Home भोपाल/ म.प्र एमपी में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला जारी, एक सप्ताह में 6...

एमपी में किसानों की खुदकुशी का सिलसिला जारी, एक सप्ताह में 6 मौतें

0 24 views
Rate this post

नरसिंहपुर

मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले में कर्ज से परेशान किसान ने जहर खाकर खुदकुशी कर ली. राज्य में पिछले एक सप्ताह में कर्ज के बोझ तले दबे छह किसानों ने आत्महत्या कर ली है. इसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले का किसान भी शामिल है.

जानकारी के अनुसार, नरसिंहपुर जिले के गुड़वारा गांव में रहने वाले किसान मथुरा लोधी पर काफी कर्ज था. बैंक की एक टीम कर्ज वसूली के लिए मथुरा लोधी के घर भी पहुंची थी. परिजनों का आरोप है कि फसल से अच्छी आमदनी नहीं होने की वजह से मथुरा कर्ज लौटाने की स्थिति में नहीं था. इस बात से परेशान होकर उसने खुदकुशी कर ली.

हालांकि, पुलिस का कहना है कि खुदकुशी के कारणों का अभी खुलासा नहीं हो सका है. पुलिस कर्ज की बात से इनकार कर रही है, जबकि परिजनों का साफ कहना है कि कर्ज के चलते ही मथुरा ने जान दी है. एक दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले सीहोर में कथित तौर पर कर्ज से परेशान होकर किसान स्वरूप सिंह ने खुदकुशी कर ली. परिजनों का कहना है कि किसान ने बैंक के अलावा साहूकारों से भी कर्जा लिया था.

वहीं, रतलाम के सेजावता गांव में किसान कालूगिरी गोस्वामी ने अपने ही खेत में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. कालूगिरी गोस्वामी ने 11 लाख रुपय में अपनी जमीन बेच दी थी. खरीददार रुपय लौटाने या फिर रजिस्ट्री का उस पर दबाव बना रहे थे. परिजनों ने बताया कि कालूगिरी गोस्वामी पर कर्ज भी था. इससे परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली है.

इसी तरह धार जिले में जगदीश पाटीदार नाम के किसान ने फांसी लगा ली. बताया जा रहा है कि, कुछ समय पहले ही जगदीश ने अपनी 5 बीघा जमीन बेची थी. अभी आत्महत्या की वजह का खुलासा नहीं हो सका है. हालांकि, कर्ज होने की बात दबे स्वरों में कही जा रही है.

वहीं, उज्जैन से 70 किलोमीटर दूर गांव कडोदिया में राधेश्याम नाम के किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली. किसान राधेश्याम 2 साल से फसल के दाम नहीं मिलने और फसल खराब हो जाने के कारण परेशान चल रहा था. उस पर दो बैंकों का भी कर्जा था. इससे परेशान होकर उसने मौत को गले लगा लिया.

इससे पहले 3 मई को बुरहानपुर जिले में किसान भोलानाथ ने खेत में कीटनाशक पीकर अपनी जान दे दी. किसान भोलानाथ ने सहकारिता बैंक से लोन लिया था. बैंक के नोटिस आने से भोलानाथ काफी तनाव में था. जिसके चलते किसान ने खुदकुशी कर ली.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....