Home खेल वेंगसरकर ने अफगानिस्तान टेस्ट के कार्यक्रम पर उठाए सवाल

वेंगसरकर ने अफगानिस्तान टेस्ट के कार्यक्रम पर उठाए सवाल

0 30 views
Rate this post

मुंबई

क्रिकेट जगत में यह बहस गर्म है कि क्या भारतीय कप्तान विराट कोहली को अफगानिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच छोड़कर सरे के लिए काउंटी क्रिकेट खेलना चाहिए। इस बीच भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान दिलीप वेंगसरकर ने इस पूरी बहस को नया मोड़ दे दिया है। पूर्व मुख्य चयनकर्ता ने इंग्लैंड दौरे से पहले ही अफगानिस्तान टेस्ट खेलने पर सवाल उठाया है।

उन्होंने शुक्रवार को कहा, ‘सच पूछें तो मुझे लगता है कि अफगानिस्तान टेस्ट गलत समय पर करवाया जा रहा है। बीसीसीआई को मुख्य रूप से इंग्लैंड दौरे पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। भारतीय ए टीम भी इंग्लैंड जा रही है। एक फ्यूचर टूर प्रोग्राम है, एक टेस्ट प्रोग्राम है, आपको उसका पालन करना होता है। इस बीच आप एक टेस्ट मैच करवा लेते हैं। टेस्ट मैच को हल्के में नहीं लिया जा सकता। यह अफगानिस्तान का पहला टेस्ट मैच है। वह खुद को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्थापित करना चाहते होंगे।’

भारत और अफगानिस्तान के बीच टेस्ट मैच 14 से 18 जून के बीच बैंगलोर में खेला जाएगा। वहीं भारत का इंग्लैंड दौरा जुलाई में शुरू होगा। इस दौरे का पहला टेस्ट मैच 1 अगस्त से खेला जाएगा। लॉर्ड्स टेस्ट में तीन शतक लगाने वाले वेंगसरकर ने कोहली के अफगानिस्तान टेस्ट मैच में खेलने के बजाय काउंटी क्रिकेट खेलने के फैसले का समर्थन किया

वेंगसरकर ने कहा, ‘यह एक अच्छा फैसला है। इससे कोहली को परिस्थितियों को भांपने और उनके साथ तालमेल बैठाने का वक्त मिलेगा। इंग्लैंड में पिछला दौरा उनके लिए अच्छा नहीं रहा था। तो ऐसे में काउंटी का यह साथ उनके लिए काफी महत्वपूर्ण है। वह वहां पहले जाना चाहते हैं, तो एक अच्छी बात है।’

अफगानिस्तान टेस्ट के लिए चेतेश्वर पुजारा भारत लौट आएंगे। वेंगसरकर का मानना है कि ऐसा करने से सारा उद्देश्य ही समाप्त हो जाता है। उन्होंने कहा, ‘अगर मैं चयनकर्ता होता तो मैं पुजारा को भी वहीं रुककर काउंटी क्रिकेट खेलते रहने की सलाह देता क्योंकि यही वे लोग हैं जिन्हें इंग्लैंड में सीरीज खेलनी है। उस समय के लिए भारत में अफगानिस्तान के खिलाफ खेलने का कोई औचित्य नहीं है। मेरे हिसाब से काउंटी क्रिकेट बीच में छोड़कर पुजारा के भारत लौटने का कोई औचित्य नहीं है।’ उन्होंने कहा कि काउंटी क्रिकेट में पुजारा के प्रदर्शन में अभी निरंतरता का अभाव है। ऐसे में अगर वह इंग्लैंड में रहकर क्रिकेट खेलते तो बेहतर होता।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....