Thursday , October 18 2018
Home / Featured / #MeToo अकबर के ऊपर लगे आरोपों पर स्मृति ईरानी बोलीं- बेहतर होगा कि वह जवाब दें

#MeToo अकबर के ऊपर लगे आरोपों पर स्मृति ईरानी बोलीं- बेहतर होगा कि वह जवाब दें

नई दिल्ली

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने मंत्रिमंडल सहयोगी एमजे अकबर के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर गुरुवार को कुछ कहने से इनकार कर दिया, लेकिन उन्होंने यह जरूर कहा कि उन महिलाओं के साथ इंसाफ होना चाहिए जो अपनी बात रख रही हैं. #MeToo अभियान के तेज होने पर कुछ महिला पत्रकार भी सामने आयीं और उन्होंने विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर दो अखबारों में उनके संपादक रहने के दौरान यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया.

अकबर के खिलाफ आरोपों के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय कपड़ा मंत्री ने कहा, ‘बेहतर होगा कि संबंधित सज्जन इस मुद्दे पर बोलें.’ उन्होंने कहा, ‘मैं इस बात की तारीफ करती हूं कि मीडिया अपनी (पूर्व) महिला सहयोगियों का साथ दे रहा है लेकिन मेरा मानना है कि संबंधित सज्जन को बयान देना है, न कि मुझे क्योंकि मैं व्यक्तिगत रूप से वहां नहीं थी.’

उन्होंने कहा, ‘मैंने इस खास मुद्दे पर बार बार कहा है कि विशेष तौर पर अपनी आपबीती सामने रख रही महिलाओं को किसी भी तरह शर्मिंदा नहीं होना चाहिए. उन्हें परेशान नहीं किया जाना चाहिए तथा उनका मजाक नहीं उड़ाया जाना चाहिए.’ईरानी ने कहा कि महिलाएं उत्पीड़न का शिकार बनने नहीं, बल्कि अपने सपने को साकार करने, सम्मानजनक जिंदगी जीने के लिए काम करने जाती हैं.

उन्होंने कहा, ‘इसलिए, मैं आज यहां कहूंगी कि अपने पेशेवर जिंदगी में महिलाओं के साथ जो कुछ हुआ, उसके बारे में सामने आकर बोलना बहुत मुश्किल भरा होगा. लेकिन हमारे समाज में इस वक्त अहम बात है कि अधिकाधिक महिलाओं को समर्थन मिल रहा है ताकि वे बोल सके. ’उन्होंने कहा, ‘मैं महसूस करती हूं कि हमारे न्यायिक और पुलिस तंत्र में इंसाफ के पर्याप्त उपाय हैं और मैं आशान्वित हूं कि जो महिलाएं बोल रही हैं उन्हें सही प्रक्रिया के तहत इंसाफ मिलेगा जिसकी वे हकदार हैं.’

उधर, कई विपक्षी दलों ने अकबर के इस्तीफे की मांग की है। कांग्रेस ने कहा है कि उन्हें संतोषजनक जवाब देना चाहिए या इस्तीफा देना चाहिए। बीजेपी के कुछ नेताओं का मानना है कि अकबर के खिलाफ लगे आरोप आगामी विधानसभा चुनावों और 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी की छवि के लिए ठीक नहीं है। खासकर तब, जब पार्टी नरेंद्र मोदी सरकार के महिलाओं के हित में उठाए गए कदमों को रेखांकित कर रही है। संयोग से भगवा पार्टी की महिला इकाई सरकार की महिला समर्थक योजनाओं के प्रचार के लिए शुक्रवार से पांच दिवसीय क्रमिक मैराथन की शुरूआत करेगी।

उल्लेखनीय है कि #Metoo के जोर पकड़ने पर कुछ महिला पत्रकार भी सामने आईं और उन्होंने विदेश राज्यमंत्री अकबर पर अखबार में उनके संपादक रहने के दौरान यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया। केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति इरानी ने अपने मंत्रिमंडल सहयोगी एम जे अकबर के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर गुरुवार को कुछ कहने से इनकार कर दिया, लेकिन उन्होंने यह जरूर कहा कि उन महिलाओं के साथ इंसाफ होना चाहिए जो अपनी बात रख रही हैं।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

आजम खान ने दी सरकार को चुनौती, ताजमहल गिराकर शिवमंदिर बनाया जाए

लखनऊ, अपने बयानों के लिए चर्चित समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान ने इलाहबाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)