Home फीचर बंद कमरे में शाह-उद्धव बैठक, कैबिनेट में शिवसेना को जगह?

बंद कमरे में शाह-उद्धव बैठक, कैबिनेट में शिवसेना को जगह?

0 25 views
Rate this post

मुंबई

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बुधवार को मातोश्री में बंद कमरे में करीब आधे घंटे तक बातचीत की। इस दौरान दोनों नेताओं के बीच क्या बात हुई यह तो साफ नहीं हो पाया, लेकिन माना जा रहा है कि बीजेपी की तरफ से शिवसेना से लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में गठबंधन जारी रखने की बात कही गई है। पार्टी सूत्रों की मानें तो बीजेपी ने सेना से उनके लिए महाराष्ट्र कैबिनेट में अगले फेरबदल के दौरान जगह बनाने और केंद्र में भी सेना के सीनियर नेताओं को जगह देने का वादा किया है।

शाह और उद्धव ठाकरे की मुलाकात से पहले दोनों ने महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस और उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के साथ भी करीब आधे घंटे तक बात की। इन दिनों शाह और उद्धव के बीच संबंध काफी ठंडे हैं। बीजेपी अध्यक्ष बनने के बाद शाह ने दो बार ही मातोश्री का दौरा किया। बीजेपी नेताओं का कहना है कि बुधवार को शाह ने मातोश्री में काफी वक्त गुजारा और परिवार के अन्य लोगों से भी मिले।

सूत्रों का कहना है कि सेना के ज्यादातर सांसद और विधायक बीजेपी के साथ गठबंधन करना चाहते हैं। उनका मानना है कि अगर बीजेपी के साथ समझौता नहीं होता तो पार्टी के सत्ता से बाहर हो जाएगी। वहीं, कई लोग बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं चाहते। उन्हें लगता है कि राज्य में बीजेपी का विस्तार शिवसेना की कीमत पर हो रहा है। शिवसेना के नेताओं ने कहा है कि वे बीजेपी के अलायंस के प्रस्ताव पर विचार करेंगे। इसके जरिये पार्टी बारगेनिंग पावर बढ़ाना चाहती है। उद्धव के साथ मीटिंग के बाद शाह ने संगठन मंत्री विजय पुराणिक और बीजेपी के पदाधिकारियों के साथ 2019 चुनाव के सिलसिले में बातचीत की।

महाराष्ट्र में पालघर लोकसभा क्षेत्र के लिए हाल ही में हुए उपचुनाव दोनों पार्टियों ने अलग-अलग लड़ा था और एक दूसरे के खिलाफ जमकर प्रचार किया था। शिवसेना खासतौर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से नाराज है और पार्टी के नेता लगातार उनके खिलाफ बयान देते रहे हैं। पालघर उपचुनाव में बीजेपी से हारने के बाद शिवसेना ने बीजेपी को अपना ‘सबसे बड़ा राजनीतिक दुश्मन’ बताया था। शिवसेना ने मंगलवार को ही शाह और ठाकरे के बीच मुलाकात पर सवाल उठाया था। शिवसेना 2019 का लोकसभा चुनाव अकेले लड़ने की घोषणा कर चुकी है। दोनों दलों के बीच ढाई दशक से अधिक पुराना गठबंधन 2014 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले टूट गया था। हालांकि, बाद में फडनवीस की अगुवाई में महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए दोनों ने दोबारा हाथ मिला लिया था।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....