Friday , October 19 2018
Home / Featured / केरल में बाढ़ का कहर: अब तक 29 की मौत, 54000 लोग बेघर

केरल में बाढ़ का कहर: अब तक 29 की मौत, 54000 लोग बेघर

केरल

केरल में बारिश का कहर और भी बढ़ता जा रहा है। राज्य में बारिश और तूफान ने तबाही मचा रखी है। बाढ़ के चलते इडुक्की डैम के पांच शटर खोल दिए गए हैं, ऐसा 40 साल में पहली बार हुआ है। बताया गया कि एर्नाकुलम और त्रिशूर में हाई अलर्ट के साथ-साथ वयानड जिले में 14 अगस्त तक के लिए रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब तक कुल 29 लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग 54,000 लोग बेघर हो चुके हैं।

राहत और बचाव कार्य के लिए आर्मी की कुल आठ टीमें लगाई गई हैं। नेवी द्वारा चलाए गए ‘ऑपरेशन मदद’ के जरिए केरल के पहाड़ी इलाकों से अबतक 55 लोगों को बचाया जा चुका है। वयानड जिले के 1964 परिवारों के 10400 लोगों को राहत कैंपों में शिफ्ट किया गया है। अधिकारियों में अब तक कुल 29 लोगों की मौत हो चुकी है और लगभग 54,000 लोग बेघर हो चुके हैं।

मदद को आगे आए कर्नाटक और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री
केरल में बाढ़ की भयावह स्थिति को देखते हुए सीएम पिनाराई विजयन ने लोगों और संस्थाओं से मुख्यमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील की। कर्नाटक के मुख्यमंत्री ने 10 करोड़ रुपये और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने 5 करोड़ रुपये केरल के मुख्यमंत्री राहत कोष में दान करने की घोषणा की है। दूसरी तरफ केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी कहा है कि वह 12 अगस्त को केरल का दौरा किया है।

जानकारी के मुताबिक, इडुक्की डैम की क्षमता, 2403 फीट है और शुक्रवार सुबह 10 बजे तक डैम में 2401.34 फीट तक पानी भर चुका था। इडुक्की के जिला प्रशासन ने पर्यटकों के पहाड़ी इलाकों में जाने और भारी सामान ले जानेवाले वाहनों के संचालन पर भी रोक लगा दी है। यह भी बताया गया कि 40 साल में पहली बार ऐसा हुआ है, जब इडुक्की डैम के पांच शटर खोलने पड़े हैं।

बाढ़ के चलते एर्नाकुलम में 65,00 और इडुक्की के 7500 परिवारों के प्रभावित होने की आशंका जताई जा रही है। मुन्नार के एक रिजॉर्ट में लगभग 60 लोग फंसे हुए हैं। आशंका जताई जा रही है कि इनमें कई विदेशी हैं। बताया गया है कि रिजॉर्ट को जाने वाली एक सड़क भूस्खलन के बाद बाधित हो गई है। इस वजह से ये लोग वहां फंस गए हैं। उन्हें निकालने के लिए सेना की मदद ली जाएगी। बता दें कि स्थिति को देखते हुए अमेरिका पहले ही अपने नागरिकों को केरल न जाने की सलाह दे चुका है।

उधर गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारी बारिश से प्रभावित केरल को केंद्र की ओर से हर आवश्यक सहयोग प्रदान किया जाएगा। लोकसभा में शून्यकाल के दौरान केरल से ताल्लुक रखने वाले सदस्यों ने बारिश से हुए जानमाल का मुद्दा उठाया और केंद्र सरकार से विशेष वित्तीय पैकेज की मांग की। इस पर राजनाथ सिंह ने कहा कि वह केरल के मुख्यमंत्री से बात करेंगे।

गृह मंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने सहयोगी मंत्री किरण रिजिजू को स्थिति का जायजा लेने के लिये राज्य के दौरे पर भेजा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को जिस तरह के सहयोग की भी जरूरत होगी, वह केंद्र की तरफ से मुहैया कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि केरल के मुख्यमंत्री से उनकी बात हुई है और वह केंद्र की ओर से की जा रही मदद से संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा कि अगर किसी अन्य मदद की जरूरत होगी तो वह बताएंगे।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

सबरीमाला: पुजारी बोले- मंदिर बंद नहीं होगा, महिलाएं न आएं

तिरुवनंतपुरम केरल के सबरीमाला मंदिर में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बावजूद महिलाओं के प्रवेश …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)