Wednesday , December 12 2018
Home / Featured / जम्मू-कश्मीर: पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की खबर झूठी

जम्मू-कश्मीर: पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की खबर झूठी

श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकियों द्वारा 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से पूरे देश में आक्रोश फैला हुआ है। जम्मू-कश्मीर पुलिस महकमे में भी हड़कंप मच गया है। खबर है कि दो पुलिसकर्मियों ने विभाग को विडियो मेसेज के जरिए इस्तीफा सौंप दिया है। हालांकि गृह मंत्रालय ने इसे खारिज किया है। गृह मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर पुलिस के हवाले से कहा है कि यह रिपोर्ट गलत और प्रायोजित है। इस तरह की रिपोर्ट कुछ शरारती तत्वों द्वारा गलत प्रॉपेगैंडा पर आधारित हैं।

गृह मंत्रालय ने कहा, ‘यहां 30 हजार से ज्यादा एसपीओ तैनात हैं, जिनकी सेवाएं समय-समय पर रिव्यू की जाती है, लेकिन कुछ शरारती तत्व यह फैला रहे हैं कि जिन लोगों का कार्यकाल प्रशासनिक कारणों से नहीं बढ़ाया गया उन्होंने इस्तीफा दे दिया है।’

बता दें कि शुक्रवार सुबह के शुरुआती घंटों में आतंकियों ने पुलिसकर्मियों को उनके घरों से अगवा कर लिया था। इसके कुछ देर बाद उनके शव एक बाग में मिले। मारे गए पुलिसकर्मियों की पहचान कॉन्स्टेबल निसार अहमद और दो स्पेशल पुलिस ऑफिसर (एसपीओ) फिरदौर अहमद और कुलवंत सिंह के रूप में हुई। इस जघन्य कांड के बाद मीडियो रिपोर्ट्स में इस्तीफा देने वालों की अलग-अलग संख्या बताई गई है।

गांववालों ने आतंकियों से लगाई गुहार
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें बाटागुंड और कपरान गांव स्थित उनके घर से शुक्रवार सुबह अगवा किया गया था। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों ने उन्हें ढूंढने के लिए गहन छानबीन शुरू की थी लेकिन आतंकियों ने उनकी गोलियों से भूनकर हत्या कर दी। उनके शव वांगम में एक बाग से बरामद किए गए।

पुलिस ने बताया बाटागुंड गांव के लोगों ने भी आतंकियों का पीछा किया था और पुलिसकर्मियों की रिहाई के लिए अपील की थी। लेकिन आतंकियों ने ग्रामीणों को डराने के लिए हवा में फायरिंग कर दी। हिज्बुल मुजाहिदीन के कथित ट्विटर हैंडल से घटना की जिम्मेदारी ली गई।

विडियो मेसेज हुआ था वायरल
बताया जा रहा था कि साथियों की हत्या से निचली रैंक के पुलिसकर्मियों में दहशत पैदा हो गई और करीब दो पुलिसकर्मियों ने विडियो मेसेज जारी कर खुद को फोर्स से अलग करने की घोषणा की। सोशल मीडिया में एक विडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें कहा गया है, ‘मेरा नाम इरशाद अहमद बाबा है और मैं पुलिस में कॉन्स्टेबल पद पर हूं। मैं अपना इस्तीफा सौंप रहा हूं….।’

जम्मू-कश्मीर पुलिस के एसपीओ तजाल्ला हुसैन लोन ने कहा कि उन्होंने 17 सितंबर को पलिस विभाग से इस्तीफा दे दिया और वह ये वीडियो इसलिए जारी कर रहे हैं ताकि उनके इस कदम को लेकर किसी तरह का कोई शक नहीं बना रहे।

महबूबा मुफ्ती ने जताया खेद
बता दें कि हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर रियाज नायकू ने कई बार स्थानीय पुलिसकर्मियों खासकर एसपीओ को नौकरी छोड़ने की धमकी दी थी और कहा था कि सरकार उनका इस्तेमाल कर रही है। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने भी ट्विटर पर इस घटना पर खेद जताया।

‘सरकार की नीतियां काम नहीं कर रहीं’
उन्होंने लिखा, ‘3 पुलिसकर्मियों ने आतंकवादियों की गोलियां खाकर अपनी जान गंवा दी। हमेशा की तरह गुस्सा, दुख और निंदा जैसे शब्द सुनने को मिलेंगे, लेकिन दुर्भाग्य से इससे मृतकों के परिवारों को सांत्वना नहीं मिलेगी।’ उन्होंने आगे कहा, ‘स्पष्ट रूप से पुलिसकर्मियों और उनके परिवारों के अपहरण की घटनाओं में वृद्धि के साथ केंद्र सरकार की नीति बिल्कुल काम नहीं कर रही है। संवाद अब एकमात्र रास्ता प्रतीत होता है।’

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

बीजेपी के दुर्ग ढहे, अब 2019 में कांटे की लड़ाई का स्टेज सेट

नई दिल्ली देश की चुनावी राजनीति में बीजेपी कल तक टीना (देयर इज नो अल्टरनेटिव) …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)