Home फीचर मुंबई में मानसून की झमाझम बारिश से भरीं सड़कें, फ्लाइट डायवर्ट

मुंबई में मानसून की झमाझम बारिश से भरीं सड़कें, फ्लाइट डायवर्ट

0 27 views
Rate this post

मुंबई

मानसून मुंबई पहुंच चुका है और गुरुवार दोपहर को शहर में झमाझम बारिश हुई। यह इतनी तेज थी कि सड़कों पर शहर की सड़कों पर कुछ ही देर में पानी भर गया और कई इलाकों में ट्रैफिक जाम की स्थिति बन गई। पहली बारिश कितनी तेज है इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसके चलते जेट एयरवेज की दिल्ली-लंदन फ्लाइट को अहमदाबाद डायवर्ट करना पड़ा।

बता दें कि मौसम विभाग ने 6-10 जून के बीच भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इस चेतावनी को देखते हुए शहर में हाई अलर्ट है और बीएमसी ने अधिकारियों को निर्देश भी जारी किए हैं। अगर मौसम विभाग की भविष्यवाणी सही साबित होती है तो एक बार फिर मुंबई में रिकॉर्ड बारिश हो सकती है।

भारतीय मौसम विभाग की भविष्यवाणी के अनुसार, अगले 2-4 दिनों में मुंबई में 200 मिमी बारिश का अनुमान है। साल 2015 में जून के महीने में इसी तरह की भयंकर बारिश रिकॉर्ड की गई थी उस दौरान मुंबई में 283 मिमी बारिश हुई थी। इसी बीच राज्य सरकार और बृहन्नमुंबई म्यूनिसिपल कार्पोरेशन (बीएमसी) इस बारिश से बचने के उपायों पर गंभीरता से विचार कर रही है।

हालांकि मुंबईवासियों को भयंकर गर्मी से थोड़ी राहत जरूर मिली है। सोमवार को हल्की बारिश ने शहर का मौसम खुशनुमा बना दिया। आम तौर पर मुंबई में 7 से 10 जून के बीच बारिश शुरू होती है लेकिन इस बार केरल में भी तीन दिन पहले ही मॉनसून प्रवेश कर गया था। अब मौसम विभाग का अनुमान है कि मॉनसून 9 जून को मुंबई में प्रवेश करेगा। मौसम विभाग के अनुसार, 11 जून तक 200 मिमी बारिश होने के आसार हैं।

चार साल पहले 2015 में जून के महीने में 200 मिमी बारिश हुई, 19 जून को सबसे अधिक 283.4 मिमी बारिश रिकॉर्ड किया गया था जो उस साल का सबसे उच्चतम वर्षा का रिकॉर्ड था। हालांकि मुंबई में 1991 में जून के महीने में सबसे ज्यादा बारिश रिकॉर्ड किया गया था उस दौरान 399 मिमी बारिश था।

आईएमडी के सीनियर साइंटिस्ट अजय कुमार ने कहा कि हमने मुंबई में भारी बारिश का अनुमान लगाया है, आमतौर पर ऐसा नहीं होता है, लेकिन ऐसा पहले भी हो चुका है इसलिए सतर्कता बरतना जरूरी है। लोगों को इसे 2005 की बारिश से तुलना करके नहीं देखना चाहिए, इसलिए उन्हें भयभीत होने की जरुरत नहीं है।

बीएमसी ने बुधवार को अपने सभी अधिकारियों को आदेश जारी किया है कि वे वीकेंड पर अपनी ड्यूटी पर रहें। आपदा प्रबंधन की टीम को भी शहर के परेल, मानखुर्द और अंधेरी जैसे इलाकों पर तैनात रहने के निर्देश दिए गए हैं। नेवी के अधिकारियों को भी कोलाबा, वर्ली, घाटकोपर, ट्रांबे, मलाड जैसे बाढ़ अनूकूल इलाकों में चौकन्ना रहने के आदेश जारी किए गए हैं। इन सबके अलावा फायर ब्रिगेड के छह बचाव दल को भी समुद्री तटों पर तैनात किया गया है। नगर निगम के स्कूलों में बने शेल्टर्स को 24 घंटे खुला रखने का आदेश जारी किया गया है।

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग ने जिलों में अलर्ट जारी कर दिया है। राज्य के राहत व पुनर्वास मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने जिला प्रशासन को हाइ अलर्ट पर रहने का आदेश दिया है साथ ही नागरिकों को सावधानी बरतने को कहा है। मुंबई में अब तक 77.9 मिमी बारिश दर्ज किया जा चुका है। साथ ही अधिकतम तापमान गिरा है और वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ी है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....