Home राज्य …जब नरेंद्र मोदी की प्रशंसा कर बैठे कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया

…जब नरेंद्र मोदी की प्रशंसा कर बैठे कर्नाटक के मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया

0 29 views
Rate this post

बेंगलुरु

कर्नाटक में चुनावी संग्राम में अब कुछ ही दिन बचे हैं और वार-पलटवार का दौर अपने चरम पर है। राज्‍य में सत्‍ता बरकरार रखने के लिए निवर्तमान मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया लगातार रैलियां और रोड शो कर रहे हैं। मंगलवार को उन्‍होंने एक ऐसा बयान दे दिया जिससे विपक्षी बीजेपी की बांछे खिल गईं। एक रोड शो के दौरान सिद्धारमैया की जुबान फिसल गई और वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा कर बैठे।

दरअसल, सिद्धारमैया एक रोड शो के दौरान कांग्रेस प्रत्‍याशी नरेंद्र स्‍वामी की उपलब्धियां गिना रहे थे और उनकी प्रशंसा कर रहे थे। उन्‍होंने कहा, ‘सभी गांवों में सड़कों का बनना, पेयजल, घरों का बनना, यह सब नरेंद्र मोदी और हमारे कारण संभव हुआ है…।’ उनकी इस टिप्‍पणी के बाद नरेंद्र स्‍वामी ने तुरंत सिद्धारमैया को टोका और उन्‍हें गलती के बारे में बताया।

इसके बाद सिद्धारमैया को अपनी गलती का अहसास हो गया और उन्‍होंने माफी मांगते हुए कहा, ‘सॉरी, सॉरी…नरेंद्र स्‍वामी…महत्‍वपूर्ण शब्‍द नरेंद्र है। स्‍वामी यहां है और मोदी गुजरात में। नरेंद्र मोदी फिक्‍शन हैं और नरेंद्र स्‍वामी सत्‍य हैं।’ सिद्धारमैया ने भले ही माफी मांग ली हो लेकिन इसने बीजेपी को मौका दे दिया। कर्नाटक बीजेपी ने ट्वीट कर लिखा, ‘पीएम मोदी के चार दिन की रैली के बाद सीएम सिद्धारमैया अब पीएम मोदी के लिए वोट मांग रहे हैं।’

बीजेपी ने कहा, ‘इसमें किसी को कोई आश्‍चर्य नहीं होगा कि सिद्धारमैया भी बीजेपी को वोट दें। यह उनके पिछले पांच साल के पापों के प्रायश्चित का एक अच्‍छा तरीका हो सकता है।’ यह घटनाक्रम ऐसे समय पर हुआ है जब एक दिन पहले ही सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, बीएस येदियुरप्‍पा और भारतीय जनता पार्टी को 100 करोड़ रुपये कानूनी नोटिस भेजा है।

सिद्धारमैया ने प्रधानमंत्री मोदी से चुनावी भाषणों के दौरान कांग्रेस सरकार पर लगाए गए आरोपों के लिए माफी मांगने की मांग की है। इस नोटिस में बीजेपी के राज्‍य में चुनावी विज्ञापन का हवाला दिया गया है। इस विज्ञापन में सिद्धारमैया सरकार को निशाना बनाया गया है। इससे पहले अपने चुनावी भाषणों में पीएम मोदी ने सिद्धारमैया और उनकी सरकार पर निशाना साधा था। पीएम मोदी ने उन्‍हें ‘सीधा रुपैया सरकार’ और ’10 प्रतिशत सरकार’ करार दिया था।

बता दें कि सिद्धारमैया पहले ऐसे नेता नहीं हैं जिनकी कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान जुबान फिसली हो। इससे पहले बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने गलती से अपने सीएम कैंडिडेट बीएस येदियुरप्‍पा को सबसे भ्रष्‍ट बता दिया था। असल में शाह कांग्रेस सरकार पर हमला बोल रहे थे और सिद्धारमैया का नाम लेना चाहते थे।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....