Home राज्य बलरामपुर: फेसबुक चलाने पर किया प्रताड़ित, छात्र ने दे दी जान

बलरामपुर: फेसबुक चलाने पर किया प्रताड़ित, छात्र ने दे दी जान

बलरामपुर

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में फेसबुक चलाने पर शिक्षकों की प्रताड़ना से तंग आकर एक स्कूली छात्र ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। इस घटना के बाद से सनसनी फैल गई है। छात्र के पिता की तहरीर पर पुलिस ने दोनों शिक्षकों के खिलाफ केस दर्ज करके मामले की जांच शुरू कर दी है। स्थानीय लोगों के आक्रोश को देखते हुए मौके पर भारी संख्या में फोर्स तैनात कर दी गई है।

जिले के महराजगंज तराई थाना क्षेत्र के नरायनपुर में उस समय अफरा-तफरी मच गई, जब मातेश्वरी कन्या विद्यापीठ में कक्षा 10 के छात्र नीरज सोनी ने अपने घर के छत पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। फेसबुक चलाने और टिप्पणी को लेकर नीरज के स्कूल के दो शिक्षकों ने उसे कई बार प्रताड़ित किया था। एक माह पूर्व ही घरवालों ने नीरज से मोबाइल फोन भी वापस ले लिया था। परिजनों के मुताबिक, नीरज के शिक्षक शिवेन्द्र सिंह और प्रिन्स दोनों के पिता पुलिस विभाग में कार्यरत हैं और महराजगंज तराई थाना परिसर में ही रहते हैं।

शिक्षकों की प्रताड़ना से परेशान होकर उठाया कदम
गुरुवार 13 सितम्बर को दोनों शिक्षक विद्यापीठ से नीरज सोनी को बाइक पर बैठाकर थाने स्थित आवास पर ले गए और शाम को विद्यापीठ के प्रबंधक के बेटे के हस्तक्षेप के बाद थाने से छोड़ा। प्रबंधक के बेटे के साथ नीरज थाने से घर शाम करीब पांच बजे पहुंचा। मां से चाय देने को कहकर नीरज छत पर कमरे में चला गया। उसकी बहन शांती शाम को चाय लेकर कमरे में देने के लिए गई लेकिन कमरा अंदर से बंद था। उसने खिड़की से झांककर देखा तो नीरज प्लास्टिक की रस्सी से गले में फंदा लगाकर झूल रहा था। बेटी की चीख सुनकर मौके पर पहुंचे परिजनों ने दरवाजा तोड़ा फिर उसे निजी अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिजनों ने जब नीरज के कपड़े उतारे तो उसकी पीठ पर मारपीट के काफी गहरे जख्म थे।

प्रत्यक्षदर्शियों और विद्यापीठ की छात्राओं के मुताबिक, दोनों शिक्षकों ने थाना परिसर में स्थित आवास पर नीरज को ले जाकर उसकी बेरहमी से पिटाई की थी। शिक्षकों की प्रताड़ना और फिर पिटाई से क्षुब्ध नीरज ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। पुलिस ने दोनों आरोपी शिक्षकों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है और थाना परिसर के भीतर हुई। इस अमानवीय घटना को लेकर छानबीन शुरू कर दी गई है। थाना परिसर के भीतर हुई इस घटना से लोग हैरत में हैं। सब यही सवाल एक-दूसरे से पूछ रहे है कि आखिर मासूम नीरज की ऐसी क्या गुस्ताखी थी, जिसके कारण शिक्षकों ने थाना परिसर में उसे बेरहमी से पीटा। यही पिटाई मासूम छात्र की मौत का कारण बन गई। मौके पर पहुंचे सीओ सिटी ओपी सिंह ने बताया कि लोगों के आक्रोश को देखते हुए मौके पर फोर्स तैनात कर दी गई है। पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम को भेज जांच शुरू कर दी है। शिक्षक शिवेंद्र सिंह और प्रिंस के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मामले की गहनता से छानबीन की जा रही है, जो भी दोषी होंगे उन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Did you like this? Share it: