Home राज्य बीजेपी का गढ़ ही रहेगा गुजरात, कांग्रेस को करनी पड़ेगी मशक्कत: पोल

बीजेपी का गढ़ ही रहेगा गुजरात, कांग्रेस को करनी पड़ेगी मशक्कत: पोल

0 25 views
Rate this post

अहमदाबाद

गुजरात चुनाव से पहले ऑपिनियन पोल्स में अलग-अलग नतीजे सामने आ रहे हैं। कुछ दिन पहले एक पोल में जहां राज्य में कांग्रेस और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही थी, वहीं बुधवार को टाइम्स नाउ-वीएमआर (वोटर्समूड रीसर्च) के ऑपिनियन पोल में बीजेपी को भारी बढ़त मिलती दिखाई दे रही है।

पोल में बीजेपी को 111 सीटें मिली हैं वहीं कांग्रेस को 68। सर्वे के मुताबिक बीजेपी का वोट प्रतिशत 2012 के चुनाव की तुलना में 3 प्रतिशत से गिरेगा जरूर लेकिन फिर भी वह कांग्रेस से लगभग 5 प्रतिशत ज्यादा वोट पाकर गुजरात की सत्ता अपने नाम कर सकती है। कांग्रेस का वोट प्रतिशत 2012 की तुलना में 1 प्रतिशत बढ़ेगा लेकिन इसका पार्टी को कोई खास फायदा मिलता नहीं दिख रहा है।

सर्वे में वोटरों से 10 सवाल किए गए थे-
1. क्या हार्दिक, अल्पेश और जिग्नेश राहुल गांधी की आने वाले चुनाव में मदद करेंगे?
47 प्रतिशत लोगों का मानना है कि कांग्रेस को इस गठबंधन का फायदा मिल सकता है। 34 प्रतिशत लोगों का मानना है कि बीजेपी बहुत मजबूत है और उस पर इस बात का कोई असर नहीं पड़ेगा।

2. क्या हार्दिक पटेल के सेक्स-सीडी कांड ने उनकी छवि को नुकसान पहुंचाया है?
60 प्रतिशत लोगों को नहीं लगता कि इस सीडी के सामने आने से हार्दिक की छवि कोई नुकसान पहुंचा है वहीं 24 प्रतिशत लोगों को लगता है कि नुकसान हुआ है। 16 प्रतिशत लोग ऐसे भी हैं जिन्हें लगता है कि इस विवाद से हार्दिक को लोगों की सहानुभूति ही मिली थी।

3.हार्दिक पटेल और कांग्रेस के साथ आने से दोनों में से किसे ज्यादा फायदा हुआ है?
इस सवाल के जवाब में ज्यादातर लोगों ने कहा कि हार्दिक को ही अधिक फायदा हुआ है। 35 प्रतिशत लोगों ने कांग्रेस को फायदा होने की बात कही। वहीं 27 प्रतिशत लोग ऐसे भी थे जिन्हें लगा कि इस कदम से हार्दिक की छवि को नुकसान पहुंचा है।

4.विश्व बैंक के भारतीय इकॉनमी की तारीफ करने से क्या बीजेपी को फायदा हुआ है?
52 प्रतिशत लोगों ने माना कि फायदा हुआ है वहीं 37 प्रतिशत को ऐसा नहीं लगता।

5.जीएसटी में बदलाव से क्या पीएम मोदी को फायदा होता?
पहले के पोल में जहां यह माना जा रहा था कि जीएसटी में बदलाव से गुजरात के व्यापारी खुश नहीं हैं, वही बात इस पोल में भी सामने आई है। 46 प्रतिशत लोगों ने इस कदम को प्रभावी नहीं बताया। हालांकि, इसको सरहाने वाले लोग भी 45 प्रतिशत रहे। वहीं 9 प्रतिशत लोगों ने कहा कि अभी इस दिशा में और कदम उठाए जाने की जरूरत है।

6. क्या राहुल गांधी के मंदिरों में दर्शन करने से उन्हें कोई फायदा होगा?
राहुल गांधी ने अपने प्रचार अभियान के दौरान 18 मंदिरों के दर्शन किए। वोटरों से सवाल किया कि क्या राहुल को इसका फायदा होगा तो 55 प्रतिशत लोगों ने इससे साफ इनकार कर दिया। वहीं 45 प्रतिशत लोगों ने माना कि इसका फायदा उन्हें हो सकता है।

7.कौन होगा बेहतर मुख्यमंत्री?
इस सवाल के जवाब में लोगों की प्रतिक्रिया से साफ हुआ कि कांग्रेस के पास सीएम पद के दावेदार के रूप में किसी मजबूत उम्मीदवार की कमी है। 36 प्रतिशत लोगों ने विजय रुपाणी को बेहतर सीएम बताया वहीं केवल 7 प्रतिशत लोगों ने गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष शक्ति सिंह गोहिल को पद के लिए उपयुक्त बताया। 16 प्रतिशत लोगों ने पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल और नितिन पटेल को अच्छा सीएम माना।

8. क्या पीएम नरेंद्र मोदी को सरदार सरोवर जैसी बड़ी योजनाओं से फायदा होगा?
44 प्रतिशत लोगों ने माना कि इस योजना से पीएम को कुछ फायदा हो सकता है वहीं 29 प्रतिशत लोगों ने इस मुद्दे को पुराना बताया। 27 प्रतिशत लोगों का मानना था कि ऐसी योजना से पीएम को बहुत फायदा होगा।

9.क्या राहुल गांधी अकेले दम पर कांग्रेस को जीत दिला सकते हैं?
भले ही राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी हो, सर्वे में वोटरों 39 प्रतिशत वोटरों ने कहा है कि उन्हें नहीं लगता कि उनके सहारे पार्टी को राज्य में जीत का स्वाद चखने को मिल सकता है। हालांकि, 37 प्रतिशत वोटरों ने राहुल में जीत दिलाने का भरोसा दिखाया है। 24 प्रतिशत वोटरों ने माना कि कुछ मदद के साथ राहुल जीत सकते हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....