Home राष्ट्रीय भारत का कड़ा विरोध, दिल्‍ली में उच्‍चायोग के बाहर लगे ब्रिटेन विरोधी...

भारत का कड़ा विरोध, दिल्‍ली में उच्‍चायोग के बाहर लगे ब्रिटेन विरोधी नारे

नई दिल्ली,

लंदन में 12 अगस्त को होने जा रही भारत विरोधी रैली के खिलाफ दिल्ली में शुक्रवार सुबह व्यापक प्रदर्शन किया गया. लंदन में सिख फॉर जस्टिस (SFJ) नाम की संस्था की ओर से रविवार को रैली के आयोजन की तैयारी है. दिल्ली में ऑल इंडिया एंटी टेरेरिस्ट फ्रंट (AIATF) के चेयरमैन मनिंदरजीत सिंह बिट्टा की अगुआई में लंदन रैली के विरोध में तीन मूर्ति मार्ग पर मोर्चा निकाला गया. बिट्टा को बाद में पुलिस अधिकारी ब्रिटिश उच्चायोग में ले गए जहां उन्होंने ब्रिटिश उच्चायुक्त सर डॉमिनिक एस्क्विथ को ज्ञापन सौंपा. ज्ञापन में लंदन में होने वाली रेफरेंडम रैली की निंदा करते हुए कहा गया कि ब्रिटिश सरकार को ऐसी ‘कपटपूर्ण’ मुहिम को शुरू नहीं होने देना चाहिए. साथ ही SFJ और इसके तथाकथित नेताओं शांति भंग करने देने से रोकना चाहिए.

बिट्टा ने मीडिया से बात करते कहा, ‘दिल्ली में ये हमारा प्रदर्शन ब्रिटिश सरकार और पाकिस्तान ISI के खिलाफ है. हमारा विरोध तब तक जारी रहेगा जब तक ब्रिटेन भारत को वांछित आंतकवादियों को सौंप नहीं देता और ऐसे तत्वों पर रोक नहीं लगाता…मैं काफी दिन से चुप था लेकिन पाकिस्तान हमारे देश को तोड़ने की कोशिश करेगा तो मैं चुप नहीं बैठूंगा.’

लंदन में होने वाली रेफरेंडम रैली के पीछे खालिस्तानी समर्थकों का हाथ बताया जा रहा है. बताया जा रहा है कि इस आयोजन के पीछे वांछित आतंकवादी परमजीत सिंह पम्मा का मुख्य तौर पर हाथ है.

ब्रिटिश उच्यायुक्त को सौंपे गए ज्ञापन में कहा गया, सिख अलगाववादी ताकतें सिख उग्रवादियों और पाकिस्तानी ISI एजेंटों के साथ मिलकर पंजाब में गड़बड़ी फैलाने की फिराक में हैं. ये भारत की आंतरिक सुरक्षा को चुनौती देना है. असल में कई सिख आतंकवादी पाकिस्तान की जमीन पर मौजूद हैं जिन्हें ISI की ओर से संरक्षण दिया जा रहा है. साथ ही सिख संगठन SFJ छदम संगठन है जो खालिस्तान बनाने की अवैध मांग का समर्थन कर रहा है. पंजाब पहले ही दो दशक तक आतंकवाद की आग में जल चुका है.

बिट्टा ने कहा कि वो ऐसी संवेदनशील स्थिति में ब्रिटेन के ढीले रुख को देखकर हैरान हैं. बिट्टा के मुताबिक ब्रिटेन समझ नहीं पा रहा कि इस तरह की गतिविधियों को इजाजत देने से भारत की आंतरिक सुरक्षा और सम्प्रभुता पर क्या गंभीर परिणाम पड़ सकते हैं. साथ ही ये उन देशों को भी प्रभावित करेगा जहां बड़ी संख्या में सिख रहते हैं.

लंदन में अलगाववादी रैली के आयोजन की रिपोर्ट के बाद भारत ने कई देशों में अपने उच्चायोगों और दूतावासों को इस तरह की संभावित रैलियों को लेकर अलर्ट जारी किया है.विदेश मंत्रालय में प्रवक्ता रवीश कुमार ने गुरुवार को मीडिया ब्रीफिंग में कहा, ‘हमने चुनींदा मिशनों को लंदन के आयोजन के संदर्भ में घटनाक्रम पर निगरानी रखने के लिए कहा है.’ इंडिया टुडे को सूत्रों से पता चला है कि SFJ लंदन के बाद जर्मनी, डेनमार्क, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड, खाड़ी के कुछ देशों, अमेरिका और कनाडा में इस तरह के आयोजनों की तैयारी कर रहा है.

इस बीच दिल्ली स्थित ब्रिटेन उच्चायोग की ओर से अपनी सरकार के रुख को दोहराया गया है. उच्चायोग की ओर से प्रतिक्रिया में कहा गया है- ‘ब्रिटेन में रहने वाले लोगों को प्रदर्शन और अपना दृष्टिकोण रखने का अधिकार बशर्ते कि ये कानून के दायरे में रह कर हो. अगर कोई प्रदर्शन कानून की अनदेखी करता है, फिर पुलिस के पास व्यापक शक्तियां हैं कि वो नफरत फैलाने वाली गतिविधियों और हिंसा या जन अव्यवस्था से जानबूझकर तनाव फैलाने वालों से निपट सके. लेकिन ये शांतिपूर्ण प्रदर्शन के अधिकार को नहीं नकारता. ये पुलिस का ऑपरेशनल मामला है कि वो अपनी शक्तियों का इस्तेमाल और विरोध प्रदर्शन का प्रबंधन कैसे करे?’

Did you like this? Share it: