Home फीचर यूपी: कंबल वितरण कार्यक्रम में भिड़े बीजेपी MP-MLA, चले जूते!

यूपी: कंबल वितरण कार्यक्रम में भिड़े बीजेपी MP-MLA, चले जूते!

0 61 views
Rate this post

सीतापुर

उत्तर प्रदेश में शनिवार को कंबल वितरण के दौरान धौरहरा से बीजेपी सांसद रेखा वर्मा और महोली से बीजेपी विधायक शशांक त्रिवेदी के बीच भिड़ंत हो गई। इस दौरान सांसद जूती उतारकर विधायक पर टूट पड़ीं। यही नहीं उन्होंने मौके पर मौजूद एसडीएम को भी धमकी दी कि अगर इस तरह से बवाल कराओगे तो दो दिन भी नहीं रुक पाओगे। साथ ही उन्होंने एसडीएम को औकात में रहने की चेतावनी भी दे डाली।

दरअसल, सीतापुर जिले में महोली तहसील के सभागार में कंबल वितरण कार्यक्रम में सांसद और विधायक के बीच जुबानी जंग इतना बढ़ गया कि समर्थकों में सिर फुटौव्वल की नौबत आ गई। विधायक के समर्थकों ने सांसद के बेटे अनमेश वर्मा की पिटाई कर दी। नाराज सांसद ने गुस्से में आकर जूती उतार ली और एसडीएम ब्रजपाल सिंह समेत विधायक पर तान दी। घंटों तक चले हंगामे के बाद दोनों ने सफाई देते हुए कहा कि कंबल लाभार्थियों के बीच विवाद हुआ था।

जानिए क्यों हुआ विवाद?
बता दें महोली के एसडीएम ब्रजपाल सिंह ने तहसील सभागार में कंबल वितरण कार्यक्रम आयोजित किया था, जिसमें मुख्य अतिथि सांसद रेखा वर्मा थीं। कंबल का वितरण करते समय विधायक शशांक अपने एक दर्जन समर्थकों के साथ पहुंच गए। उन्होंने सभी समर्थकों को सभागार के अंदर बुला लिया और खुद सांसद के बगल में बैठ गए। सांसद ने जब इस बात का विरोध किया तो विधायक ने कहा कि क्षेत्रीय जनता है और किसी को आने से नहीं रोका जा सकता है। सांसद ने इस पर कहा कि भीड़ ज्यादा होने की वजह से दिक्कत हो रही है। इस बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा शुरू हो गया।

विधायक के गनर ने सांसद के बेटे को पीटा
झगड़े के दौरान विधायक के गनर ने सांसद के समर्थकों की पिटाई कर दी। इसकी वजह से सांसद का पारा और भी चढ़ गया। उन्होंने जूती उतारकर एसडीएम और विधायक की ओर फेंकी। दूसरी बार फिर मारने के लिए जूती उठाई लेकिन उनका हाथ पकड़ लिया। एसडीएम इस झगड़े को देखकर किनारे खड़े हो गए जबकि विधायक ने हंगामा शुरू कर दिया।

एसडीएम ऑफिस में खुद को सांसद ने किया बंद
विधायक समर्थकों के तेवर देख सांसद ने खुद को एसडीएम के ऑफिस में कैद कर लिया। मारपीट के बाद सांसद के बेटे मौके से निकल गए। इस बीच मौके पर भारी पुलिस बल आ गया, जिसके बाद सभी को सभागार से बाहर कर दिया गया। कुछ देर बाद विधायक और एसडीएम ने दरवाजा खुलवाकर सांसद को बाहर आने के लिए कहा। इसके बाद एसडीएम कक्ष में ही विधायक और सांसद के बीच काफी देर तक बातचीत चलती रही।

सीएम के दखल के बाद सुलझा मामला
सूत्रों के मुताबिक, सांसद ने अपनी बात उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचा दी थी। इसके बाद मुख्यमंत्री ने डीएम डॉ. सारिका मोहन को फोन कर मामले का निस्तारण कराने का निर्देश दिया। वहीं जिले की प्रभारी मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने बीजेपी जिलाध्यक्ष अजय गुप्ता को मौके पर पहुंचकर मामले को शांत कराने के निर्देश दिए। इसके बाद डीएम और एसपी आनंद कुलकर्णी महोली पहुंचे। अजय गुप्ता भी संगठन की टीम के साथ पहुंच गए। एसडीएम कक्ष में दोनों वरिष्ठ अधिकारियों और अजय गुप्ता के बीच विधायक और सांसद ने एक दूसरे के खिलाफ कार्रवाई न करने पर सहमति जताई।

जूती उठाने की बात से मुकर गईं सांसद
जूती मारने के सवाल पर सांसद ने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। उनसे कहा गया कि विडियो में नजर आ रहा है कि आप जूती से मार रही हैं, इस सवाल पर विधायक और सांसद दोनों ने कहा कि विडियो फर्जी भी हो सकता है। विडियो की जांच करा ली जाएगी। इसके बाद प्रशासन ने सांसद को लखीमपुर रवाना कर दिया जबकि विधायक गेस्ट हाउस चले गए।

एसडीएम ने दी सफाई
एसडीएम महोली ब्रजपाल सिंह ने कहा कि मैंने तो सांसद को जूती मारते हुए नहीं देखा। हो सकता है कि उनके पुत्र के साथ कुछ लोग अभद्रता कर रहे थे तभी उन्होंने कुछ किया हो। प्रशासन ने अपने स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं की है। विवाद विधायक और सांसद के बीच हुआ था, जो अब खत्म हो गया है।

‘शिकायत हुई तो होगी कार्रवाई’
इस मामले में डीएम सारिका मोहन ने कहा कि सांसद और विधायक में से किसी ने शिकायत नहीं की है। यदि कोई शिकायत करता है तो कार्रवाई की जाएगी। विधायक के गनर के खिलाफ मारपीट की शिकायत मिली है, उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए निर्देश दे दिए गए हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....