Home फीचर सिर्फ 2 लोगों की पार्टी बनी BJP, खत्म हुआ जनतंत्र: यशवंत सिन्हा

सिर्फ 2 लोगों की पार्टी बनी BJP, खत्म हुआ जनतंत्र: यशवंत सिन्हा

0 101 views
Rate this post

चंडीगढ़

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पूर्व नेता यशवंत सिन्हा ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर अप्रत्यक्ष हमला बोला. बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा के साथ चंडीगढ़ पहुंचे यशवंत सिन्हा ने पाकिस्तान की ओर से किए गए ताजा सीजफायर उल्लंघन का उदाहरण देते हुए कहा कि केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब तक पाकिस्तान को सबक सिखाने में नाकाम रहे हैं.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि नरेंद्र मोदी पाकिस्तान की चाल का शिकार हो गए और खुद पाकिस्तान जाने के बावजूद भी पाकिस्तान की हरकतों पर काबू नहीं पा सके. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद लोगों को उम्मीद जगी थी कि वह पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद को खत्म करेंगे, लेकिन अब तक ऐसा कुछ नहीं हुआ.

कर्नाटक में BJP ने किया नाटक
कर्नाटक में सरकार बनाने में नाकाम रही भारतीय जनता पार्टी पर कटाक्ष करते हुए यशवंत सिन्हा ने कहा कि बीजेपी को कर्नाटक में जा कर नाटक नहीं करना चाहिए था. यशवंत सिन्हा ने साफ किया कि उनका मंच भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ नहीं है, लेकिन पार्टी के भीतर जनतंत्र खत्म हो चुका है, जिसके चलते पार्टी संगठन कमजोर पड़ गया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पर अप्रत्यक्ष हमला बोलते हुए कहा कि अब भारतीय जनता पार्टी इन दो लोगों की पार्टी बनकर रह गई है और आज पार्टी अपना पुराना स्वरूप खो चुकी है जो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और लालकृष्ण आडवाणी के समय था.

यशवंत सिन्हा ने कहा कि उनका मंच न तो किसी राजनीतिक संगठन से नज़दीकियां बढ़ाने का इच्छुक है और न ही वह चुनाव लड़ना चाहते हैं. जब उनसे यह पूछा गया कि बीजेपी में नरेंद्र मोदी का विकल्प कौन सा नेता हो सकता है तो उन्होंने कहा कि नेता बनाए नहीं जाते बल्कि अपने आप उभरते हैं.कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के प्रधानमंत्री बनने की काबिलियत पर सिन्हा ने यह कहकर सवाल का जवाब टाल दिया कि वह किसी व्यक्तित्व पर टिप्पणी नहीं करना चाहते.

तो मैं भी बागी हूं…
पार्टी के खिलाफ बागी रुख रखने वाले बीजेपी नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि उन्होंने अब तक पार्टी के किसी भी आदेश का उल्लंघन नहीं किया है और अगर सच को सच कहना गलत है तो वह बागी हैं. सिन्हा ने कहा कि उन्होंने अभी पार्टी छोड़ने का मन नहीं बनाया है और अगर पार्टी चाहे तो उनको निकाल सकती है. उन्होंने कहा की पार्टी किसी व्यक्ति विशेष से बड़ी होती है और पार्टी से भी बड़ा देश होता है.

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि नोटबंदी लागू होने के बाद छोटे-छोटे काम धंधा करने वाले लोग बर्बाद हो गए और उसके बाद रही सही कसर जीएसटी ने पूरी कर दी. सिन्हा ने अप्रत्यक्ष रूप से स्वीकार किया कि उनको पार्टी के वरिष्ठ नेताओं और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का आशीर्वाद प्राप्त है, इसलिए उनको पार्टी से निकालना आसान काम नहीं है.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....