Home राज्य शहीदों की अंतिम विदाई में रो पड़ा कश्मीर, लगे ‘PAK मुर्दाबाद’ के...

शहीदों की अंतिम विदाई में रो पड़ा कश्मीर, लगे ‘PAK मुर्दाबाद’ के नारे

0 12 views
Rate this post

श्रीनगर

हिज्बुल मुजाहिदीन के गढ़ और बुरहान वानी के गांव त्राल में मंगलवार की सुबह हर किसी की आंखें नम थीं। गांव से जुड़ती हर सड़क सन्नाटे से भरी थी और लोग इनके किनारे खड़े पाकिस्तानी दहशतगर्दों को कोस रहे थे। पुलवामा के इस गांव में सन्नाटे की वजह यहां के उस बेटे की शहादत थी जिसने हिन्दुस्तान की रक्षा करते हुए अपने प्राणों को न्यौछावर कर दिया था।

सुंजवान के हमले में शहीद हुए सेना के लांस नायक मोहम्मद इकबाल का पार्थिव शरीर जैसे ही पुलवामा के त्राल स्थित उनके घर पहुंचा पूरे गांव में बेटे की शहादत पर कोहराम मच गया। घरों से निकलकर गांव के हर शख्स ने ना सिर्फ गांव के सपूत की शहादत को सलाम किया बल्कि आतंक के उन हुक्मरानों को कोसा भी जिन्होंने हिन्दुस्तान के खिलाफ दहशत की साजिश रची थी। मोहम्मद इकबाल सेना की 1 जैकलाई रेजिमेंट में तैनात थे और सुंजवान के हमले के दौरान आतंकियों के खिलाफ हो रही कार्रवाई में शहीद हुए थे।

कुपवाड़ा में लगे पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे
ऐसा ही मंजर उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में भी दिखा। जिले के लोलाब इलाके में रहने वाले जेसीओ मोहम्मद अशरफ मीर की शहादत के बाद मंगलवार को जैसे ही सेना के जवान उनके पार्थिव शरीर को लेकर उनके घर पहुंचे, दहशतगर्दों के खिलाफ गांव का आक्रोश फूट पड़ा। पिछले कुछ दशकों में आतंक के सबसे बुरे दौर को देखने के बाद अब बेटे की शहादत का दर्द झेलने वाले लोगों के मुंह से पाकिस्तान की खिलाफत के नारे गूंज उठे। इसके बाद पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारों के बीच शहीद अशरफ मीर के शव को सैन्य सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

सुंजवान कैंप पर शनिवार को हुआ था हमला
गौरतलब है कि जम्मू के सुंजवान स्थित भारतीय सेना के एक कैंप पर शनिवार सुबह जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकी दस्ते ने फिदायीन हमला किया था। इस हमले के दौरान शुरू हुए सेना के काउंटर ऑपरेशन में 3 आतंकियों को मार गिराया गया था जबकि जवाबी कार्रवाई के दौरान सेना के 6 जवान शहीद हुए थे। इसके अलावा इस हमले में एक स्थानीय नागरिक की भी मौत हुई थी।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....