Home खेल निदाहास ट्रोफी: अंपायर ने नहीं दी नो-बॉल, बांग्लादेश का ‘ड्रामा’

निदाहास ट्रोफी: अंपायर ने नहीं दी नो-बॉल, बांग्लादेश का ‘ड्रामा’

0 102 views
Rate this post

कोलंबो,

कोलंबो के आर. प्रेमदासा स्टेडियम में बैठे हजारों दर्शक उस वक्त हैरान रह गए, जब निदाहास ट्रोफी के छठे मुकाबले के आखिरी ओवर में बांग्लादेशी कप्तान शाकिब अल हसन अचानक अपने खिलाड़ियों को वापस पविलियन बुलाने लगे। यही नहीं, इस दौरान बांग्लादेशी और श्री लंकाई क्रिकेटरों के बीच गर्मागर्म बहस भी हुई। हालांकि, लगभग 5 मिनट तक चले इस घटनाक्रम का खात्मा किया पूर्व बांग्लादेशी क्रिकेटर खालिद महमूद ने। उनके समझाने के बाद शाकिब ने अपने खिलाड़ियों को खेलने के लिए भेजा। अगर बांग्लादेशी बल्लेबाज बैटिंग के लिए नहीं जाते तो टीम को टूर्नमेंट से डिस्क्वालीफाई कर दिया जाता और श्री लंका फाइनल में होता।

बल्लेबाजों को क्यों शाकिब बुलाने लगे बापस
छक्का लगाकर बांग्लादेश को जीत दिलाने वाले महमूदुल्लाह ने मैच के बाद बताया कि आखिरी ओवर की शुरुआती दोनों गेंदें कंधे से ऊपर थीं और फील्ड अंपायर ने नो-बॉल नहीं दिया। इसकी वजह से हमने विरोध जताया। बता दें कि यह ओवर उदाना कर रहे थे। पहली गेंद पर मुस्तफिजुर रहमान कोई रन नहीं बना पाए, जबकि दूसरी गेंद पर मुस्तफिजुर रन आउट हो गए थे। जब यह घटना घटी तो बांग्लादेश को जीत के लिए 4 बॉल में 12 रन चाहिए थे। महमूदुल्लाह (31) और रुबेल हुसैन (0) क्रीज पर थे।

महमूदुल्लाह ने अगली 3 गेंदों में खत्म किया मैच
जब दोनों बल्लेबाज वापस क्रीज पर पहुंचे तब भी दोनों देशों के खिलाड़ियों में गुस्सा साफ देखा जा सकता था। महमूदुल्लाह (43 रन) ने ओवर की तीसरी गेंद पर चौका, चौथी गेंद पर 2 रन और 5वीं गेंद को छक्का उड़ाकर बांग्लादेश को एक गेंद शेष रहते जीत दिला दी। बांग्लादेश टीम की फाइनल में भिड़ंत भारत से 18 मार्च को इसी मैदान होगी।

मैच के बाद भी करते दिखे बहस
मैच खत्म होने के बाद भी दोनों देशों के खिलाड़ी एक-दूसरे से बहस करते दिखे। बांग्लादेशी क्रिकेटरों ने काफी देर तक मैदान पर जश्न के तौर पर नागिन डांस भी किया। हालांकि, जीत के बाद शाकिब अल हसन और महमूदुल्लाह अपने खिलाड़ियों को समेटते दिखे, लेकिन आईसीसी बांग्लादेशी टीम और उसके कप्तान की इस हरकत को नजर अंदाज करे यह कहना मुश्किल ही है। मैच रेफरी क्रिस ब्रॉड, फील्ड अंपायर रुचिरा पल्लियागुरुगे और रवींद्र विमलसिरी इस मामले पर ऐक्शन ले सकते हैं।

मैच में हुए विवाद पर तमीम ने कहा कि यह काफी इमोशनल मैच था. उनके अनुसार उन लोगों ने अंपायर को नो बॉल इशारा देते हुए देखा था. इसलिए उन्होंने शिकायत की. इसी वजह से इतना ड्रामा हुआ. हालांकि गलती मानते हुए तमीम इकबाल ने कहा कि उनलोगों को सही व्यवहार करना चाहिए था. हालांकि अब विवाद खत्म हो चुका है. इससे पहले तमीम इकबाल के पचास रन की पारी से बांग्लादेश को मजबूत शुरुआत मिली. उसके बाद मोहम्मदुल्लाह ने नाबाद 43 रन बनाकर टीम को जीत दिला दी.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....