Home राष्ट्रीय ​जिस केजीपी को NHAI ने पूरा बताया था, वहां निरीक्षण करने गए...

​जिस केजीपी को NHAI ने पूरा बताया था, वहां निरीक्षण करने गए तीन इंजीनियर की मौत

0 32 views
Rate this post

पलवल

निर्माणाधीन केजीपी (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल) का निरीक्षण करने आए गायत्री प्रोजेक्ट कंपनी के इंजीनियरों की गाड़ी को शनिवार को हौंसगाबाद गांव के निकट एक डंपर ने टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जोरदार थी कि डंपर इंजीनियरों की स्कॉर्पियो गाड़ी को काफी दूरी तक खचेड़ता हुए ले गया। जिससे स्कॉर्पियो गाड़ी में सवार तीन इंजीनियरों की मौत हो गई, जबकि एक इंजीनियर घायल हो गए। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायलों को उपचार के लिए शवों को पोस्टमार्टम के लिए जिला नागरिक अस्पताल भिजवा दिया, जहां से घायल इंजीनियर को हॉयर सेंटर के लिए रेफर कर दिया। पुलिस ने मौके से डंपर चालक को गिरफ्तार कर कार्रवाही शुरू कर दी है।

गायत्री प्रोजेक्ट कंपनी के डीजीएम हरिप्रसाद ने बताया कि केजीपी एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य अंतिम दौर में चल रहा है। कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर एके त्रिपाठी, प्रवीन अग्रवाल, रंजन कुमार नाथ व सतीश कुमार स्कार्पियों गाडी से निर्माण कार्य का निरीक्षण कर रहे थे। इसी दौरान गाजियाबाद से पलवल की तरफ तेज रफ्तार डंपर आया। डंपर ने स्कार्पियों गाडी को टक्कर मार दी। जिसमें इंजीनियर सतीश कुमार, रंजन कुमार नाथ व अशोक त्रिपाठी की मौत हो गई है, जबकि प्रवीन अग्रवाल गंभीर रूप से घायल हो गए।

घटना के बाद पहुंची पुलिस ने डंपर को कब्जे में लेकर उसके चालक को गिरफ्तार कर लिया है। चांदहट थाना प्रभारी नगेंद्र डागर का कहना है कि शवों का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है, पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिए जाऐंगे।

दो दिन पहले एनएचआई ने कोर्ट में कहा था कि मोदी के समय न देने की वजह से नहीं हो रहा उद्धाटन
इसी ईस्टर्न पेरिफेरल यानी केजीपी (कुंडली-गाजियाबाद-पलवल) एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन पर विवाद हुआ था। बीते गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने भी तब कड़ी नाराजगी जताई थी, जब एनएचआई ने तर्क दिया कि निर्माण पूरा है। पीएम की व्यस्तता के चलते दो बार उद्घाटन टल चुका है। कोर्ट ने इस पर आदेश दिया कि पीएम उद्घाटन करें या न करें, 1 जून से एक्सप्रेस-वे को जनता के लिए खोल दिया जाए।

सड़क निर्माण का कार्य पूरा हो चुका है, लेकिन सात जगह ओवरब्रिज से लेकर इंटर चेंज, एग्जिट पॉइंट, जीरो पॉइंट और लास्ट पॉइंट तक काफी काम बिखरा पड़ा है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद शुक्रवार को एजेंसी सद्भाव ने काम और तेज कर दिया, ताकि 20 मई तक केजीपी को एनएचआई के हवाले किया जा सके। इसकी भी उम्मीद कम है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....