला कांग्रेस ने गुरुवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक पोस्‍टर जारी कर गैंगरेप के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को दु:शासन, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ को दुर्योधन और पीएम मोदी को धृतराष्‍ट्र करार दिया।

महिला कांग्रेस ने कहा कि आज पूरे देश में बीजेपी के नेताओं से बेटी को छिपाना पड़ रहा है। बीजेपी सरकार के नेता बलात्कारियों को संरक्षण दे रहे हैं। महिला कांग्रेस के ट्वीट में कहा गया, ‘पीएम से लेकर सीएम तक उनकी आंखों के सामने हो रहे अपराधों पर चुप हैं, जो निंदनीय है। यह स्‍पष्‍ट है कि बेटी बचाओ, बीजेपी के लिए एक नारा मात्र है।’

महिला कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा, ‘यह सत्‍ता का दुरुपयोग है। वास्‍तविकता यह है कि जब लड़की ने मुख्‍यमंत्री के कार्यालय के बाहर कार्रवाई की अपील की, तो उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया गया। बाद में उसके पिता को पुलिस हिरासत में बेरहमी से पीटा गया और उनकी मौत हो गई। लड़की ने बीजेपी एमएलए कुलदीप सिंह सेंगर और उसके भाइयों पर रेप का आरोप लगाया था।’

महिला कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी और सीएम योगी आदित्‍यनाथ गैंगरेप के आरोपी विधायक को बचा रहे हैं। उसने दावा किया कि जब से बीजेपी सत्‍ता में आई है, भारत में रेप की घटनाएं बढ़ गई हैं। पीएम मोदी समेत समेत सभी वरिष्‍ठ बीजेपी नेता इस पर चुप हैं। इससे भी शर्मनाक बात यह है कि बीजेपी की महिला नेता इस बारे में कुछ नहीं बोल रही हैं।

बता दें कि इस मामले में घिरी उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ सरकार ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में दाखिल जवाब में उन्नाव गैंगरेप के आरोपी एमएलए सेंगर को फिलहाल सरकार ने क्लीन चिट दे दी है। वहीं, अदालत में इस मामले में दोनों पक्षों की बहस पूरी हो चुकी है और शुक्रवार को हाई कोर्ट अपना आदेश सुनाएगा। यूपी सरकार के महाधिवक्ता राघवेंद्र सिंह ने इलाहाबाद हाई कोर्ट में दाखिल अपनी रिपोर्ट में कहा, ‘विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य नहीं हैं। सबूत होने पर उनके खिलाफ कार्रवाई होगी। कानूनी प्रक्रिया के तहत अब तक कार्रवाई हुई है।’

दोस्तों के साथ शेयर करे.....