Home कारपोरेट विजय माल्या को तगड़ा झटका, UK में हारे 10,000 करोड़ का केस

विजय माल्या को तगड़ा झटका, UK में हारे 10,000 करोड़ का केस

0 38 views
Rate this post

नई दिल्ली

बैंकों से लोन लेकर देश से भाग चुके भारतीय बिजनसमैन विजय माल्या को यूके की एक अदालत से बड़ा झटका लगा है। वह यूके में भारतीय बैंकों द्वारा फाइल किया गया 1.55 अरब डॉलर या 10,000 करोड़ रुपये का मुकदमा हार गए हैं।दरअसल, भारत के 13 बैंकों के समूह ने माल्या से 1.55 अरब डॉलर से अधिक की वसूली के लिए यहां एक मामला दर्ज कराया था। इस मामले में यूके कोर्ट में माल्या की याचिका खारिज हो गई है।

लंदन में जज एंड्र्यू हेनशॉ ने मंगलवार को कहा कि IDBI बैंक समेत लोन देनेवाले सभी बैंक भारतीय कोर्ट के फैसले को लागू करा सकते हैं। दरअसल, माल्या पर आरोप था कि उन्होंने जानबूझकर अब बंद हो चुकी अपनी किंगफिशर एयरलाइंस के लिए करीब 1.4 अरब डॉलर का कर्ज लिया था। जज ने दुनियाभर में माल्या की संपत्तियों को फ्रीज करने का आदेश पलटने की मांग भी ठुकरा दी।

आपको बता दें कि 62 साल के माल्या यूके में ही नहीं भारत में भी कई मुकदमों का सामना कर रहे हैं, जिसमें फ्रॉड और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों से जुड़े केस शामिल हैं। एक साल पहले उन्हें लंदन में गिरफ्तार किया गया था और अब वह प्रत्यर्पण से बचने के लिए कोर्ट में कानूनी लड़ाई लड़ रहे हैं। सुनवाई के बाद माल्या के वकीलों ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

जज ने मंगलवार के फैसले पर अपील करने की अनुमति भी नहीं दी। इसका मतलब यह है कि उनके वकीलों को अब सीधे कोर्ट ऑफ अपील में याचिका दाखिल करनी होगी। भारतीय बैंकों की ओर से पेश वकीलों ने कहा कि इस फैसले के बाद वह भारतीय डेट रिकवरी ट्राइब्यूनल के फैसले को लागू करा सकेंगे।उधर, पटियाला हाउस कोर्ट ने फ़ॉरन एक्सचेंज रेग्युलेशन ऐक्ट (FERA) उल्लंघन से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में मंगलवार को ही विजय माल्या की संपत्तियों को अटैच करने का भी आदेश दिया है।

अब जब्त की जा सकेगी माल्या की संपत्ति
अदालत ने भारतीय कोर्ट के उस आदेश को सही बताया है कि भारत के 13 बैंक माल्या से 1.55 अरब डॉलर की राशि वसूलने के पात्र हैं। यह फैसला काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि अब भारतीय बैंक इंग्लैंड और वेल्स में माल्या की संपत्तियों को जब्त करने के फैसले को लागू करा सकेंगे। दुनियाभर में जब्ती आदेश के चलते माल्या अपनी संपत्तियों को न तो बेच सकते हैं और न ही किसी तरह का सौदा कर सकते हैं। भारतीय बैंकों के इस समूह में एसबीआई, बैंक ऑफ बड़ौदा, कॉर्पोरेशन बैंक, फेडरल बैंक, आईडीबीआई बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, जम्मू कश्मीर बैंक, पंजाब ऐंड सिंध बैंक, पीएनबी, यूको बैंक, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया शामिल हैं।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....