Monday , March 25 2019
Home / खेल / IND v AUS: टेस्ट के बाद होगी ODI में परख

IND v AUS: टेस्ट के बाद होगी ODI में परख

सिडनी

टेस्ट में सफलता के बाद गैरजरूरी विवाद का सामना कर रही भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शनिवार से यहां शुरू हो रही तीन मैचों की वनडे इंटरनैशनल सीरीज के साथ विश्व कप की अपनी तैयारी को अंतिम रूप देने की कोशिश करेगी।

हार्दिक पंड्या और लोकेश राहुल की एक टीवी शो के दौरान महिलाओं के प्रति ‘अनुचित’ टिप्पणी से भारतीय टीम का ध्यान भंग हुआ होगा। पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय से पूर्व कप्तान विराट कोहली ने भी कहा है कि टीम प्रबंधन को अभी इस फैसले का इंतजार है कि इन दो खिलाड़ियों पर क्या प्रतिबंध लगाया जाता है या उन्हें क्या सजा दी जाती है।

टीम प्रबंधन ने पहले एकदिवसीय मैच के लिए खिलाड़ियों की संशोधित सूची की घोषणा नहीं की है और उसे इन दोनों खिलाड़ियों की उपलब्धता पर बीसीसीआई के फैसले का इंतजार है। मौजूदा स्थिति को देखते हुए इस तरह की संभावना नहीं है कि ये दोनों ही खिलाड़ी पहले एकदिवसीय मैच के लिए उपलब्ध रहेंगे।

राहुल की खराब फॉर्म और एकदिवसीय प्रारूप में रोहित शर्मा और शिखर धवन की स्थापित जोड़ी को देखते हुए राहुल को अंतिम एकादश में मौका मिलने की संभावना काफी कम है। बड़ा सवाल हालांकि पंड्या की उपलब्धता को लेकर है क्योंकि यह ऑलराउंडर 10 ओवर गेंदबाजी करने के अलावा मध्यक्रम में बल्लेबाजी करने की अपनी क्षमता से टीम को अहम संतुलन मुहैया कराता है। पंड्या की गैरमौजूदगी का मतलब है कि भारत को अपने गेंदबाजी आक्रमण में बदलाव करना पड़ सकता है।

तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को पहले ही मौजूदा सीरीज और न्यू जीलैंड दौरे से आराम दिया जा चुका है। इससे टीम प्रबंधन को अपने गेंदबाजी आक्रमण के साथ आखिरी प्रयोग का मौका मिलेगा। भुवनेश्वर कुमार का खेलना लगभग तय है और यह कोहली पर निर्भर करता है कि पंड्या की गैरमौजूदगी में वह तीन तेज गेंदबाजों के आक्रमण के साथ उतरते हैं या नहीं। ऐसी स्थिति में मोहम्मद शमी और खलील अहमद को अंतिम एकादश में मौका मिल सकता है क्योंकि विश्व कप के लिए भारत इसी चौकड़ी को बरकरार रखने का प्रयास कर रहा है।

एससीजी की पिच पर हल्की घास देखी जा सकती है और इससे भारतीय कप्तान तीन तेज गेंदबाज और दो स्पिनर के आक्रमण के साथ उतर सकते हैं। कोहली ने साथ ही कहा है कि पंड्या की गैरमौजूदगी में रविंद्र जडेजा ऑलराउंडर की भूमिका निभा सकते हैं। ऐसी स्थिति में जडेजा बाएं हाथ के कलाई के स्पिनर कुलदीप यादव के साथ स्पिन आक्रमण का हिस्सा होंगे जबकि जरूरत पड़ने पर केदार जाधव कामचलाऊ गेंदबाज की भूमिका निभा सकते हैं।

दोनों सलामी बल्लेबाजों के बाद कोहली तीसरे नंबर पर उतरेंगे। जाधव, महेंद्र सिंह धोनी और अंबाती रायुडू मध्यक्रम क्रम का हिस्सा हो सकते हैं। इस सीरीज में धोनी और रायुडू की फॉर्म पर विशेष रूप से नजर रहेगी। धोनी 2018 में खराब फॉर्म से जूझते रहे और इस दौरान 20 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में 25 की औसत से 275 रन ही बना सके। यह विकेटकीपर बल्लेबाज इस दौरान एक भी अर्धशतक नहीं जड़ पाया। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट भी 71.42 रहा जो 87.89 के उनके करियर स्ट्राइक रेट से काफी कम है।

