Home राष्ट्रीय फेसबुक ने भारतीय नेताओं के लिए बनाया सिक्यॉरिटी हॉटलाइन ईमेल

फेसबुक ने भारतीय नेताओं के लिए बनाया सिक्यॉरिटी हॉटलाइन ईमेल

0 13 views
Rate this post

नई दिल्ली

फेसबुक ने भारत के लिए शुक्रवार को बड़ी घोषणा करते हुए कहा है कि वह पॉलिटिशन और पॉलिटिकल पार्टियों के लिए ‘साइबर थ्रेट क्राइसिस’ ईमेल हॉटलाइन लाने जा रहा है। यूजर्स के प्राइवेट डेटा लीक के बाद विवादों में आई दुनिया की सबसे बड़ी सोशल मीडिया कंपनी ने यह भी बताया है कि वह भारत के लिए एक ‘इलेक्शन इंटेग्रिटी’ माइक्रोसाइट पर भी काम कर रही है।

फेसबुक ने बताया है कि सिक्यॉरिटी से संबंधित किसी भी मामले में भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक और आईटी मंत्रालय के अंतर्गत काम करने वाली कंप्यूटर इमर्जेंसी रिस्पॉन्स टीम और प्रभावित अकाउंट इससे संबंधित शिकायत indiacyberthreats@fb.com पर कर सकते हैं। इसके अलावा कंपनी ने पॉलिटिकल अकाउंट्स के लिए एक ‘साइबर सिक्यॉरिटी गाइड’ भी रिलीज की है। इस गाइड में बेसिक सिक्यॉरिटी के तरीके जैसे टू-स्टेप ऑथेंटिकेशन और संदिग्ध लिंक पर क्लिक नहीं करने जैसी सलाह दी गई हैं। बता दें कि केंद्र सरकार ने कंपनी के फाउंडर मार्क जकरबर्ग से यूजर प्राइवेसी और चुनाव प्रभावित नहीं होने के ऊपर सवाल उठाए थे। इसके बाद उन्होंने अपना जवाब केंद्र सरकार को भेजा था। कंपनी ने इसके एक दिन बाद ही ये घोषणाएं की हैं।

फेसबुक के एक अझिकारी ने बताया, ‘चुनावों के दौरान कुछ लोग बड़े पॉलिटिकल लीडर्स और पार्टीयों को टारगेट कर सकते हैं। ऐसे में इनके फेसबुक पेज और अकाउंट्स को सिक्यॉर करने के लिए यह गाइड जारी की गई है। साथ ही, ऐसे मामलों में तुरंत मदद के लिए स्पेशल साइबर थ्रेट क्राइसिस ईमेल लाइन भी लॉन्च की गई है। यह सब भारत में फेसबुक द्वारा निष्पक्ष चुनाव आयोजित किए जाने की पहल का एक हिस्सा है।’ कंपनी के भारत में पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर अंखि दास ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया, ‘हम लोग एक इलेक्शन इंटेग्रिटी माइक्रोसाइट पर काम कर रहे हैं। इसके अलावा कंपनी सोशल मीडिया पर फेक न्यूज जैसे कॉन्टेंट को वायरल होने से रोकने के लिए भी काम कर रही है।’

बता दें कि कंपनी पहले ही यह घोषणा कर चुकी है कि भारत में 2019 के आम चुनावों के दौरान फेसबुक पर किसी भी तरह के पॉलिटिकल कैंपेन के लिए स्पॉन्सरशिप बताना जरूरी करने जा रहा है। इससे पता चल सकेगा कि कैंपेन को किसके जरिए सपॉर्ट और स्पॉन्सर किया जा रहा है। गौरतलब है कि 25 अप्रैल को भारत सरकार ने फेसबुक से पूछा था कि डेटा सिक्यॉरिटी और भारत में निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित कराने के लिए यह सोशल मीडिया कंपनी क्या कदम उठा रही है। फेसबुक ने पिछले महीने 5.62 लाख इंडियन यूजर्स के डेटा लीक होने की बात कही थी जिस पर भारत सरकार ने चिंता जाहिर की थी।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....