Saturday , November 17 2018
Home / Featured / 5 बार लोकसभा चुनाव हारे थे वाजपेयी, इन नेताओं ने दी थी मात

5 बार लोकसभा चुनाव हारे थे वाजपेयी, इन नेताओं ने दी थी मात

नई दिल्ली,

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) दुनिया को अलविदा चुके हैं. 93 साल की उम्र में गुरुवार को उन्होंने दिल्ली के AIIMS में अंतिम सांस ली. वाजपेयी देश के पहले नेता हैं जो गैर कांग्रेसी प्रधानमंत्री बने थे. वाजपेयी 1952 से लेकर 2004 तक लोकसभा चुनाव लड़े. इस दौरान उन्होंने कई कीर्तिमान स्थापित किए, लेकिन पांच लोकसभा सीटों पर उन्हें हार का मुंह भी देखना पड़ा था.

वाजपेयी देश के एकमात्र ऐसे राजनेता हैं, जो चार राज्यों की छह लोकसभा क्षेत्रों की नुमाइंदगी कर चुके हैं. उत्तर प्रदेश के लखनऊ और बलरामपुर, गुजरात के गांधीनगर, मध्यप्रदेश के ग्वालियर और विदिशा और दिल्ली की नई दिल्ली संसदीय सीट से चुनाव जीतने वाले वाजपेयी एकलौते नेता हैं.

अटल बिहारी वाजपेयी पहली बार 1952 में लखनऊ लोकसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव में उतरे थे, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. कांग्रेस की शिवराजवती नेहरू से जनसंघ से चुनाव लड़ रहे अटल बिहारी वाजपेयी को हार मिली. दिलचस्प बात ये है कि वाजपेयी तीसरे नंबर पर रहे. वाजपेयी के हाथ पहली बार सफलता 1957 में लगी. 1957 में जनसंघ ने उन्हें तीन लोकसभा सीटों लखनऊ, मथुरा और बलरामपुर से चुनाव लड़ाया. लखनऊ में कांग्रेस के पुलिन बिहारी बनर्जी ने जनसंघ प्रत्याशी अटल बिहारी वाजपेयी को मात दी.

मथुरा में उनकी ज़मानत जब्त हो गई. मथुरा में उनके सामने कांग्रेस से चौधरी दिगंबर सिंह और सोशलिस्ट पार्टी के राजा महेंद्र प्रताप सिंह भी चुनाव लड़ रहे थे. वाजपेयी के समर्थन में पंडित दीनदयाल उपाध्याय और नानाजी देशमुख ने एक दिन में 14-14 सभाएं की. इसके बाद भी अटल बिहारी वाजपेयी हार गए. उन्हें राजा महेंद्र प्रताप सिंह के हाथों हार का मुंह देखना पड़ा. हालांकि बलरामपुर संसदीय सीट से चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे.

वाजपेयी तीसरे लोकसभा चुनाव 1962 में लखनऊ सीट से उतरे. कांग्रेस के बीके धॉन से उनका मुकाबला हुआ और यहां भी उन्हें हार मिली. इसके बाद वे राज्यसभा सदस्य चुने गए. इसके बाद 1967 में फिर लोकसभा चुनाव लड़े और लेकिन जीत नहीं सके. इसके बाद 1967 में ही उपचुनाव हुआ, जहां से वे जीतकर सांसद बने.

1971 में पांचवें लोकसभा चुनाव में अटल बिहारी वाजपेयी मध्य प्रदेश के ग्वालियर संसदीय सीट से उतरे और जीतकर संसद पहुंचे. आपातकाल के बाद हुए चुनाव में 1977 और फिर 1980 के मध्यावधि चुनाव में उन्होंने नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया.

1984 में अटल बिहारी ने मध्य प्रदेश के ग्वालियर से लोकसभा चुनाव का पर्चा दाखिल कर दिया और उनके खिलाफ अचानक कांग्रेस ने माधवराव सिंधिया को खड़ा कर दिया. जबकि माधवराव गुना संसदीय क्षेत्र से चुनकर आते थे. सिंधिया से वाजपेयी पौने दो लाख वोटों से हार गए.

बता दें कि अटल बिहारी ने एक बार जिक्र भी किया था कि उन्होंने स्वयं संसद के गलियारे में माधवराव से पूछा था कि वे ग्वालियर से तो चुनाव नहीं लड़ेंगे. माधवराव ने उस समय मना कर दिया था, लेकिन कांग्रेस की रणनीति के तहत अचानक उनका पर्चा दाखिल करा दिया गया. इस तरह वाजपेयी के पास मौका ही नहीं बचा कि दूसरी जगह से नामांकन दाखिल कर पाते. ऐसे में उन्हें सिंधिया से हार का सामना करना पड़ा.

इसके बाद वाजपेयी 1991 के आम चुनाव में लखनऊ और मध्य प्रदेश की विदिशा सीट से चुनाव लड़े और दोनों ही जगह से जीते. बाद में उन्होंने विदिशा सीट छोड़ दी.

हालांकि, 1996 में हवाला कांड में अपना नाम आने के कारण लालकृष्ण आडवाणी गांधीनगर से चुनाव नहीं लड़े. इस स्थिति में अटल बिहारी वाजपेयी ने लखनऊ सीट के साथ-साथ गांधीनगर से चुनाव लड़ा और दोनों ही जगहों से जीत हासिल की. इसके बाद से वाजपेयी ने लखनऊ को अपनी कर्मभूमि बना ली. 1998, 1999 और 2004 का लोकसभा चुनाव लखनऊ सीट से जीतकर सांसद बने.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

खुल गए सबरीमाला मंदिर के कपाट, भारी विरोध के बाद लौटेंगी तृप्ति देसाई

कोच्चि केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट शुक्रवार शाम 5 बजे दर्शन के लिए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)