Tuesday , March 19 2019
Home / Featured / बालाकोट से चिढ़ा PAK बोला- बम गिराने वाले मोदी से वापस लो अवॉर्ड

बालाकोट से चिढ़ा PAK बोला- बम गिराने वाले मोदी से वापस लो अवॉर्ड

नई दिल्ली,

पाकिस्तान ने बालाकोट में भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए एयर स्ट्राइक के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण प्रमुख को पत्र लिखकर शिकायत की है. पाकिस्तान ने इस पत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मिले ‘चैंपियन ऑफ अर्थ’ के पुरस्कार को वापस लेने की मांग की है. पाकिस्तान ने इस पत्र में कहा है कि भारत ने 26 फरवरी को बालाकोट में एयर स्ट्राइक की जिससे जंगल को काफी नुकसान पहुंचा है. कई पेड़ बर्बाद हो गए हैं. ऐसे में भारत पर कार्रवाई होनी चाहिए. बता दें कि तीन अक्टूबर, 2018 को संयुक्त राष्ट्र ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘चैंपियन ऑफ अर्थ’ पुरस्कार से नवाजा था.

मोदी को क्यो मिला था यह पुरस्कार
UN ने पीएम मोदी को पर्यावरण के क्षेत्र में ऐतिहासिक कदम उठाने के लिए इस खिताब से सम्मानित किया था. यूएन चीफ एंटोनियो गुटेरेस ने प्रधानमंत्री मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों को सम्मानित किया. दोनों को अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (आईएसए) में उनके बेहतरीन काम और पर्यावरण से संबंधित कार्य के अंतर्गत सहयोग के नए क्षेत्रों को आगे बढ़ाने के लिए यह पुरस्कार दिया गया.

मैक्रों द्वारा पर्यावरण के लिए वैश्विक समझौता के संबंध में किए गए कार्य और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा 2022 तक भारत में सिंगल यूज प्लास्टिक के प्रयोग को समाप्त करने की प्रतिबद्धता जताने के लिए भी इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

भारत और फ्रांस ने 2015 में कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (सीओपी) के दौरान पेरिस जलवायु समझौते के मसौदे को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. मोदी ने फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के साथ सीओपी 2015 के दौरान भारत की पहल पर आईएसए को लांच किया था. गौरतलब है कि पुलवामा आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ के जवानों के शहीद होने के बाद भारतीय सेना के लड़ाकू विमानों ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

भारत से ही हो सकता है मेरा उत्तराधिकारी: दलाई लामा

धर्मशाला तिब्बती बौद्ध धर्मगुरू दलाई लामा का कहना है कि उनका उत्तराधिकारी भारत से हो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)