Thursday , April 25 2019
Home / भेल मिर्च मसाला / अपर महाप्रबंधक भी लगे कतार में

अपर महाप्रबंधक भी लगे कतार में

भोपाल

वर्ष 2008 में अपर महाप्रबंधक बने कुछ अफसर आज भी नौ साल बाद महाप्रबंधक बनने की आस लगाये बैठे है। खैर इनका तो भगवान ही मालिक है। 2009 में अपर महाप्रबंधक बने एके चतुर्वेदी, 2010 के अमिताभ दुबे और जैसे काबिल अफसर एप्रोच की कमी के चलते लगातार प्रमोशन में चोट खाते आ रहे है। 2012 में बने अपर महाप्रबंधकों की तो इनमे से ब्रजेश अग्रवाल, एनके आजवानी के महाप्रबंधक बनने के सपने टूट से गये है। अब 2013 और 2014 में बने अपर महाप्रबंधक भी महाप्रबंधक बनने की आस लगाये बैठे हैं वहीं 2015 के अफसर भी प्रमोशन की कतार में खड़े हैं। मजेदार बात यह है कि इस बार भी सिर्फ तीन या चार अफसर ही महाप्रबंधक बन पायेंगे। वह भी जिनकी ज्यादा एप्रोच हो।

ठाकुर साहब अब तो लगा लो ईडी दरबार

तत्कालीन कार्यपालक निदेशक एमके दुबे ने टाउनशिप और कारखाने के कर्मचारियों की समस्याओं को सुनने ईडी बंगले पर ईडी दरबार लगाने की परम्परा शुरू की थी। जो काफी हद तक सफल भी रही। ईडी तक नही पहुंच पाने वाले कर्मचारी ईडी दरबार में जाकर ईडी साहब के सामने अपना दुखड़ा सुनाया करते थे। यह परम्परा पूर्व ईडी एएमवी युगांधर के कार्यकाल तक सुचारू रूप से चलती रही। उनके रिटायरमेंट के बाद अब इस परम्परा को शुरू करने की जवाबदारी नये कार्यपालक निदेशक को निभाना है। अब लोग कहने लगे है कि ठाकुर साहब दो साल से ज्यादा का समय हो गया है अब तो लगा लो ईडी दरबार। साहब दो साल से प्रोडक्शन में ही उलझे रहे। उनके मातहतों ने भी ईडी दरबार शुरू करने की सलाह देने की जरूरत ही नहीं समझी। कर्मचारी कहने लगे साहब अब तो लगा लो ईडी दरबार ।

कारखाने की चोरों की हिम्मत

आज कल भेल कारखाने में लगातार बढ़ रही चोरी की वारदातों से जहां भेल कर्मचारी परेशान हैं वहां आमजन चोरों की हिम्मत की दाद देने से नहीं चूक रहे हैं। सवाल भेल की सुरक्षा से जुड़ा हुआ है। चर्चा है कि हाल ही में आईएमएम ब्लॉक 2 में फिर से चांदी चोरी होने की खबर आम हो गई है। इसके पहले भी इसी ब्लॉक में चांदी चोरी हो चुकी है। जिसकी जांच भी सार्वजनिक नहीं हुई है। रही बात कॉपर चोरी की तो वह भी न सीआईएसएफ से छिपी है और न ही भेल की विजिलेंस से। चर्चा है कि कुछ समय पहले सुरक्षा व्यवस्था को चैलेंज करते हुए एक मार्शल कार कारखाने की 6 नंबर गेट से अंदर गई और फिर बाहर आकर चली गई। सुरक्षाकर्मी सिर्फ देखते ही रह गये। चर्चा है कि हाल ही में स्वीचगियर विभाग में रातोंरात कुछ लोग चोरी की नियत से घुस गये जब लोगों ने हल्ला किया तो माल छोड़कर भाग गये। आजकल ऐसी कई घटनाएं कारखाने में चर्चा का विषय बनी हुई हैं।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

भेल के जीएम की वापसी की अटकलें

भोपाल पिछले साल जून माह में भेल भोपाल यूनिट से अपर महाप्रबध्ंाक से महाप्रबंधक बने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)