Home राज्य केरल के पहले सिजेरियन ‘बच्चे’ की 98 साल की उम्र में मौत

केरल के पहले सिजेरियन ‘बच्चे’ की 98 साल की उम्र में मौत

0 31 views
Rate this post

त्रिवेन्द्रम

केरल के पहले सिजेरियन (ऑपरेशन से पैदा हुए) बच्चे माइकल सावरिमुथू की 98 साल की उम्र में मौत हो गई। त्रिवेन्द्रम स्थित पलायम के मूल निवासी माइकल 1920 में ऑपरेशन के माध्यम से पैदा हुए थे।

माइकल का जन्म थायकाउड के सरकारी महिला एवं बाल अस्पताल में हुआ था। वह अपने माता-पिता की चौथी संतान थे। इससे पहले तीन बच्चों की पैदा होते ही मौत हो जाने के कारण माता-पिता ने अपनी चौथी संतान की देख-रेख पर अतिरिक्त ध्यान दिया। यह सर्जरी डॉ मैरी पुनोन लुकोज की देखरेख में हुई, जिन्होंने विदेश में अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद केरल में पहली बार ‘सी सेक्शन डिलिवरी’ पेश की।

डॉक्टरों ने माइकल के माता-पिता को आगाह किया था कि अगर वे नॉर्मल डिलिवरी कराते हैं, तो इस बच्चे की भी पैदा होते ही मौत हो सकती है। साथ ही डॉ. मैरी ने उनसे वादा भी किया था कि यदि वे ऑपरेशन के लिए तैयार हो जाते हैं तो मां और बच्चा दोनों सुरक्षित रहेंगे। माइकल के माता-पिता पहले तो तैयार नहीं हुए लेकिन फिर उन्होंने ऑपरेशन के लिए हामी भर दी।

उस समय लोगों ने इस ऑपरेशन को चमत्कार माना। उनके घर पर भारी तादाद में मां और बच्चे को देखने के लिए लोग पहुंचे। माइकल सावरिमुथू ने लंबे समय तक भारतीय सेना में अपनी सेवाएं दीं। इसके बाद उन्होंने केरल सरकार के प्रेस में भी काम किया। माइकल के परिवार में उनकी पत्नी के रोसम्मा के अलावा तीन बच्चे एस अलेक्जेंडर, एस लीला और एस फिलोमेना भी हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....