Wednesday , November 14 2018
Home / कॉर्पोरेट / सरकार-RBI को 100 बैंक फ्रॉड के डीटेल्स मिले

सरकार-RBI को 100 बैंक फ्रॉड के डीटेल्स मिले

नई दिल्ली

केंद्रीय सतर्कता आयोग यानी सेंट्रल विजिलेंस कमिशन (सीवीसी) ने सरकार, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) और जांच एजेंसियों के साथ 100 बैंक फ्रॉड्स के डीटेल सौंपे हैं ताकि आगे की कार्रवाई की जा सके। इसने बैंकों से कहा कि वे बड़े कर्जदारों की प्रत्यक्ष पड़ताल करनी और तथ्यों की तलाश में बाहरी एजेंसियों को लगाना चाहिए।

CVC ने बैंकों के लिए कुछ कदम उठाने का सुझाव दिया, जिनमें कंट्रोलिंग ऑफिसेज पर नजर रखने के साथ-साथ स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रसीजर (SOPs) और मॉनिटरिंग सिस्टम्स को मजबूत करना भी शामिल है। जिन सेक्टरों के जरिए बैंक फ्रॉड्स हुए हैं, उनमें जेम्स और जूलरी, खेती, मीडिया, एक्सपोर्ट्स, एविएशन, ट्रेडिंग और सेवा आदि शामिल हैं।

सतर्कता आयुक्त टी एम भसीन ने कहा कि आरबीआई ने सीवीसी रिपोर्ट को गंभीरता से लिया और वित्त मंत्रालय ने इसे सभी सरकारी बैंकों को भेजा है ताकि वे इसकी पड़ताल कर सकें। आयोग ने न तो कर्जदारों और न ही बैंकों के नाम प्रकाशित किए हैं। भसीन ने कहा, ‘प्रभावी कार्रवाई के लिए प्रमुख जांच एजेंसियों द्वारा जांच, बैंककर्मियों की जिम्मेदारी तय करने और रिकवरी के लिए आवश्यक कदम उठाने जैसी कार्रवाइयों के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।’

सीवीसी ने फर्जीवाड़े में तब्दील कर्जों को लेने के तरीकों का विश्लेषण किया, कहां गड़बड़ियां हुईं, उसकी पहचान की और व्यवस्थागत सुधार के सुझाव दिए। मसलन, एविएशन सेक्टर के एक मामले में सीवीसी ने पाया कि एक एयरलाइन ने अपने फाइनैंशल स्टेटमेंट्स में तथ्यों को छिपाकर बैंक को धोखा दिया। इस एयरलाइन कंपनी का एविएशन सेक्टर में 21 प्रतिशत मार्केट शेयर है। कंपनी ने बैंक से फंड लेकर दूसरी एंटिटीज को दे दिया। इस एयरलाइन कंपनी का नाम लिए बिना सीवीसी रिपोर्ट में कहा गया है, ‘कंपनी ने पैसे को डायवर्ट करने के लिए बैंकों को धोखा दिया। बैंक से लिए गए कर्ज की रकम को कंपनी ने सात देशों की अलग-अलग फर्जी कंपनियों में डायवर्ट कर दिया गया।’

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

केंद्र और RBI में टकराव के बीच पीएम मोदी से मिले थे गवर्नर उर्जित पटेल: रिपोर्ट

नई दिल्ली केंद्र सरकार और रिजर्व बैंक के बीच पैदा हुए मतभदों को संभालने के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)