Home कारपोरेट दाम चढ़ने पर भी सोना क्यों नहीं बेच रहे लोग?

दाम चढ़ने पर भी सोना क्यों नहीं बेच रहे लोग?

0 71 views
Rate this post

कोलकाता

सोने के दाम में 4.41 पर्सेंट की बढ़ोतरी के बावजूद जनवरी से मार्च तक इसकी खरीदारी में लोगों की दिलचस्पी कम नहीं हुई है। वहीं, पुराने गोल्ड की बिक्री में पिछली तिमाही के मुकाबले 35-40 पर्सेंट की कमी आई है। विश्लेषकों और व्यापारियों के अनुसार, लोगों को लग रहा है कि अगर अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर बढ़ी, तो आनेवाले महीनों में सोना और महंगा हो सकता है। असोसिएशन ऑफ गोल्ड रिफाइनरीज ऐंड मिंट्स के सेक्रटरी जेम्स जोस ने बताया, ‘अगर अमेरिका और उत्तरी कोरिया के बीच राजनीतिक तनाव बढ़ता है, तो इसका असर गोल्ड पर भी पड़ेगा।’ ऐसा कहा जाता है कि भारतीय घरों में करीब 22,000 टन गोल्ड बेकार पड़ा हुआ है। इस साल 1 जनवरी को सोने की कीमत 29,525 रुपये प्रति 10 ग्राम थी, जो कि पिछले हफ्ते 30,830 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गई थी।

कोटक महिंद्रा बैंक में ग्लोबल ट्रांजैक्शन (बैंकिंग और कीमती मेटल) के बिजनस हेड शेखर भंडारी ने कहा, ‘अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर के बाद अनिश्चितता बढ़ी है, जिसकी वजह सोने की कीमतों में उछाल आया है।’ उन्होंने कहा कि पीली धातु (सोना) फिर से सुरक्षित निवेश बन सकता है। भंडारी ने बताया कि अप्रैल से जून तिमाही में इसके दाम के स्थिर रहने की उम्मीद है, लेकिन यह 1,380-1,400 डॉलर प्रति औंस को भी छू सकता है। बुलियन ऐंड जूलर्स असोसिएशन (आईबीजेए) के नैशनल सेक्रटरी सुरेंद्र मेहता ने संभावना जताई कि आनेवाले महीनों में सोने की कीमतें 33,000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच सकती हैं।

2017 गोल्ड के लिहाज से नाटकीय साल नहीं था। हालांकि कीमतें 11 पर्सेंट तक बढ़ी थीं, लेकिन ऐसा एक या दो दिन के लिए हुआ। पूरे साल में गोल्ड पर रिटर्न 6-7 पर्सेंट के आसपास था। इसके उलट इक्विटी से निवेशकों को बहुत अधिक रिटर्न मिला, जिससे सोने की चमक फीकी पड़ गई थी। 2017 की आखिरी तिमाही में गोल्ड से सिर्फ 1 पर्सेंट का रिटर्न मिला। एक बुलियन डीलर ने कहा, ‘पिछली तिमाही में सोने की बिकवाली हो रही थी। लोग सोने और दूसरी संपत्तियों से पैसा निकालकर शेयर बाजार में लगा रहे थे। हालांकि, अमेरिका-चीन के टैरिफ वॉर के चलते कुछ हफ्तों में ही हालात बदल गए हैं।’

जोस ने कहा कि सोने में अक्षय तृतीया के आसपास तेजी आ सकती है, जो इस साल 18 अप्रैल को पड़ेगी। भारतीय अक्षय तृतीया पर सोने की ज्यादा खरीदारी करते हैं। उनका मान्यता है कि इस शुभ दिन पर कीमती धातु की खरीदारी से समृद्धि आती है। पुणे बेस्ड पीएनजी जूलर्स के सौरभ गाडगिल ने कहा ‘अक्षय तृतीया के आसपास हम उपभोक्ताओं से पुराने सोने एक्सचेंज करने और नया खरीदने की उम्मीद कर रहे हैं। पहली तिमाही में सोने की बिक्री के साथ ही गहनों की बिक्री में भी कमी आई है।’

दोस्तों के साथ शेयर करे.....