Home फीचर सोनिया के सियासी डिनर पर बोले राहुल, राजनीति पर बातें हुईं और...

सोनिया के सियासी डिनर पर बोले राहुल, राजनीति पर बातें हुईं और दोस्ती भी बढ़ी

0 48 views
Rate this post

नई दिल्ली

भारतीय जनता पार्टी के विजय रथ को रोकने को विपक्ष एकजुटता के लिए रणनीति बना रहा है. राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष पद सौंपने के बाद यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी गठबंधन को मजबूत करने में जुटी हुई हैं. मंगलवार को उन्होंने कई विपक्षी पार्टियों के नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया है. इस डिनर पार्टी में 20 दलों के नेताओं को बुलाया गया था. इसमें कांग्रेस समेत 20 राजनीतिक दलों के नेता पहुंचे. डिनर में एनसीपी के शरद पवार और हाल ही में एनडीए से अलग हुए हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा नेता जीतन राम मांझी भी पहुंचे.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस डिनर के बाद ट्वीट किया कि इस डिनर में विपक्ष के नेताओं को आपस में मुलाकात का मौका मिला. उन्होंने कहा कि इस डिनर से इन नेताओं के बीच नजदीकियां बढ़ी हैं. उन्होंने आगे लिखा कि इस दौरान काफी राजनीतिक बातें हुईं, लेकिन इससे महत्वपूर्ण यहां सकारात्मक ऊर्जा, गर्मजोशी और सच्ची दोस्ती और लगाव देखने को मिला.

इस डिनर के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि यह एक दोस्ताना बैठक थी. इसमें देश के संविधान को बचाने के लिए चर्चा की गई. केंद्र में इस समय तानाशाह सरकार है और हम इस सरकार को हटाना चाहते हैं. आज एनडीए का कोई भी सहयोगी खुश नहीं है. अकाली दल, शिवसेना, टीडीपी सभी नाराज हैं. यह बैठक तो बस एक शुरुआत है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला का बयान- यूपीए अध्यक्षा ने सौहार्द्र और मित्रता वाला भोज दिया है. सरकार जहां दीवारें खड़ी करेगी, तो हम सबसे मिलकर रहेंगे. सरकार संसद चला नहीं रही. किसान, गरीब, मज़दूर के मुद्दे पर चर्चा हो.

डिनर में इन पार्टियों के नेता हुए शामिल:
1- समाजवादी पार्टी- रामगोपाल यादव
2- एनसीपी- शरद पवार
3- राजद- तेजस्वी यादव और मीसा भारती
4- नेशनल कॉन्फ्रेंस- उमर अबदुल्ला
5- झारखंड मुक्ति मोर्चा- हेमंत सोरेन
6- सीपीआई- डी राजा
7- रालोद- अजित सिंह
8- सीपीएम- मोहम्मद सलीम
9- डीएमके- कनिमोझी
10- बीएसपी- सतीश मिश्रा
11- जेवीएम- बाबूलाल मरांडी
12- आरएसपी- रामचंद्र
13- हिंदुस्तान अवाम मोर्चा- जीतन राम मांझी
14- जेडीएस- डॉ. के रेड्डी
15- एआईयूडीएफ- बदरुद्दीन अजमल
16- तृणमूल कांग्रेस- सुदीप बंदोपाध्याय
17- आईयूएमएल- कुट्टी
18- केरल कांग्रेस के जोश के मनी
19- हिंदुस्तान ट्राइबल पार्टी- शरद यादव
20- कांग्रेस के राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, मनमोहन सिंह, एके एंटनी, रणदीप सुरजेवाला, अहमद पटेल आदि.

डिनर में शामिल होने से पहले सीपीआई नेता डी राजा ने कहा कि उन्हें पता चला है कि इसमें और कुछ पार्टियां शामिल हो रही हैं, हालांकि उन्हें यह नहीं पता कि यह क्यों आयोजित की गई है. उन्होंने संभावना जताई कि अभी नहीं, लेकिन भविष्य में गठबंधन बन सकता है.इस डिनर में 2019 लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति पर विचार हो सकता है. इस डिनर में करीब 17 विपक्षी पार्टियों के नेताओं के शामिल होने की संभावना है.

इनको भेजा गया था आमंत्रण
कांग्रेस, सपा, बीएसपी, टीएमसी, सीपीएम, सीपीआई, डीएमके, जेएमएम, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा, आरजेडी, जेडीएस, केरल काँग्रेस, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, आरएसपी, एनसीपी, नेशनल कांफ्रेंस, एआईयूडीएफ, आरएलडी को न्यौता भेजा गया था. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इस डिनर में शामिल नहीं हो रही हैं. उनकी तरफ से सुदीप बंदोपाध्याय पहुंचे.

साफ है कि इस डिनर डिप्लोमेसी के जरिये सोनिया एक तीर से दो निशाना साधना चाहती हैं. विपक्षी नेताओं को डिनर पर बुलाकर वह ये साबित करना चाहती हैं कि मोदी के विकल्प के तौर पर बनने वाले गठजोड़ का नेतृत्व कांग्रेस के पास ही होगा.

दोस्तों के साथ शेयर करे.....