Home खेल जो’बर्ग में 3 सवालों के जवाब से ही मिलेगी जीत

जो’बर्ग में 3 सवालों के जवाब से ही मिलेगी जीत

0 62 views
Rate this post

सेंचुरियन

भारतीय क्रिकेट टीम जब से साउथ अफ्रीका पहुंची है एक सवाल लगातार उसका पीछा कर रहा है। सवाल टीम की चयन प्रक्रिया का। टीम को लगाकर अंतिम एकादश में रोहित शर्मा के चयन को लेकर घेरा जा रहा है। रोहित शर्मा ने भारत में श्री लंका के खिलाफ नवंबर-दिसंबर में खेली गई सीरीज में दो हाफ सेंचुरी लगाईं थीं। इसके अलावा वर्ष 2017 में वनडे इंटरनैशनल क्रिकेट में उनके नाम 1200 से ज्यादा रन रहे। शर्मा का साउथ अफ्रीका के खिलाफ पहले दो टेस्ट मैचों में चुना जाना इसलिए भी चर्चा में रहा क्योंकि उन्हें अजिंक्य रहाणे के स्थान पर मौका दिया। रहाणे को टेस्ट टीम का स्थापित खिलाड़ी माना जाता है। वह विदेशी दौरों पर भारत टीम के मजबूत बल्लेबाज माने जाते हैं। एशिया के बाहर रहाणे का बल्लेबाजी औसत 54 के करीब है।

शर्मा को रहाणे के स्थान पर क्यों खिलाया गया? पहली बात रहाणे को बैठाया ही क्यों गया? सवाल यह भी है कि आखिर दोनों ही बल्लेबाजों को साथ मौका क्यों नहीं दिया गया? शर्मा ने अभी तक मिले मौकों में क्या किया है? सवालों का सिलसिला लंबा है और जवाब मिलने अभी बाकी हैं। इसके अलावा भुवनेश्वर कुमार को दूसरे टेस्ट में मौका नहीं देना भी हैरानी भरा फैसला रहा। जसप्रीत बुमराह को इतनी महत्वपूर्ण सीरीज में टेस्ट कैप देना और केएल राहुल के स्थान पर शिखर धवन को मौका देना भी, काफी चर्चा में रहा।

टीम प्रबंधन का कहना है:
आप उस बल्लेबाज, जो रन बना रहा है उसे हटाकर स्ट्रगल करने वाले बल्लेबाज को मौका देकर, आप क्या संदेश देना चाहते हैं? अगर शर्मा को मौका नहीं दिया जाता तो यह सवाल उठता कि दो टेस्ट मैचों में 217 रन बनाने वाले बल्लेबाज को क्यों टीम में शामिल नहीं किया गया? रहाणे बल्ले से स्ट्रगल कर रहे थे। उन्होंने 18 पारियों में 554 रन बनाए। अगर आप कोलंबो में बनाए 132 रन हटा दें तो उन्होंने 17 पारियों में 442 रन बनाए हैं। यह 30 से भी कम का बल्लेबाजी औसत है।

आगे क्या
29 वर्षीय अजिंक्य रहाणे तीसरे टेस्ट में वापसी की पूरी कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने नेट्स में काफी बल्लेबाजी की। गेंद उनके बैट के बीच लग रही थी। ऐसा लग रहा है कि नंबर 5 पर वह अपनी मजबूत दावेदारी पेश कर रहे हैं।

भुवी को आराम
टीम प्रबंधन का कहना है: क्विंटन डि कॉक ने वॉर्नेन फिलैंडर की गेंदों पर आगे खड़े होकर विकेटकीपिंग की। यह किस तरह का विकेट है। और टीम को ऋद्धिमाना के चोटिल होने के कारण पार्थिव पटेल को मौका देना पड़ा। इशांत शर्मा ने दूसरे टेस्ट में शानदार गेंदबाजी की, शमी ने अच्छी बोलिंग की। तो भुवी को साथ नाइंसाफी होने का सवाल ही कहां उठता है?

आगे क्या
टीम को वॉन्ड्रर्स के लिए सही कॉम्बिनेशन तय कर पाना अभी बाकी है। माना जा रहा है कि साउथ अफ्रीका इस मैच में भी लाइव और ग्रीन पिच तैयार कर रहा है। ऐसे में भुवनेश्वर कुमार के अंतिम XI में लौटने की उम्मीद है।

बुमराह मिस्ट्री
टीम प्रबंधन का कहना है: न्यूलैंड्स में बुमराह ने मैच में भारत की वापसी करवायी। उनके पास रफ्तार है। उनकी गेंदों की लैंथ बल्लेबाजों को परेशान कर सकती है। उनके पास यॉर्कर है। उनको मौका देने में कौन सी बड़ी बात है?

आगे क्या
जसप्रीत बुमराह के लिए टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत इससे ज्यादा रोमांचक नहीं हो सकती थी। फाफ डु प्लेसिस, केपटाउन टेस्ट के चौथे दिन बुमराह के स्पेल की तारीफ करते थक नहीं रहे थे। तीसरे टेस्ट में उनका खेलना लगभग तय है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....