Home राजनीति कांग्रेस के विपक्षी एकता के सपने को झटका देंगी लेफ्ट पार्टियां

कांग्रेस के विपक्षी एकता के सपने को झटका देंगी लेफ्ट पार्टियां

0 38 views
Rate this post

नई दिल्ली

कांग्रेस ने कर्नाटक में भले ही सत्ता की लड़ाई जीत ली हो, लेकिन अगर लेफ्ट पार्टी से आ रही आवाजों पर ध्यान दें तो शायद कांग्रेस एक एकजुट विपक्ष के सपने को झटका लग सकता है। कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार पर लेफ्ट पार्टियों ने इशारों में ही 2019 लोकसभा चुनावों से पहले विपक्षी एकता के ख्वाब पर अपनी आपत्ति जाहिर कर दी है।

लेफ्ट पार्टियां 2014 के लोकसभा चुनाव नतीजों के बाद से ही देश में सभी धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के एकजुट होकर फासीवादी ताकतों का मुकाबला करने की वकालत कर रही हैं। हालांकि, शनिवार को कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की जीत के कुछ घंटों बाद ही लेफ्ट ने थोड़ी तीखी प्रतिक्रिया जाहिर कर दी। लेफ्ट की तरफ से जारी प्रतिक्रिया में कहा गया कि कर्नाटक चुनाव के नतीजे कांग्रेस के लिए एक सबक है। कांग्रेस अगर दूसरे राज्यों में भी जीत के समीकरण तलाश रही है तो उसे क्षेत्रीय पार्टियों के प्रति अधिक उदार होना होगा।

सीपीएम ने अप्रैल में ही एक बयान में कहा था कि कांग्रेस के साथ राजनीतिक समझदारी संभव है और अगर संभावनाएं बनीं तो दोनों पार्टी मिलकर संसद के अंदर और बाहर सड़क पर भी काम कर सकती हैं। हालांकि, कांग्रेस के प्रति थोड़ी तल्खी जाहिर करते हुए वृंदा करात ने कहा, ‘कांग्रेस सॉफ्ट हिंदुत्व के रास्ते पर चल रही है और आर्थिक सुधारों को लेकर नहीं बोल रही तो यह जाहिर है कि कहीं न कहीं पार्टी के आत्मविश्वास में कमी है। कांग्रेस भी बीजेपी की ही नकल कर रही है।’

दोस्तों के साथ शेयर करे.....