Wednesday , May 22 2019
Home / Featured / वकील पर घिरी कांग्रेस ने केंद्र को बताया अगुस्टा प्रमोटर

वकील पर घिरी कांग्रेस ने केंद्र को बताया अगुस्टा प्रमोटर

नई दिल्ली

अगुस्टा वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर डील में कथित घोटाले की जांच के लिए दिल्ली की अदालत ने बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को सीबीआई की कस्टडी में सौंप दिया है। मिशेल के भारत आने के बाद से ही बीजेपी और कांग्रेस एक दूसरे पर हमलावर नजर आ रही हैं। इस विवाद ने बुधवार को तब और तूल पकड़ लिया जब यूथ कांग्रेस के लीगल सेल के इंचार्ज ऐडवोकेट एल्जो जोसेफ मिशेल की तरफ से कोर्ट में पेश हुए। बीजेपी ने मामले को उछाला, तो कांग्रेस ने इसे जोसेफ का व्यक्तिगत फैसला बताते हुए उन्हें यूथ कांग्रेस से बाहर का रास्ता दिखा दिया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि राफेल डील में हुए घोटाले से ध्यान हटाने के लिए मोदी सरकार मिशेल का इस्तेमाल कर रही है और उसने यूपीए द्वारा ब्लैकलिस्ट की गई अगुस्टा/फिनमेकेनिका को प्रमोट करते हुए उसे काम दिया है।

बता दें कि राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस ने पिछले कुछ महीनों से मोदी सरकार को राफेल डील पर घेर रखा है। अब मिशेल के सफल प्रत्यर्पण ने बीजेपी को भी पलटवार का मौका दिया है। दरअसल अगुस्टा वेस्टलैंड डील मामला यूपीए काल का है। जांच एजेंसियां इस सौदे में मिशेल और अन्य दो बिचौलियों द्वारा भारतीय नेताओं व अफसरों को रिश्वत देने के मामले की जांच कर रही हैं। ऐसे में अब इस बात के आसार साफ नजर आ रहे हैं कि 2019 आम चुनावों से पहले संसद के शीतकालीन सत्र में बीजेपी, कांग्रेस के बीच अगुस्टा बनाम राफेल की जंग देखने को मिलेगी।

मिशेल के वकील के बहाने बीजेपी ने शुरू की कांग्रेस को घेरने की कोशिश
कांग्रेस और बीजेपी के बीच इस भिड़ंत की शुरुआत भी हो चुकी है। दक्षिणपंथी विचारक एस गुरुमुर्ती ने मिशेल की तरफ से कोर्ट में पेश हुए एल्जो जोसेफ को सीधे तौर पर गांधी परिवार से ही जोड़ दिया है। गुरुमुर्ति ने ट्वीट कर इसे सोनिया फैमिली द्वारा घोटाले में शामिल होने का एक तरह से कबूलनाम तक बता डाला। बीजेपी आईटी सेल के हेड अमित मालवीय ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर कांग्रेस को घेरा। हालांकि जोसेफ ने पार्टी द्वारा ऐक्शन लिए जाने से पहले अपनी सफाई में कहा था कि वह अपने प्रफेशनल क्षमताओं के लिए मिशेल की तरफ से पेश हुए थे, इसका कांग्रेस पार्टी से कोई लेना-देना नहीं है।

राफेल से ध्यान हटाने की कोशिश, अगुस्टा को प्रमोट कर रही मोदी सरकार: कांग्रेस
कांग्रेस ने मिशेल के प्रत्यर्पण को राफेल डील में घोटाले के आरोपों से बचने का रास्ता बताया है। कांग्रेस का आरोप है कि मोदी सरकार ने विपक्ष को काउंटर करने के लिए मिशेल का प्रत्यर्पण कराया है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर पलटवार करते हुए उसे यूपीए द्वारा ब्लैकलिस्ट की गई अगुस्टा/फिनमेकेनिका कंपनी का ‘प्रोटेक्टर और प्रमोटर’ बताते हुए उसे खरीदारी के बडे़ ऑर्डर देने का आरोप लगाया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार बैन कंपनी अगुस्टा वेस्टलैंड/फिनमेकेनिका की मदद करने में अपनी भूमिका छिपाने के लिए इस साजिश में जुटी है।

सुरेजवाला ने कहा कि मिशेल पहले ही आरोप लगा चुका है कि मोदी सरकार उसे इस मामले से निकालने की शर्त पर सोनिया गांधी का नाम लेने का दबाव बना रही थी। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से जब मिशेल पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने बदले में सवाल दागते हुए कहा कि मोदीजी ने अनिल अंबानी को 30,000 करोड़ रुपये क्यों दिए। पीएम मोदी ने भी राजस्थान में चुनाव प्रचार के आखिरी दिन मिशेल के प्रत्यर्पण को मुद्दा बनाने की कोशिश करते हुए उसे यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी का राजदार तक बता डाला।

बता दें कि इटली की कंपनी अगुस्टा वेस्टलैंड के साथ वीवीआईपी चॉपर डील में हुए कथित घोटाले के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल को बुधवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने मिशेल को 5 दिन के लिए सीबीआई कस्टडी में सौंपा है। बता दें कि मंगलवार रात को उसे दुबई से भारत लाया गया था।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

EVM: कांग्रेस नेता ने SC पर की विवादित टिप्पणी

नई दिल्ली एग्जिट पोल्स में पिछड़ने के बाद से ही लोकसभा चुनाव के लिए आशंकित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)