Home फीचर कांग्रेस ‘ओखी’ जैसी, गुजरात में टिकेगी नहीं: मोदी

कांग्रेस ‘ओखी’ जैसी, गुजरात में टिकेगी नहीं: मोदी

0 25 views
Rate this post

अहमदाबाद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां बुधवार को कांग्रेस पर सरदार पटेल और भीमराव आंबेडकर के साथ इंसाफ न करने का आरोप लगाया। उन्होंने कांग्रेस के उस दावे पर कटाक्ष किया, जिसमें गुजरात चुनाव में जीत की बात कही जा रही है। मोदी ने चक्रवाती तूफान ओखी का जिक्र करते हुए कहा कि वह राज्य में दस्तक देने के लिए तैयार था, लेकिन दे नहीं पाया। इसी तरह कांग्रेस गुजरात में अपने पांव नहीं जमा पाएगी।

‘ओखी’ की चेतावनी की अनदेखी कर अपने तीन दिवसीय प्रचार कार्यक्रम को जारी रखते हुए प्रधानमंत्री अहमदाबाद जिले के दक्षिणी हिस्से धंधुका में थे। उन्होंने एक बार फिर इस जगह के साथ अपने रिश्ते को याद करते हुए भाषण शुरू किया। ओखी के बारे में चेतावनियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कांग्रेस की ओर इशारा किया,’जिसको लेकर बड़ा माहौल बनाया जाता है और कहा जाता है कि वह आ रहा है, वह कभी नहीं आता।’

दरअसल, कांग्रेस राज्य में प्रचार के दौरान दावा कर रही है कि वह चुनाव जीतने जा रही है। चक्रवाती तूफान मंगलवार को गुजरात की तरफ आया था, लेकिन बुधवार को कमजोर पड़ने के कारण अरब सागर से आगे नहीं बढ़ पाया। मोदी ने कहा,’हमें लगता है कि कांग्रेस ने सरदार पटेल के साथ इंसाफ नहीं किया, लेकिन मैं आपको बता दूं कि वह एकमात्र नहीं थे। एक परिवार ने संविधान के निर्माता, भीमराव आंबेडकर और उन सभी लोगों के साथ इंसाफ नहीं किया, जो राजनीति में महत्व रखते हैं। आंबेडकर को संवैधानिक निकाय चुनाव में सदस्यता लेने के लिए बंगाल के रास्ते जाना पड़ा था। कांग्रेस उन्हें भी भारत रत्न से सम्मानित नहीं कर सकी। बाबा साहब को केंद्र में कांग्रेस के पूरे शासन के दौरान कभी याद नहीं किया गया। हम ऐसे महान नेताओं को नमन करते हैं। गुजरात में विकास कार्यों को जारी रखते हुए, गुजरात के लोगों को महान नेताओं का सम्मान करना चाहिए।’

तीन तलाक के मुद्दे पर मोदी ने कहा,’उत्तर प्रदेश चुनाव के दौरान, सर्वोच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को इस मुद्दे के प्रति हलफनामा दर्ज करने के लिए कहा था। कई लोगों ने मुझे चेतावनी दी कि यूपी में चुनाव आ रहे हैं, इसलिए हम ऐसा करने का जोखिम नहीं उठा सकते। कई लोग उम्मीद कर रहे थे कि मोदी सर्वोच्च न्यायालय से समय लेंगे, लेकिन मैंने कहा, जब सवाल हमारी मुस्लिम महिलाओं को लेकर है तो मुझे समय क्यों चाहिए। मुझे चुनावों की परवाह नहीं है। राजीव गांधी के समय के बाद से लंबित मुद्दे को सर्वोच्च न्यायालय ने मंजूरी दे दी है।’

सुन्नी वक्फ बोर्ड के अधिवक्ता कपिल सिब्बल द्वारा अदालत से राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई 2019 के आम चुनाव के बाद करने की मांग पर मोदी ने कहा, ‘जब सिब्बल ने यह कहा तो कांग्रेस को यह कहना चाहिए था कि यह वह सिब्बल का व्यक्तिगत और निजी मुद्दा है। तो मैं आप से पूछता हूं कि 2019 का आम चुनाव कपिल सिब्बल को व्यक्तिगत रूप से और वक्फ बोर्ड को कैसे प्रभावित कर सकता है? क्या सुन्नी वक्फ बोर्ड चुनाव लड़ रहा है?’

हालांकि, इस बार दर्शकों से सवाल पूछने की मोदी की शैली को सकारात्मक जवाब मिलता नहीं दिखा। धंधुका भीड़, जिसमें आधे से ज्यादा बच्चे कुर्सियों पर बैठे थे। भीड़ से मोदी को अपने सवाल का पूरी तरह से जवाब नहीं मिला। उनकी बात पर कुछ लोग हंसते हुए दिखाई दिए। प्रधानमंत्री ने भीड़ को सौर पंप का व्यावहारिक समाधान करने के लिए केंद्र सरकार के अभियान के बारे में बताया और सूचना दी कि यह कार्य प्रगति पर है, जो किसान का जीवन आसान बना सकता है। उन्होंने एक प्राचीन सभ्यता के चालू बंदरगाह धोलेरा को लेकर योजना के बारे में बताया। उन्होंने कहा,’मैंने धोलेरा के विकास के लिए यूपीए सरकार से कई बार अनुरोध किया, लेकिन उन्होंने कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई। लेकिन हमारे प्रयासों से 10 साल के भीतर धोलेरा मुंबई और राजकोट की तरह समृद्ध हो जाएगा।’

दोस्तों के साथ शेयर करे.....