Home फीचर कश्मीर में सेना के अगवा जवान औरंगजेब की भी हत्या, शव मिला

कश्मीर में सेना के अगवा जवान औरंगजेब की भी हत्या, शव मिला

0 80 views
Rate this post

श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर में ईद से ठीक पहले आतंकवादियों ने कत्लेआम कर दिया है. रमजान के पाक माह में आतंकियों ने अगवा किए गए जवान औरंगजेब की हत्या कर दी. ईद की छुट्टी मनाने घर जा रहे औरंगजेब को आतंकवादियों गुरुवार दोपहर को अगवा किया था. देर रात गोलियों से छलनी जवान का शव पुलवामा जिले के गुस्सू इलाके में मिला. कुछ घंटे पहले ही आतंकवादियों ने इफ्तार में जा रहे राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या कर दी है.

पुंछ जिले के सेना में रायफलमैन औरंगजेब को गुरुवार को आतंकियों ने अगवा कर लिया था. बताया जा रहा है कि आतंकी समीर टाइगर के खिलाफ सेना ने जो ऑपरेशन चलाया था, उस ऑपरेशन में औरंगजेब मेजर शुक्ला के साथ थे.

औरंगजेब की पोस्टिंग 44RR शादीमार्ग में थी, वह पुंछ के ही रहने वाले थे. जिस दौरान वह घर जा रहे थे, तभी मुगल रोड पर उन्हें आतंकियों ने सुबह करीब 9 बजे किडनैप कर लिया था.बताया जा रहा है कि औरंगजेब सुबह नौ बजे एक प्राइवेट व्हीकल से शोपियां की तरफ आ रहे थे. तभी कलमपोरा के पास आतंकियों ने वाहन को रुकवाया और उन्हें अगवा कर लिया.

अप्रैल में मारा गया था समीर टाइगर
इसी साल अप्रैल में जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षाबलों और पुलिस ने संयुक्त ऑपरेशन में दो आतंकियों को ढेर कर दिया था. मरने वाले आतंकियों ने हिज्बुल मुजाहिदीन का टॉप कमांडर समीर टाइगर भी शामिल था.

कौन था समीर टाइगर?
गौरतलब है कि समीर टाइगर 2016 में हिज्बुल मुजाहिदीन में शामिल हुआ था. समीर पुलवामा का रहने वाला है और हिज्बुल के कई हमलों में शामिल हो चुका है. बुरहान वानी के बाद समीर को कश्मीर के पोस्टर ब्वॉय के रूप में पेश किया गया है. समीर ने आतंकी वसीम के जनाजे में शामिल होकर फायरिंग भी की थी.

कुछ घंटे पहले ही पत्रकार की हत्या की
आतंकवादियों ने गुरुवार शाम को ही राइजिंग इंडिया के संपादक शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या कर दी थी. शुजार लाल चौक के पास प्रेस एन्क्लेव स्थित अपने ऑफिस से इफ्तार पार्टी के लिए निकल रहे थे, तभी मोटरसाइकिल सवार चार आतंकियों ने उन्हें घेरकर गोलियों से छलनी कर दिया.

पुलवामा और आसपास के इलाके में आतंकी काफी सक्रिय हैं। आतंकवादियों ने बुधवार देर रात ही एक स्थानीय नागरिक और पुलिसकर्मी को भी अगवा कर लिया था। इन दोनों का अब तक कोई सुराग नहीं लग पाया है। अगवा पुलिसकर्मी की पहचान मोहम्मद इश्क अहमद के रूप में हुई है और वह एक स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) हैं। वहीं अगवा किए गए स्थानीय नागरिक की पहचान फिलहाल नहीं हो पाई है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....