भारत चौथे नंबर की महत्वपूर्ण भूमिका के लिए रायुडू को आजमा रहा है और पिछले साल सितंबर में एशिया कप से उन्हें पर्याप्त मौके दे रहा है। इस दौरान रायुडू ने एशिया कप और वेस्ट इंडीज के खिलाफ वनडे सीरीज में 11 एकदिवसीय मैचों में एक शतक और तीन अर्धशतक की बदौलत 56 के औसत से 392 रन बनाए। इस स्थान के अन्य दावेदारों की तुलना में रायुडू के प्रदर्शन में अधिक निरंतरता देखने को मिली है लेकिन उन्होंने जिन परिस्थितियों में प्रदर्शन किया है वे इंग्लैंड के हालात से काफी अलग हैं। रायुडू ऑस्ट्रेलिया और फिर न्यू जीलैंड दौरे पर कैसा प्रदर्शन करते हैं इससे तय होगा कि भारत चौथे नंबर की पहेली का हल खोजने में सफल रहा है या नहीं।

भारत को ऑस्ट्रेलिया के पिछले दौरे पर भी जनवरी 2016 में वनडे सीरीज में इसी तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा था और तब धोनी की अगुआई में भारतीय टीम को 1-4 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी। रोहित और कोहली ने तब पांच मैचों की सीरीज में क्रमश: 441 और 381 रन बनाए थे जबकि धवन ने 287 रन बटोरे थे। मध्यक्रम हालांकि उपयोगी योगदान देने में नाकाम रहा था और मनीष पांडे के अंतिम एकदिवसीय मैच में जुझारू शतक की बदौलत ही भारतीय टीम 5-0 से क्लीनस्वीप से बचने में सफल रही थी।

ऑस्ट्रेलिया में भारत का एकदिवसीय रेकॉर्ड काफी खराब है। विश्व चैंपियनशिप 1985 और सीबी सीरीज 2008 की जीत के अलावा भारत को ऑस्ट्रेलिया के के खिलाफ उसकी सरजमीं पर 48 में से 35 वनडे मैचों में हार का सामना करना पड़ा है। भारत को हालांकि डेविड वॉर्नर (2016 की सीरीज में तीन मैचों में 220 रन) और स्टीव स्मिथ (2016 में पांच मैचों में 315 रन) की गैरमौजूदगी का फायदा मिल सकता है जबकि मिशेल स्टार्क, पैट कमिंस और जोश हेजलवुड की तेज गेंदबाजी तिकड़ी को भी इस सीरीज से आराम दिया गया है।

ऑस्ट्रेलिया ने पहले वनडे से पूर्व अपनी अंतिम एकादश की घोषणा कर दी है जिसमें नाथन लायन को एकमात्र स्पिनर के रूप में जगह मिली है जबकि पीटर सिडल 2010 के बाद पहली बार इस प्रारूप में वापसी करेंगे।

विकेटकीपर बल्लेबाज एलेक्स कैरी एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार पारी का आगाज करेंगे। वह कप्तान आरोन फिंच के साथ सलामी जोड़ी बनाएंगे। मध्यक्रम में उस्मान ख्वाजा, शॉन मार्श और पीटर हैंड्सकॉम्ब को जगह मिली है। मेजबान टीम का बल्लेबाजी क्रम लंबा है। मार्कस स्टोइनिस और ग्लेन मैक्सवेल क्रमश: छठे और सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे।

टीम का तेज गेंदबाजी आक्रमण हालांकि कागज पर कमजोर नजर आता है। आठ साल बाद सिडल वापसी कर रहे हैं जबकि बाएं हाथ के तेज गेंदबाज जेसन बेहरेनडोर्फ को पदार्पण का मौका मिलेगा।

टीमों इस प्रकार हैं: भारत: विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, लोकेश राहुल, शिखर धवन, अंबाती रायुडू, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी, हार्दिक पंड्या, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, रविंद्र जडेजा, भुवनेश्वर कुमार, खलील अहमद, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज में से।

ऑस्ट्रेलिया (अंतिम एकादश): आरोन फिंच (कप्तान), एलेक्स कैरी, उस्मान ख्वाजा, शान मार्श, पीटर हैंड्सकोंब, मार्कस स्टोइनिस, ग्लेन मैक्सवेल, नाथन लायन, पीटर सिडल, झाय रिचर्डसन और जेसन बेहरेनडोर्फ। समय: मैच भारतीय समयानुसार सुबह सात बजकर 50 मिनट पर शुरू होगा।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

IPL 12 में चेन्नै का विजयी आगाज, बैंगलोर को 7 विकेट से हराया

नई दिल्ली एमएस धोनी की कप्तानी वाली चेन्नै सुपर किंग्स (CSK) ने इंडियन प्रीमियर लीग …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)