Home भेल न्यूज़ भेल के आवासों में रहने वाले रिटायर्ड कर्मचारी इलाज से दूर

भेल के आवासों में रहने वाले रिटायर्ड कर्मचारी इलाज से दूर

0 210 views
Rate this post

भोपाल

भेल कारखाने से करीब डेढ़ दशक पूर्व रिटायर्ड हो चुके कर्मचारियों को कस्तूरबा अस्पताल में इलाज पाने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। कंपनी के ऐसे कर्मचारी जो सेवाविृत हो गए हैं और टाउनशिप के आवासों में रह रहे हैं। उन्हें भेल प्रबंधन द्वारा चिकित्सा सुविधा नहीं दी जा रही है। टाउनशिप में ऐसे लगभग 450 से 500 सेवानिवृत कर्मचारी रह रहे हैं। इधर जो कर्मचारी रिटायर्ड होने के बाद भेल टाउनशिप के बाहर अन्य कॉलोनियों में रह रहे हैं, उन्हें चिकित्सा सुविधा दी जा रही है।

भेल के सेवानिवृत कर्मचारियों का कहना है कि हम जिन आवासों में रह रहे हैं उनका बाजार दर के हिसाब से किराया दे रहे हैं, इसके बावजूद भी चिकित्सा सुविधा से वंचित कर रखा जा रहा है। भेल के रिटायर्ड कर्मचारियों का कहना है कि उन्हें वर्ष में एक बार मिलने वाली 10 हजार राहत राशि और इलाज की सुविधा प्रबंधन नहीं दे रहा है। उनका कहना है कि अधिकारी कहते हैं कि भेल का आवास खाली कर दो। इलाज की सुविधा मिलने लगेगी।

भेल के कई ऐसे सेवानिवृत कर्मचारी हैं जिन्हें कस्तूरबा अस्पताल में इलाज की सुविधा नहीं दी जा रही हैं। हाल ही में हुई नगर सलाहकार समिति (टीए)की बैठक में इंटक ने टाउनशिप में रहने वाले सेवानिवृत भेल कर्मचारियों को चिकित्सा सुविधा देने का मुद्दा उठाया था। युवा इंटक अध्यक्ष दीपक गुप्ता ने बताया कि 450 से 500 ऐसे सेवानिवृत कर्मचारी हैं, जिन्हें कस्तूरबा अस्पताल में इलाज नहीं मिल रहा। सेवानिवृत कर्मचारी हर माह टाउनशिप के आवासों का बाजार मूल्य के हिसाब से 3 से 4 हजार रुपए तक किराया देते हैं,उन्हें भी चिकित्सा सुविधा मिलनी चाहिए।

भेल प्रवक्ता का कहना है कि भेल टाउनशिप में रहने वाले सेवानिवृत कर्मचारियों को चिकित्सा की सुविधा दी जाती है। ऐसे कर्मचारियों को सुविधा नहीं दी जा रही है जो डिफाल्टर हैं। वे किराया व बिजली का बिल जमा नहीं कर रहे हैं। टाउनशिप के बाहर सेटेलाइट कालोनियों में रह रहे सेवानिवृत कर्मचारियों को इलाज की सुविधा दी जा रही है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....