Home अंतरराष्ट्रीय चाबहार: ईरान ने पाक-चीन को दे डाला ऑफर?: पाक मीडिया

चाबहार: ईरान ने पाक-चीन को दे डाला ऑफर?: पाक मीडिया

0 65 views
Rate this post

नई दिल्ली

भारत ने पाकिस्तान को साइडलाइन करने के लिए जिस चाबहार प्रॉजेक्ट को विकसित करना शुरू किया, अब ईरान ने पाकिस्तान और चीन को भी उसमें शामिल होने का ऑफर दे दिया है। पाक मीडिया का दावा है कि ईरान के विदेश मंत्री ने दोनों देशों को यह प्रस्ताव दिया है। दरअसल, इस पोर्ट के निर्माण को भारत की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि इससे रणनीतिक लाभ होने जा रहा है। सबसे बड़ा फायदा अफगानिस्तान और मध्य-एशिया के देशों तक भारत की पहुंच है। इस पोर्ट की मदद से भारत अब पाकिस्तान से गुजरे बिना ही अफगानिस्तान पहुंच सकता है।

पाकिस्तान के ‘डॉन’ अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने सोमवार को पाक और चीन को चाबहार सीपोर्ट प्रॉजेक्ट में शामिल होने का न्योता दिया। यही नहीं, ईरान ने कहा है कि चाबहार से ग्वादर पोर्ट के बीच लिंक के विकास के लिए भी पाकिस्तान आगे आए। दरअसल, जरीफ ईरानी पोर्ट में भारत के शामिल होने को लेकर जताई गई पाकिस्तान की चिंताओं को दूर करना चाहते हैं।

जरीफ 3 दिनों के लिए पाकिस्तान के दौरे पर हैं। डॉन के मुताबिक जरीफ ने इस्लामाबाद में इंस्टिट्यूट ऑफ स्ट्रैटिजिक स्टडीज में एक लेक्चर के दौरान कहा, ‘हमने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (CPEC) में शामिल होने की बात कही है। इसके साथ ही हमने पाकिस्तान और चीन को भी चाबहार में शामिल होने का ऑफर दिया है।’ गौरतलब है कि चाबहार को भारत और ईरान के संबंधों में सक्सेस स्टोरी के तौर पर देखा जा रहा है। दक्षिण-पूर्व ईरान में भारत द्वारा विकसित किए जा रहे चाबहार पोर्ट के पहले फेज का उद्घाटन पिछले साल दिसंबर में किया गया था।

इस पोर्ट ने भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच एक नया स्ट्रैटिजिक ट्रांजिट रूट खोल दिया, जिसमें पाकिस्तान को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया। उम्मीद जताई जा रही है कि इस रास्ते से भारतीय सामानों की आपूर्ति में परिवहन खर्च कम आएगा और समय भी बचेगा। इससे भारत, अफगानिस्तान और ईरान के बीच कारोबार में तेजी आ सकती है। दरअसल, अब तक पाकिस्तान इन दोनों देशों के साथ ट्रेड के लिए नई दिल्ली को रास्ता देने से मना करता रहा है।

ऐसे में ईरान के विदेश मंत्री का यह बयान भारत के लिए अच्छी खबर नहीं है। हालांकि यह भी हो सकता है कि जरीफ केवल मित्रतापूर्ण टिप्पणी कर रहे हों। इसकी वजह है उनका पाक दौरा। वह पाकिस्तान में थे और ऐसे में जरीफ भारत से बढ़ती दोस्ती को लेकर ईरान की तरफ से पाकिस्तान को आश्वस्त करना चाहते होंगे।

जरीफ ने पाकिस्तान के साथ संबंधों की सऊदी अरब से तुलना भी की और कहा कि उसी तरह से इस्लामाबाद के तेहरान के साथ संबंधों को प्रभावित नहीं कर सकते हैं। ईरान की समाचार एजेंसी मेहर न्यूज के मुताबिक जरीफ ने कहा कि ईरान के भारत के साथ संबंध पाकिस्तान को नकारात्मक रूप से प्रभावित नहीं करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तान में ग्वादर पोर्ट सिटी और चाबहार ट्रांजिट अग्रीमेंट (भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच) पूरक हैं, प्रतिस्पर्धी नहीं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....