Home मिर्च- मसाला क्या दीपावली गिफ्ट देगा कार्पोरेट

क्या दीपावली गिफ्ट देगा कार्पोरेट

0 1,158 views
5 (100%) 1 vote

भोपाल

लंबे समय से प्रमोशन लिस्ट का इंतजार कर रहे भेल के अपर महाप्रबंधक से महाप्रबंधक पद के दावेदारों को लगता है भेल कार्पोरेट दीपावली गिफ्ट देने की तैयारी कर रहा है। लिस्ट आने के इंतजार में परेशान अफसरों के लिये कार्पोरेट का यह बेहतरीन तौहफा हो सकता है चर्चा है कि यूं तो यह लिस्ट तीन अक्टूबर के बाद इसी सप्ताह में जारी होने की अटकलें लगाई जा रही थी फिर भी 5 अक्टूबर को भेल के चेयरमेन के मैत्री साईट जाने की तैयारी, 11-12 अक्टूबर को दिल्ली में एमसीएम उस पर 13 अक्टूबर को दीपावली बोनस को लेकर ज्वाइंट कमेटी की बैठक में लिस्ट जारी होने पर विराम सा लगता दिख रहा है।

अब कहा यह जा रहा है कि इतना लंबा इंतजार कंपनी के सभी अफसरों को खल रहा है कब चेयरमेन साहब कब मूड बदल जाये कहा नहीं जा सकता। भोपाल यूनिट से अपर महाप्रबंधक पीके मिश्रा, बीके सिंह, विपिन मनोचा, विनय निगम, एम ईसादोर, एस रामनाथन, एमके श्रीवास्तव, अमिताभ दुबे, ब्रजेश अग्रवाल, जीके श्रीनिवासा,नीलम भोगल, एके चतुर्वेदी, अनंत टोप्पो के नाम की चर्चाएं हंै।

प्रशासनिक फेरबदल की अटकलें

कारखाने में कसावट लाने भेल के मुखिया भी प्रमोशन लिस्ट का इंतजार कर रहे हैं। लिस्ट न आने के चलते उन्होंने कई अफसरों को टेम्पे्ररी डबल-डबल चार्ज दे रखे हैं। मलाईदार विभाग के राजा महाप्रबंधक एचके निगम को सौंपने से कुछ अफसरों में बगावत के स्वर फूटने लगे है। वहीं कुछ अफसरों को दो-दो विभाग देकर खुश करने की कोशिश भी की है। हाल ही में रिटायर हुए पूर्व ईडी और वर्तमान ईडी के खास चहेते संजीव गुप्ता के रिटायर होने के बाद दो साल दो माह में रिटायर होने वाले महाप्रबंधक कुलदीप माथुर को ईएसएच विभाग के अलावा स्वीचगियर का भी अतिरिक्त काम सौंप डाला इससे इसी विभाग के कुछ अफसरों के चेहरों पर उदासी छा गई है तो टीसीबी के महाप्रबंधक टीके बागची को पीएंडडी दे दिया। चर्चा है कि कहीं महाप्रबंधक द्वय के यह टेम्प्रेरी विभाग परमानेंट न हो जाये। खबर है कि भेल कार्पोरेट श्री बागची को दिल्ली बुलाना चाहता है और वह जाना नहीं चाहते, ऐसे में पूरी कोशिश जारी है कि वह पीएंडडी में जमें रहें। यह तो सबको मालुम है कि टीसीबी का मुखिया हाईड्रों के महाप्रबंधक राजीव सिंह को बनाया जा सकता है। उन्हें दो साल बाद बेहतर परफार्मेंस के चलते अगले ईडी के रूप में देखा जा रहा हैं। रही बात श्री माथुर की तो दिल्ली कार्पोरेट के एक आला अफसर के करीबी होने के कारण उन्हें स्वीचगियर ईनाम में मिल सकता है।

टीईएक्स के परचेज में हेरा-फेरी

कारखाने के कुछ विभागों की रामलीला ही अजीबो-गरीब है। पूर्व कार्यपालक निदेशक एसआर प्रसाद के कार्यकाल मेें मटेरियल मेनेजमेेंंट विभाग में कम्प्युटर में परचेज में हेराफेरी का एक बड़ा मामला उजागर हुआ था जिसमें कई अफसर सीबीआई के शिकंजे में फंस गये। कुछ इसी तरह का मामला कारखाने के ईएम ग्रुप के टीईएक्स (टेक्रनोलॉजी विभाग)का चर्चाओं में है। खबर है कि इस विभाग के एक सीनियर इंजीनियर लंबे समय से कुछ सप्लायरों से मिलकर कंपनी को चूना लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं। वह लास्ट परचेज प्राईज में हेराफेरी कर प्राईज में पिछली डेट न लेकर दूसरी डेट कम्प्युटर के जरिये डाल कुछ सप्लायरों को फायदा पहुंचा रहे हैं। मामला टूल परचेज से जुड़ा हुआ बताया जा रहा है जो टूल मशीनों के उपयोग में आता है। चर्चा है कि यह टूल खरीदी का गोलमाल करीब पांच साल से किया जा रहा है। इसमें कितनी सच्चाई है यह तो विभाग के अफसर ही जाने लेकिन विभाग के लोग इस तरह की चर्चा करते नजर आ रहे हैं। इस मामले में कितना दम है यह तो भेल के मुखिया द्वारा जांच कराये जाने के बाद ही पता चल पायेगा।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....