Monday , April 22 2019
Home / अंतराष्ट्रीय / बांधों के लिए चंदा मांग रहे इमरान खान का गणित है गलत

बांधों के लिए चंदा मांग रहे इमरान खान का गणित है गलत

नई दिल्ली

क्रिकेटर से राजनेता बने और अब पाकिस्तान में प्रधानमंत्री का ओहदा संभाल रहे इमरान खान पानी संकट से जूझ रहे देश को इस मुसीबत से बाहर निकालना चाहते हैं, लेकिन आर्थिक तंगी उनके लिए बड़ी चुनौती है। इमरान ने बांधों के लिए चंदे का सहारा लेने का फैसला किया है। वह देशवासियों से 14 अरब डॉलर (करीब 10 हजार करोड़ रुपये) जुटाने की अपील कर रहे हैं, लेकिन यह बहुत मुश्किल है। इमरान खान की इस प्लानिंग का गणित ही गड़बड़ है। आइए जानते हैं…

गिनती में समस्या: इमरान खान चंदे के लिए देश के 20.17 करोड़ नागरिक और विदेशों में रहने वाले 76 लाख लोगों पर निर्भर हैं। हालांकि, पाकिस्तान की 24.3 फीसदी जनसंख्या यानी करीब 5 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे हैं और उनकी आमदनी प्रतिदिन महज 1.25 डॉलर (90 रुपये) है।

गुणा भी गलत: इमरान खान चाहते हैं कि विदेशों में रहने वाला हर पाकिस्तानी 1 हजार डॉलर की मदद दे। अपील के मुताबिक यदि सभी इतनी राशि दें तो कुल रकम होगी 7.6 अरब डॉलर। यानी आवश्यकता की आधी रकम से कुछ ही अधिक। शेष 6.4 अरब डॉलर के लिए 15.7 करोड़ लोगों को 42-42 डॉलर देने होंगे, जबकि उनकी प्रति व्यक्ति आय महज 1,641 डॉलर है।

धन का धीमा प्रवाह: इमरान खान विदेशों से भेजे जाने वाले धन पर निर्भर हैं, जोकि पिछले वित्त वर्ष में महज 20 अरब डॉलर था। इसके अलावा 80 लाख डॉलर सेना और 9,740 डॉलर नैशनल फुटबॉल टीम ने डोनेट किया। यह बताने की जरूरत नहीं कि सरकार ने 8 भैंसों को बेचकर 23 लाख रुपये जुटाए हैं।

अगर देश को जल के गंभीर संकट से उबारने की खान की यह कोशिश कामयाब होती है तो वह किकस्टार्टर के मौजूदा रेकॉर्ड को तोड़कर 700 गुना रकम जुटाएंगे। आम पाकिस्तानियों ने खान के आग्रह का जवाब गरमजोशी से दिया है, लेकिन अब तक जो रकम जुटाई गई है वह सागर में एक बूंद के मानिंद है।

क्रिकेटर से वजीर-ए-आजम का लंबा सफर तय करने वाले खान ने इसी महीने एक टेलिविजन अपील में लोगों को आगाह किया था, ‘हमारे पास बस 30 दिनों का पानी का भंडार है।’ ‘वाल स्ट्रीट जर्नल’ के मुताबिक अभी तक सबसे बड़ा ‘किकस्टार्टर’ अभियान ‘पेबल टाइम स्मार्टवाच’ के लिए था जिसने 32 दिन में दो करोड़ डॉलर से कुछ ज्यादा रकम जुटाई थी।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

श्रीलंका ब्लास्ट आंखों देखी, आत्मघाती हमलावर से भिड़ गए थे पादरी

चेन्नै/नई दिल्ली/कोलंबो श्रीलंका के बट्टिकलोआ में जायन चर्च के पादरी फादर कुमरैन ने उस अजनबी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)