Home अंतरराष्ट्रीय भारत को उकसाने के लिए पाकिस्तान में चल रहा ये जहरीला तराना

भारत को उकसाने के लिए पाकिस्तान में चल रहा ये जहरीला तराना

0 530 views
Rate this post

नई दिल्ली

pakistan-india125 फरवरी को पाकिस्तान में कश्मीर सॉलिडैरिटी डे मनाया जाता है। इस दिन कई गुट भारत को चिढ़ाने, उकसाने और गुस्सा दिलाने की पुरजोर कोशिश करते हैं। इसी कोशिश में लश्कर के चीफ हाफिज मोहम्मद सईद के जमात-उद-दावा ने एक नया वीडियो तैयार किया है। हैरत की बात ये है कि इस वीडियो में अपने देश के कई चेहरे भी दिख रहे हैं। ये वो चेहरे हैं जो अक्सर श्रीनगर में पाकिस्तानी झंडे फहराते वक्त भारत सरकार को कोसते नजर आते हैं।

भारत का मोस्ट वांटेड मुजरिम, पाकिस्तान की गोद में खेलने वाला लश्कर-ए-तैयबा का सरगना आतंकवादी हाफिज मोहम्मद सईद बाज आने को तैयार नहीं है। जहरीले भाषणों के बाद अब उसने भारत पर सोशल मीडिया के जरिए संगीतमय वार किया है।

लश्कर नाम के खूनी आतंकवादी संगठन की नींव डालने वाले सईद ने समाज सुधार का चोला ओढ़ने के लिए पाकिस्तान में जमात-उद-दावा नाम का संगठन बनाया था। ये नफरत और आग भरा वीडियो इसी जमात-उद-दावा के ट्विटर एकाउंट में डाला गया है, इसे नाम दिया गया है-कश्मीर बनेगा पाकिस्तान। खास तौर पर हैशटैग दिया गया है #HamaraKashmir

ये तैयारी है 5 फरवरी के कश्मीर एकता दिवस की। पाकिस्तान के नफरतजदा लोग कश्मीर एकता दिवस मना रहे हैं। 5 फरवरी के लिए खास तौर पर ये जहरीला तराना बनाया गया है। दिलचस्प बात ये है कि 5 फरवरी को कश्मीर सॉलिडैरिटी डे पर पूरे पाकिस्तान में सरकारी छुट्टी रहती है। इसमें सिर्फ जहर है। इसमें हिंदुस्तान से नफरत है। सबसे हैरतअंगेज बात ये कि इसमें कई हिंदुस्तानी चेहरे भी हैं।

कश्मीर का अलगाववादी नेता मसरत आलम जिसे राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के चलते गिरफ्तार किया गया था, अब भी वो नजरबंद है। मसरत आलम इस चार मिनट के वीडियो में तीन बार नजर आता है। एक जगह तो वो ये कहते हुए नजर आता है कि कश्मीर पाकिस्तान की सबसे बड़ी खून की धमनी है, हमें ये कभी भूलना नहीं चाहिए। मसरत आलम जमात-उद-दावा के पोस्टरों और बैनर में भी नजर आ रहा है।

जमात-उद-दावा के ट्विटर हैंडल से आए इस वीडियो में अफजल गुरु भी है। वो अफजल गुरु जिसे 2001 में संसद पर हुए आत्मघाती हमले में दोषी करार देते हुए फांसी की सजा दी गई। इस वीडियो में अलगाववादी नेता यासिन मलिक भी है। यासिन मलिक एक दौर में जेकेएलएफ नाम का आतंकवादी गुट चलाता था।

वीडियो में सैयद अली शाह गिलानी भी हैं, जो भारत विरोधी नजरिए के चलते सुर्खियों मे रहते हैं और कई बार अपने शिष्य और उत्तराधिकारी मसरत आलम के साथ श्रीनगर में भारत विरोधी रैलियों में जहर उगलते भी दिख चुके हैं। इसी वीडियो में आसिया अंद्राबी भी है। आसिया दुख्तरान-ए-मिल्लत नाम के कट्टरपंथी गुट से जुड़ी रही हैं। इसके अलावा इस वीडियो में शब्बीर शाह और जावेद मीर भी हैं।

इस वीडियो में बाकायदा पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल रहील शरीफ भी नजर आते हैं। ये जनरल ही थे जिन्होंने 2014 में रावलपिंडी में ये नारा उछाला था कि कश्मीर पाकिस्तान की सबसे अहम धमनी है। ये वीडियो पाकिस्तान के दावा प्रोडक्शंस ने बनाया है औऱ नजरिया पाकिस्तान के नाम से यूट्यूब पर डाला गया है। समझा जा रहा है कि नजरिया पाकिस्तान दरअसल जमात-उद-दावा का ही बदला हुआ चेहरा है। इस वीडियो में भारतीय संसद पर हमले का भी जिक्र है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....