Home मिर्च- मसाला …और डिप्टी मैनेजर साहब परेशान

…और डिप्टी मैनेजर साहब परेशान

0 884 views
Rate this post

भोपाल

मटेरियल मेनेजमेंट विभाग(स्टील) के एक डिप्टी मैनेजर की डिप्रेशन में चले जाने के बाद वह और भी परेशान बताये जा रहे हैं। स्टील विभाग में यह काफी चर्चाओं में है। चर्चा है कि प्रबंधन ने चर्चाओं में आने के बाद फिर से उनका तबादला दूसरे विभाग में कर दिया है लेकिन उन्हें रिलीव नहीं कर रहे हैं। इस डिप्टी मैनेजर की ईमानदारी की चर्चा करने से विभाग के कर्मचारी थकते नहीं है। दरअसल मामला जो भी हो लेकिन यह डिप्टी मैनेजर काबिल बताये जा रहे है, पहले भेल के प्रशासनिक भवन के सेकंड फ्लोर के एएसएक्स विभाग में बेहतर काम कर रहे थे इनके काम की सभी तारीफ करते नहीें थकते थे।

प्रबंधन ने आनन-फानन में इनके विभाग में फेरबदल करते हुए एमएम स्टील भेज दिया। चर्चा है कि कुछ लोगों ने इन पर गलत काम करने का कुछ इस तरह का प्रेशर बनाया कि वह डिप्रेशन में चले गये। वैसे भी एमएम के कॉपर और स्टील के काम पहले भी काफी चर्चाओं में रहे। यहां नामी सप्लायर ही सप्लाई का काम करते हैं। वैसे तो यह विभाग भेल में मलाईदार माना जाता है। यहां के कुछ अधिकारी-कर्मचारी ज्यादातर तनाव में ही रहते है। अब डिप्टी मैनेजर साहब का तबादला स्टील से भी कर दिया है। लगता है कुछ अधिकारी इनसे डरे हुए हैं। इधर टीसीबी भी कम चर्चाओं में नहीं है। नये और पुराने विभाग में किट सप्लाई का मामला चर्चाओं में है। भले ही किट बाहर से आती है लेकिन आधी-अधूरी होने के कारण ज्यादातर काम कर्मचारियों को ही करना पड़ता है तो ऐसे में क् वालिटी के लोग सप्लाई के पहले कैसी क् वालिटी चेक करने जाते है इस पर सवालिया निशान लग गया है।

79 साल के हुए नेताजी में दम

79 साल की उम्र में पहुंचे भेल की एचएमएस यूनियन के एक नेता अमर सिंह राठौर का जन्मदिन आज धूमधाम से मनाया गया। पूरे भेल कारखाने और टाउनशिप में नेताजी की दम की चर्चाएं की जा रही है। उनके पोस्टर, बैनर और विज्ञापन देखते ही बन रहे है। पिपलानी में आयोजित नेताजी के जन्मोत्सव में भेल के कर्मचारी और नेतागण पहुंचेेंगे। 2010 में इस यूनियन को नेताजी ने प्रजातांत्रित तरीके से चुनाव कराकर प्रतिनिधि यूनियन बनने का गौरव दिलाया था, इस बात को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नेताजी की पर्सनालिटी की तारीफ हर आदमी करता नजर आ रहा है। ऐसा लगता है कि नेताजी में आज भी काम करने का भरपूर जज्बा है। चर्चा है कि अब नेताजी फिर से अगली बार प्रतिनिधि यूनियन के चुनाव में नम्बर-1 बनने का सपना देख रहे हैं, सपना साकार भी हो सकता है। यह सब नेताजी का जन्मदिन पर उनकी दमखम पर देखने को मिला। अब देखना यह है कि इस मौके का नेताजी कैसे फायदा उठाते हैं वह अगली बार कोई ऐसी भूल नहीं करेंंगे जिससे उनकी यूनियन को कोई नम्बर-1 बनने से रोक सके। होली मिलन के मौके पर उनका शक्ति प्रदर्शन भी दिखाई दिया।

भेल क्षेत्र में मंडलम ही मंडलम

गोविन्दपुरा विधान सभा क्षेत्र भले ही भाजपा का गढ़ हो लेकिन इस बार कांग्रेस अपनी पूरी ताकत लगाकर इस सीट को हथियान चाहती है। इस बार इस क्षेत्र के 18 वार्ड में जगह-जगह मंडलम के नाम पर बैठकों को दौर जारी है। जिला व स्थानीय नेता इन बैठकों के माध्यम से कांग्रेस कार्यकर्ताओं की बैठक लेकर मतदाताअंों को जगाने का आव्हान कर रहे हैं। रविवार के दिन नेताओं ने मंडलम की पांच बैठकें ली। सवाल यह खड़ा हो रहा है कि इस बार इस विधान सभा क्षेत्र से कांग्रेस का उम्मीदवार कौन होगा। इसको लेकर कई तरह के कयास लगाये जा रहे है। क्षेत्र के कांग्रेसी कहने लगे हैं कि मंडलम तो अपना काम करेगा लेकिन उम्मीदवार स्थानीय होगा या फिर बाहर से थोपा जायेगा। यूं भी स्थानीय नेता इस बार यह सीट फतह करने के लिए जी जान से कोशिश कर रहे हैं। देखना यह है कि भाजपा की गुटबाजी टिकट की बाजी कौन मारता है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....