Tuesday , July 16 2019
Home / Featured / जेट संकट गहराया, सिर्फ 41 विमान ऑपरेशनल

जेट संकट गहराया, सिर्फ 41 विमान ऑपरेशनल

नई दिल्ली

वित्तीय संकट से जूझ रही जेट एयरवेज के परिचालन पर इसका बहुत ही बुरा असर दिख रहा है। डॉरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) यानी नागर विमानन महानिदेशायल ने मंगलवार को बताया कि अभी जेट एयरवेज के सिर्फ 41 एयरक्राफ्ट ही उड़ रहे हैं जो उसके बेड़े की मूल क्षमता 119 विमानों का सिर्फ एक तिहाई है। कर्ज के बोझ तले दबी यह एयरलाइन अभी कर्जदाताओं और अपने बड़े साझेदार एतिहाद एयरवेज के साथ रेस्क्यू डील की कोशिश कर रही है।

DGCA ने एक बयान में बताया कि स्थिति गंभीर है और आने वाले हफ्तों में जेट अपने उड़ रहे विमानों की संख्या और घटा सकती है। नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज ने सोमवार को अपने 4 और विमानों को उड़ान भरने से रोक दिया था। पट्टे पर लिए विमानों का किराया नहीं चुकाए जाने के चलते अब उसके सिर्फ 41 विमान ही उड़ान भर रहे हैं। इस वजह से उसकी तमाम उड़ानें रद्द हो गई हैं।

जेट एयरवेज एक अरब डॉलर (करीब 6,895 करोड़ रुपये) से भी ज्यादा के कर्ज में डूबी है। इस वजह से वह बैंकों, सप्लायरों, पायलटों को समय पर भुगतान नहीं कर पा रही है। इनमें से कुछ ने एयरलाइन के साथ लीज डील को खत्म कर दिया है।

DGCA ने यह भी कहा है कि ऐसे पायलट, केबिन क्रू और ग्राउंड स्टाफ, जो किसी भी तरह के तनाव की शिकायत कर रहे हैं, उन्हें ड्यूटी पर नहीं लगाया जाना चाहिए। महानिदेशालय ने साथ में यह भी हिदायत दी है कि जेट एयरवेज को अपने विमानों का नियमित तौर पर मेनटेनंस करना चाहिए, भले ही वे फिलहाल ग्राउंडेड हों।

जेट संकट गहराने पर सक्रिय हुआ नागर विमानन मंत्रालय
इस बीच, नागर विमानन मंत्री सुरेश प्रभु ने मंगलवार को जेट एयरवेज के मामले में अपने मंत्रालय के सचिव को आपात बैठक करने के निर्देश दिए। प्रभु ने यह निर्देश ऐसे समय में जारी किया है जब कर्ज के भारी बोझ से दबी जेट एयरवेज बड़ी संख्या में अपने विमानों को उड़ान भरने से रोक रही है। इस वजह से उसकी तमाम उड़ानें रद्द हो गई हैं। साथ ही वह भारी नकदी संकट का सामना भी कर रही है।

प्रभु ने एक ट्वीट में कहा, ‘नागर विमानन सचिव को जेट एयरवेज के मामले में आपात बैठक करने के निर्देश दिए हैं। अडवांस बुकिंग, उड़ानों के रद्द होने, रिफंड और सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर विचार-विमर्श करने के लिए कहा।’ प्रभु ने कहा, ‘उनसे (सचिव) नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) से तत्काल जेट पर रिपोर्ट मांगने को कहा गया है।’ इससे पहले जेट एयरवेज के विमान रखरखाव इंजिनियरों के संघ ने डीजीसीए को पत्र लिखकर उड़ानों की सुरक्षा और उन्हें 3 माह से वेतन नहीं मिलने का मुद्दा उठाया है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

सामूहिक नकल: 959 छात्रों ने लिख डाला एक जैसा गलत जवाब

अहमदाबाद गुजरात सेकंडरी ऐंड हायर सेकंडरी एजुकेशन बोर्ड (GSHSEB) के अधिकारी उस वक्त हैरान रह …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)