Home फीचर कलीजियम फिर भेजेगा जस्टिस जोसेफ का नाम, फैसला कल?

कलीजियम फिर भेजेगा जस्टिस जोसेफ का नाम, फैसला कल?

0 32 views
Rate this post

नई दिल्ली

उत्तराखंड के चीफ जस्टिस केएम जोसेफ को प्रमोट कर सुप्रीम कोर्ट भेजने के मसले पर पुनर्विचार करने के लिए शुक्रवार को कलीजियम की महत्वपूर्ण बैठक हो सकती है। इससे पहले 26 अप्रैल को केंद्र सरकार ने जस्टिस जोसेफ को प्रमोट करने की कलीजियम की सिफारिश वापस भेज दी थी। केंद्र ने तर्क रखा था कि यह प्रस्ताव टॉप कोर्ट के पैरामीटर्स के तहत नहीं है। केंद्र की ओर से यह भी कहा गया था कि सुप्रीम कोर्ट में केरल से पर्याप्त प्रतिनिधित्व है, जहां से वह आते हैं। केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट के जज के तौर पर प्रमोशन के लिए उनकी वरिष्ठता पर भी सवाल उठाए थे।

आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि कलीजियम के सदस्य इस मसले को लेकर संपर्क में हैं और चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा शुक्रवार को बैठक बुला सकते हैं। हालांकि इस पर आधिकारिक रूप से कोई बयान नहीं आया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि पांच जजों के बोर्ड में मामले समाप्त होने के बाद यह बैठक किसी भी समय हो सकती है।

यहां यह जिक्र करना महत्वपूर्ण है कि सुप्रीम कोर्ट के सीनियर-मोस्ट जज जे. चेलमेश्वर ने बुधवार को चीफ जस्टिस को पत्र लिखकर कलीजियम की बैठक बुलाने को कहा था, जिससे जस्टिस केएम जोसेफ के नाम की केंद्र से दोबारा सिफारिश की जा सके। सुप्रीम कोर्ट के एक अधिकारी ने बताया कि बुधवार शाम को CJI को भेजे पत्र में जस्टिस चेलमेश्वर ने जस्टिस जोसेफ को टॉप कोर्ट के जज के तौर पर प्रमोट करने के अपने फैसले को दोहराया है क्योंकि 10 जनवरी को कलीजियम द्वारा सरकार को की गई सिफारिश के बाद परिस्थितियों में कोई बदलाव नहीं आया है।

जस्टिस चेलमेश्वर 22 जून को रिटायर हो रहे हैं। उन्होंने जस्टिस जोसेफ के प्रमोशन पर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद द्वारा खड़े किए गए सभी पॉइंट्स का जवाब CJI को भेजे अपने पत्र में दिया है। वैसे कलीजियम की बैठक पहले बुधवार को होनी थी पर जस्टिस चेलमेश्वर छुट्टी पर हैं। आपको बता दें कि CJI और जस्टिस चेलमेश्वर के अलावा कलीजियम के दूसरे सदस्यों में जस्टिस रंजन गोगोई, एमबी लोकुर और कुरियन जोसेफ शामिल हैं।

उधर, कलीजियम में शामिल जस्टिस कुरियन जोसेफ ने पिछले हफ्ते केरल दौरे के समय कथिततौर पर साफ कर दिया था कि वह उत्तराखंड के चीफ जस्टिस जोसेफ के मसले पर कलीजियम द्वारा दोबारा सिफारिश भेजे जाने के पक्ष में हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....