Home फीचर श्रीनगर: राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की आतंकियों ने की हत्या

श्रीनगर: राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की आतंकियों ने की हत्या

0 37 views
Rate this post

श्रीनगर

जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार एवं ‘राइजिंग कश्मीर’ के संपादक शुजात बुखारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई. अज्ञात हमलावरों ने शुजात बुखारी के कार्यालय के बाहर उनपर हमला किया. यह हमला उनपर उस समय हुआ जब वह अपने दफ्तर से इफ्तार पार्टी के लिए निकल रहे थे. एक साल पहले ही पाकिस्तानी आतंकियों से उन्हें धमकी मिली थी. उसके बाद उन्हें एक्स कैटेगरी की सुरक्षा दी गई थी. प्रेस क्लब ऑफ इंडिया ने भी निर्भीक पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या पर शोक जताया है.

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि बुखारी शहर के केंद्र लाल चौक में प्रेस एंक्लेव स्थित अपने कार्यालय से इफ्तार पार्टी के लिए निकल रहे थे. तभी उन पर काफी नजदीक से अंधाधुंध गोली चलाई गई. अधिकारियों ने बताया कि उन्हें तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया. पुलिस अधिकारियों ने बताया कि हमले में उनकी सुरक्षा में तैनात दो पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं.

पत्रकार की मौत पर जम्‍मू-कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती और पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुला ने शोक व्‍यक्‍त किया है. इसके अलावा देश के गृह मंत्री राजनाथ सिंह और कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के अलावा पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी समेत अन्‍य बड़ी राजनीति हस्तियों ने निंदा की है.

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीटर पर लिखा, ‘शुजात बुखारी की आकस्मिक मौत से हैरान और दुखी हूं. यह ईद से पहले आतंकियों की घिनौनी हरकत है . ‘ वहीं पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुला ने दुख व्‍यक्‍त किया है. उमर अब्‍दुला ने ट्वीटर पर लिखा – इस घटना से मैं पूरी तरह से शॉक्‍ड हूं. देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस घटना की निंदा की है. उन्‍होंने कहा कि यह आतंकियों की कायराना हरकत है. वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे. यह हमला ऐसी आवाजों को चुप कराने की कोशिश है.

राहुल गांधी बोले, ‘वह एक बहादुर पत्रकार थे’
वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मैं राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या की घटना का समाचार सुनकर दुखी हूं। वह एक बहादुर पत्रकार थे, जिन्होंने हमेशा जम्मू-कश्मीर में न्याय और शांति के लिए लड़ाई लड़ी थी। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं और वह हमेशा याद आते रहेंगे।’

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में काफी लंबे समय बाद पहली बार किसी पत्रकार को निशाना बनाया गया है. शुजात बुखारी को 2000 में उनपर हुए हमले के बाद सुरक्षा मुहैया कराया गया था. शुजात बुखारी पर यह हमला उस समय हुआ जब कुछ घंटे पहले गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 28 जून से जम्मू-कश्मीर में शुरू होने वाली अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा के लिए मीटिंग की थी.

बता दें कि आज ही केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह के घर कश्मीर के मामले पर उच्च स्तरीय बैठक की गई. सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में ईद के बाद कश्मीर में सीजफायर खत्म करना है या इसे जारी रखना है, इस पर चर्चा हुई. हालांकि अभी इस पर अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है. जम्मू-कश्मीर में शांति के उद्देश्य से गृहमंत्रालय ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन पर ईद तक रोक लगाई थी. इसे रमज़ान सीज़फायर कहा गया था. बैठक में अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा पर भी बात हुई.

45 मिनट चली इस बैठक में गृह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ साथ एनएसए अजीत डोभाल, आर्मी चीफ, आईबी चीफ, सीआरपीएफ के डीजी, बीएसएफ के डीजी जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी के अलावा गृह सचिव राजीव गौबा सहित गृह मंत्रालय के दूसरी अधिकारी भी मौजूद थे. इस बैठक से ठीक पहले भाजपा महासचिव और जम्मू-कश्मीर के प्रभारी राम माधव ने गृह सचिव राजीव गाबा से मुलाकात की.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....