Thursday , April 25 2019
Home / राज्य / AMU में ओवैसी को बुलाने पर विवाद, हिंसा में पत्रकार समेत दर्जनों घायल

AMU में ओवैसी को बुलाने पर विवाद, हिंसा में पत्रकार समेत दर्जनों घायल

अलीगढ़

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) छात्रसंघ के तत्वावधान में आयोजित राजनीतिक पार्टियों के नेताओं की बैठक के दौरान एएमयू छात्रों ने एक न्यूज चैनल की दो महिला पत्रकारों और कैमरामैनों के साथ मारपीट करते हुए कैमरा तोड़ दिया। वहीं एक छात्र से मारपीट किए जाने को लेकर प्रशासनिक ब्लॉक पर धरने पर बैठे एएमयू छात्र नेता अजय सिंह समेत एक दर्जन छात्रों के साथ बेरहमी से मारपीट कर उन्‍हें घायल कर दिया गया।

जानकारी के मुताबिक, करीब एक दर्जन वाहनों में तोड़फोड़ की गई और आग लगा दी गई, इस दौरान फायरिंग भी हुई। गंभीर रूप से घायल अजय सिंह को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया है। मौके पर पुलिस के आला अधिकारियों के साथ कई थानों की फोर्स, पीएसी और आरएएफ मौजूद है। यह हिंसक तांडव करीब चार घंटे तक चला। दोनों ओर छात्रों और पुलिस फोर्स के साथ हिंदूवादी संगठनों के युवक जमे हुए हैं। स्थिति अभी तनावपूर्ण बनी हुई है।

बैठक में ओवैसी को बुलाने का विरोध कर रहे थे छात्र
एएमयू छात्रसंघ ने मंगलवार को सोशल साइंस फैकल्टी के कॉन्फ्रेंस हॉल में कई राजनीतिक पार्टियों के नेताओं की बैठक बुलाई थी। इस कार्यक्रम में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता और सांसद असदुद्दीन ओवैसी को भी आमंत्रित किया गया था। इस बैठक में लोकसभा में हिस्सेदारी के लिए नेता विचार विमर्श किया जा रहा था। बैठक में आमंत्रित ओवैसी के प्रवेश को लेकर एएमयू छात्र नेता अजय सिंह ने कुलपति को पत्र भेजकर प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की मांग की और स्वयं उनका विरोध करने की घोषणा की थी।

गाड़ियों में लगाई आग
इसी के तहत अजय सिंह कुछ साथी छात्रों के साथ एएमयू सर्कल पर पहुंच गए। इस दौरान उनके साथी एएमयू छात्र मनीष चौधरी के साथ परिसर में कुछ छात्रों ने मारपीट कर दी। मनीष अपने को बचाते हुए अजय सिंह के पास आए तो अजय सिंह अपने साथ एक दर्जन छात्रों को लेकर प्रशासनिक ब्लॉक पर धरने पर बैठ गए। इसी बीच परिसर से हजारों छात्रों की भीड़ आई और अजय सिंह समेत धरने पर बैठे छात्रों को दौड़ा-दौड़ाकर बेरहमी से मारा पीटा।

यही नहीं सर्कल चौराहे पर आते-जाते युवकों और पत्रकारों को भी पीटा गया, साथ ही वहां खड़े वाहनों में तोड़फोड़ की गई। इस दौरान छात्रों की ओर से कुछ फायरिंग भी हुई। इसकी सूचना पाकर शहर के कुछ युवक पहुंचे और बहुत मुश्किल से घायल अजय सिंह को निकालकर लाए और उन्हें वरुण ट्रॉमा सेंटर में ले जाकर भर्ती कराया। घायल अजय सिंह का कहना है, ‘हिंदू छात्रों के साथ परिसर में अन्याय होता है और उसका जब विरोध किया जाता है तो उनपर हमला किया जाता है।’

गाड़ियों में की गई तोड़फोड़
इसी बैठक की कवरेज के लिए दिल्ली से आई दो महिला रिपोर्टरों और कैमरा मैन को कॉन्फ्रेंस हॉल के बाहर छात्रों ने कवरेज करने से रोका। छात्रों ने मीडियाकर्मियों से मारपीट की और उनका कैमरा तोड़ दिया। पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद छात्रों के बीच से उन्‍हें बाहर निकाला। एएमयू परिसर के अंदर और बाहर यह तांडव करीब चार घंटे तक चला। बाइकों और गाड़ियों में तोड़-फोड़ कर आग लगा दी गई। इस दौरान एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी, एएसपी नीरज जादौन सभी सीओ, कई थानों की फोर्स, पीएसी और आरएएफ की टीम भी वहां पहुंच गई।

मारपीट के संबंध में पत्रकार नलिनी शर्मा ने थाना सिविल लाइन में मुकदमा दर्ज कराया है। जिलाधिकारी चंद्र भूषण सिंह ने इस संबंध में बताया, ‘एएमयू की सभी घटनाओं की जिम्मेदारी एएमयू प्रशासन की है। जिला प्रशासन को वहां दखल देने की अनुमति नहीं है। सुरक्षाबल मांगने पर ही हम उपलब्ध कराते हैं। अधिकारियों को निर्देश दे दिए हैं कि सुरक्षा व्यवस्था में कोई कोताही नहीं बरती जाए।’ उधर एसपी सिटी आशुतोष द्विवेदी का कहना है कि एएमयू परिसर में कवरेज करने आई महिला पत्रकारों से हुई मारपीट, बदसलूकी और लूट की घटना का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वहीं छात्रों की ओर से अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर आने पर विधिक कार्रवाई की जाएगी। साथ ही पूरे मामले की जांच एसआईटी से कराई जाएगी।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

अखिलेश यादव बोले- गठबंधन देगा देश को नया प्रधानमंत्री

कन्नौज समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरूवार को दावा किया है कि एसपी-बीएसपी-आरएलडी गठबंधन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)