Wednesday , December 12 2018
Home / राष्ट्रीय / भारत ने पिछले 20 साल में प्राकृतिक आपदाओं से गंवाए 59 खरब रुपये

भारत ने पिछले 20 साल में प्राकृतिक आपदाओं से गंवाए 59 खरब रुपये

संयुक्त राष्ट्र

जलवायु परिवर्तन के कारण पिछले 20 साल में आई प्राकृतिक आपदाओं से भारत को 79.5 अरब डॉलर (करीब 59 खरब रुपये) का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा है। संयुक्त राष्ट्र ने अपनी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है। ‘आर्थिक नुकसान, गरीबी और आपदा: 1998-2017’ शीर्षक वााली इस रिपोर्ट में जलवायु परिवर्तन से होनेवाले महत्वपूर्ण बदलाव या मौसमी घटनाओं के वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव का आकलन किया गया है। इसे संयुक्त राष्ट्र के आपदा जोखिम में कमी लाने के लिए काम करनेवाले विभाग ने तैयार किया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 1998 से 2017 के बीच जलवायु परिवर्तन के चलते आनेवाली प्राकृतिक आपदाओं से सीधे होनेवाले आर्थिक नुकसान में 151 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। इस दौरान वैश्विक अर्थव्यवस्था को 2,908 अरब डॉलर (करीब 2 लाख 15 हजार 933 अरब रुपये) का सीधा नुकसान हुआ है। यह उससे पिछले दो दशकों में हुए नुकसान के मुकाबले दोगुना अधिक है।

बुधवार को जारी इस रिपोर्ट में कहा गया है जलवायु परिवर्तन का जोखिम बढ़ रहा है। कुल आर्थिक नुकसान में बड़ी मौसमी घटनाओं से होनेवाली हानि की हिस्सेदारी 77 प्रतिशत है, जो 2,245 अरब डॉलर (करीब 1 लाख 66 हजार 477 अरब रुपये) के करीब है। इस तरह 1978 से 1997 के बीच इनसे 895 अरब डॉलर (करीब 66 हजार 350 अरब रुपये) का सीधा आर्थिक नुकसान हुआ था।

इसमें अमेरिका को 944.8 अरब डॉलर (करीब 70 हजार 042 अरब रुपये), चीन को 492.2 अरब डॉलर (करीब 36 हजार 489 अरब रुपये), जापान को 376.3 अरब डॉलर (करीब 27 हजार 897 अरब रुपये), भारत को 79.5 अरब डॉलर (करीब 59 खरब रुपये) और प्यूर्तो रिको को 71.7 अरब डॉलर (5,316 अरब रुपये) का नुकसान हुआ है। बाढ़, तूफान और भूकंप से होनेवाले ज्यादा आर्थिक नुकसान में तीन यूरोपीय देश शीर्ष पर हैं। इसमें फ्रांस को 48.3 अरब डॉलर (करीब 3,581 अरब रुपये), जर्मनी को 57.9 अरब डॉलर (करीब 4,291 अरब रुपये) और इटली को 56.6 अरब डॉलर (करीब 4,195 अरब रुपये) का नुकसान हुआ है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

शताब्दी-राजधानी में सफर में अब नहीं लगेंगे झटके : रेलवे

नई दिल्ली तकनीक के साथ आगे बढ़ते हुए भारतीय रेलवे की शताब्दी एक्सप्रेस और राजधानी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)