Home फीचर बोइंग से डील, भारत में बनेगा ‘ताकतवर योद्धा’

बोइंग से डील, भारत में बनेगा ‘ताकतवर योद्धा’

0 61 views
Rate this post

चेन्नै

इंडियन एयरफोर्स को आसमान का ‘महाशक्तिशाली योद्धा’ मिलनेवाला है। दुनिया की प्रमुख सैन्य विमान बनानेवाली कंपनी बोइंग भारतीय कंपनियों के साथ मिलकर देश में ही फाइटर प्लेन बनाएगी। बोइंग इंडिया, हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स (MDS) ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण समझौता किया। इसके तहत देश में ही करीब 2000 किमी प्रति घंटे की रफ्तार वाले F/A-18 सुपर हॉर्नेट फाइटर प्लेन बनाए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा इंडियन एयरफोर्स को और ताकतवर बनाने के साथ ही यह ‘मेक इन इंडिया’ अभियान को आगे बढ़ाने के लिहाज से भी बड़ा कदम है।

यूएस एयरोस्पेस मेजर ने कहा कि यह पार्टनरशिप भावी तकनीक के संयुक्त विकास के लिए भी काम करेगी। उन्होंने कहा कि यह पार्टनरशिप भारत के एयरोस्पेस और डिफेंस इको सिस्टम को पूरी तरह बदल देगी। बोइंग इंडिया के प्रेजिडेंट प्रत्युष कुमार, HAL के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर टी सुवर्ण राजू और महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स के चेयरमैन एसपी शुक्ला ने यहां चल रहे डिफेंस एक्सपो में ‘मेक इन इंडिया फाइटर’ के लिए मेमोरैंडम ऑफ अग्रीमेंट का आदान-प्रदान किया। आपको बता दें कि हाल ही में 110 फाइटर जेट्स के मेगा कॉन्ट्रैक्ट की दिशा में रक्षा मंत्रालय ने RFI (रिक्वेस्ट फॉर इन्फर्मेशन) जारी किया है। उन्होंने कहा, ‘भारत की कॉम्बैट फाइटर्स बनाने वाली कंपनी एचएएल और छोटे कमर्शल प्लेन बनाने वाली इकलौती कंपनी महिंद्रा के साथ पार्टनरशिप करने के लिए बोइंग काफी उत्साहित है।’

कुमार ने बताया कि इस समझौते को लेकर पिछले 18 महीने से बात चल रही थी। उन्होंने कहा, ‘सामरिक साझेदारी की सरकार और MoD (रक्षा मंत्रालय) की मंशा मेक इन इंडिया एयरक्राफ्ट बनाने की है। हमने देश की कई कंपनियों से तमाम पहलुओं पर चर्चा की। इसके साथ ही हमने 400 से ज्यादा सप्लायर्स के साथ विचार-विमर्श किया।’

उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड अकेली ऐसी कंपनी है जो लड़ाकू विमान बनाती है जबकि महिंद्रा डिफेंस अकेली कंपनी है जो छोटे कमर्शल प्लेन्स बनाती है। यह हमारे लिए काफी रोमांचकारी है। एक सवाल के जवाब में कुमार ने कहा कि जॉइंट वेंचर कंपनी अगले तीन महीने में काम करने लगेगी। उन्होंने आगे यह भी बताया कि समझौते के तहत भारी निवेश होगा। हालांकि उन्होंने निवेश को लेकर कोई आंकड़ा रखने से इनकार कर दिया।

समझौते पर महिंद्रा डिफेंस सिस्टम्स के चेयरमैन एसपी शुक्ला ने कहा, ‘यह एक गठजोड़ है… हमारे पास तीन कंपनियां हैं जो अलायंस को अपनी विशेषज्ञता, डोमेन नॉलेज और फ्लेवर देंगी।’ हिंदुस्तान ऐरोनॉटिक्स लिमिटेड के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर टी सुवर्ण राजू ने कहा कि समझौते के तहत मौजूदा फसिलटीज का इस्तेमाल फाइटर प्लेन बनाने में किया जा सकता है या अगर जरूरी हुआ तो एक फसिलटी भी स्थापित की जा सकती है।

जानें कितना शक्तिशाली होगा सुपर हॉर्नेट
आपको बता दें कि सुपर हॉर्नेट फाइटर एयरक्राफ्ट पर न सिर्फ लागत कम आएगी बल्कि किसी टैक्टिकल एयरक्राफ्ट की तुलना में इसकी ऑपरेटिंग कॉस्ट प्रति घंटे भी कम आएगी। F/A-18 सुपर हॉर्नेट भारत की डिफेंस पावर को मजबूत कर आनेवाले दशकों में भारत को और भी ताकतवर देश बना देगा। इस जबरदस्त फाइटर प्लेन के मिलने से दुश्मन के नापाक इरादों का खतरा भी कम हो जाएगा।

गुरुवार को इस डिफेंस एक्सपो का औपचारिक तौर पर उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। बोइंग F/A सुपर हॉर्नेट फाइटर प्लेन दो इंजन के साथ ही कई भूमिका निभा सकते हैं। इनकी स्पीड 1915 किमी प्रति घंटे और रेंज 3,330 किमी होती है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....