Home फीचर चार माह की मासूम से रेप केस में 22 दिन में फैसला,...

चार माह की मासूम से रेप केस में 22 दिन में फैसला, दरिंदे को ‘सजा-ए-मौत’

Rate this post

इंदौर

इंदौर जिला कोर्ट ने चार महीने की बच्ची के साथ रेप और निर्मम हत्या करने वाले शख्स को मौत की सजा सुनाई है। कोर्ट ने इस वीभत्स मामले की सुनवाई के दौरान उसे दोषी ठहराते हुए फांसी की सजा दी। हालांकि यह साफ नहीं है कि सजा पॉक्सो ऐक्ट में संसोधन अध्यादेश के तहत दी गई है या नहीं। बता दें कि पिछले महीने मध्य प्रदेश के रजवाड़ा क्षेत्र में एक चार महीने की बच्ची के साथ बर्बरता से रेप करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी।

इस घटना ने जांच करने वाले पुलिसकर्मियों को भी हिला कर रख दिया था। इस वीभत्स मामले पर पूरे मध्य प्रदेश के लोगों ने जमकर गुस्सा उतारा। यहां तक कि मामले की सुनवाई के लिए वकील कोर्ट में आरोपी का पक्ष रखने को भी तैयार नहीं थे। इंदौर बार असोसिएशन ने किसी भी बलात्कार के आरोपी का केस न लड़ने का फैसला किया था।

बताया जा रहा है कि दोषी व्यक्ति बच्ची का दूर का रिश्तेदार था। बच्ची 19 फरवरी को अपने परिवार के साथ रजवाड़े के बाहर बने बरामदे में सो रही थी। इसी दौरान उसका अपहरण कर लिया गया। मामले की जांच के लिए सीसीटीवी फुटेज की भी मदद ली गई थी। घटना के वक्त इलाके में पुलिस गश्त दे रही थी।

पॉक्सो ऐक्ट के संसोधन के तहत हुई सजा!
बता दें कि 12 साल के कम उम्र की बच्चियों से रेप के मामले में केंद्र सरकार की ओर से पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन करते अध्यादेश पारित किया गया है। इसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी है। नए अध्यादेश के मुताबिक 12 साल से कम उम्र के मासूमों के साथ रेप करने के दोषियों को मौत की सजा दी जाएगी। वहीं 16 साल से कम उम्र की लड़की से रेप करनेवाले की न्यूनतम सजा को 10 साल से बढ़ाकर 20 साल किया गया है।दोषी को उम्रकैद भी दी जा सकती है। इतना ही नहीं, अध्यादेश में यह भी प्रावधान किया गया है कि 12 साल से कम उम्र की लड़की से रेप के दोषी को न्यूनतम 20 साल की जेल या उम्रकैद या मौत की सजा दी जाएगी।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....