Saturday , November 17 2018
Home / Featured / केरल: NDRF ने शुरू किया सबसे बड़ा ऑपरेशन

केरल: NDRF ने शुरू किया सबसे बड़ा ऑपरेशन

तिरुवनंतपुरम

देश का दक्षिणी राज्य केरल भारी बारिश और बाढ़ से बेहाल है। जिधर देखो, पानी ही पानी है। कुछ इलाकों में बाढ़ से हालात इतने खराब हो गए हैं कि घर की छत तक पानी पहुंच गया है। सड़कों पर नाव चल रही है। इंसानों के साथ-साथ जानवरों और पशु-पक्षियों की जान भी खतरे में है। इस बीच, NDRF (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) और तीनों सेनाओं के जवान प्राकृतिक आपदा में फंसे लोगों के लिए ‘देवदूत’ बनकर पहुंचे हैं। NDRF का कहना है कि उसने अब तक का सबसे बड़ा बचाव अभियान शुरू किया है।

राज्य के 14 में से 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। NDRF ने अब तक 10,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। बड़े पैमाने पर राज्य में राहत एवं बचाव अभियान चलाया जा रहा है। लोगों की जान बचाने के लिए जवान चॉपर को भी छत पर उतारने से पीछे नहीं हट रहे हैं। आपको बता दें कि तिरुवनंतपुरम, कसारागोड़ और कोल्लम में रेड अलर्ट जारी नहीं किया गया है। राज्य में बाढ़ के चलते 9 अगस्त से अब तक कुल 187 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया।

मदद को आगे आए राज्य
केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के मुताबिक, राज्य को तकरीबन 19512 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। केंद्र सरकार द्वारा 500 करोड़ रुपये की मदद की घोषणा पर सीएम ने कहा कि यह राशि काफी कम है। वहीं, कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने भी केरल की मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है। दिल्ली, हरियाणा, बिहार, झारखंड, कर्नाटक, गुजरात, महाराष्ट्र, ओडिशा और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने भी मदद का ऐलान किया है। साथ ही आम आदमी पार्टी के सभी नेताओं ने अपनी एक महीने की सैलरी बाढ़ से जूझ रहे राज्य केरल की मदद के लिए देने का फैसला किया है।

लगभग तीन गुना ज्यादा हुई है बारिश
केरल बाढ़ पर भारतीय मौसम विभाग की डॉ. एस देवी ने कहा, ’16 अगस्त तक वास्तविक वर्षा 619.5 मिमी थी जबकि आमतौर पर इसे 244.1 मिमी होना चाहिए था। बारिश की तीव्रता में कमी आई है और अब भारी बारिश नहीं होगी लेकिन बारिश 2 दिनों तक जारी रहेगी।’

बाढ़ से प्रभावित केरल के लिए भारतीय रेलवे 7 लाख लीटर पीने का पानी भेजेगा। केरल जानेवाले वॉटर स्पेशल ट्रेन के 14 वैगन पुणे में भरे जा रहे हैं। 15 लोडेड वैगन रतलाम से आ रहे हैं, जो शनिवार को दोपहर तक पुणे पहुंच जाएंगे। रतलाम से 15 वैगन आ जाने के आधे घंटे बाद वॉटर स्पेशल को पुणे से केरल के लिए रवाना कर दिया जाएगा। अस्थायी पाइपलाइनों के साथ त्वरित समय में स्थापित 15 एचपी पंप तुरंत इन वैगनों को भरने के लिए रखे गए हैं। पुणे का फायर ब्रिगेड भी इसमें मदद कर रहा है। भेजे जानेवाले पानी की जांच कर ली गई है।

तमाम एजेंसियां लगातार कर रही हैं मदद
एनडीआरएफ के महानिदेशक संजय कुमार ने बताया, ’58 टीमों को आठ प्रभावित जिलों में तैनात कर दिया गया है। हमने 170 लोगों का बचाया और 7000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया है। यदि आवश्यकता हुई तो और टीमें तैनात की जाएंगी।’ एनडीआरएफ के अलावा आर्मी, नेवी, एयरफोर्स और इंडियन कोस्ट गार्ड की टीमें भी लगातार राहत और बचाव कार्य में लगी हुई हैं।

केरल 50 हजार परिवारों के करीब 2.23 लाख लोग इस समय बेघर हैं, जो राज्य भर में बने 1568 राहत शिविरों में रह रहे हैं। 700 सैनिक स्पेशलाइज्ड इंजिनियरिंग टास्क फोर्स बोट और जरूरी इक्विपमेंट के साथ बचाव कार्य में लगे हैं। पिछले 9 दिनों में करीब 5000 लोगों को बचाया जा चुका है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

सबरीमाला: तृप्ति देसाई लौटीं, अगली बार बिना बताए आएंगी

कोच्चि केरल में सबरीमला मंदिर में महिलाओं की एंट्री को लेकर जारी विवाद के बीच …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)